Assembly Banner 2021

Rajasthan: बहादुर बेटी वसुंधरा को सीएम गहलोत ने दी सीधे सब इंस्पेक्टर की नौकरी, जानिये क्या है पूरा मामला

सीएम गहलोत ने वसुंधरा चौहान को बधाई देते हुये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर उन्हें पुलिस में उपनिरीक्षक पद पर नियुक्ति दिये जाने की घोषणा की है.

सीएम गहलोत ने वसुंधरा चौहान को बधाई देते हुये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर उन्हें पुलिस में उपनिरीक्षक पद पर नियुक्ति दिये जाने की घोषणा की है.

Brave daughter of Rajasthan gets a big honor: अपनी जान की परवाह नहीं कर बदमाशों का मुकाबला करने में पुलिस की मदद करने वाली राजस्थान की बेटी वसुंधरा चौहान (Vasundhara Chauhan) को प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने बड़ा सम्मान दिया है.

  • Share this:
जयपुर/ धौलपुर. राजस्थान की बहादुर बेटी वसुंधरा चौहान (Vasundhara Chauhan) को राज्य सरकार ने राजस्थान पुलिस में सीधे सब इंस्पेक्टर (Police Sub Inspector) के पद पर निुयक्ति दी है. सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women's Day) पर इसकी घोषणा की. पिछले करीब एक सप्ताह से प्रदेशभर में 'आयरन लेडी' के नाम से चर्चित हो रही 25 वर्षीय वसुंधरा चौहान ने हाल ही में 3 मार्च को अपनी जबर्दस्त बहादुरी का परिचय दिया था.

वसुंधरा ने पुलिस की गिरफ्त से कुख्यात बदमाश को छुड़ाने का प्रयास कर रहे उसके साथी बदमाशों का अपनी जान की परवाह किये बिना मुकाबला किया था. उसके बाद से ही वसुंधरा को सम्मानित किये जाने की मांग उठ रही थी. सीएम अशोक गहलोत ने इस मांग पर गंभीरता से विचार करते हुये वसुंधरा को राजस्थान पुलिस में सीधे सब इंस्पेक्टर के पद पर नौकरी देकर बड़ा उदाहरण पेश किया है. राज्य के गृह विभाग ने वसुंधरा की नियुक्ति के आदेश भी जारी कर दिये हैं. उसके बाद से वसुंधरा को बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है.

यह है पूरा मामला
गत 3 मार्च को हार्डकोर बदमाश धर्मेन्द्र उर्फ लुक्का को भरतपुर से पेशी के लिये धौलपुर लाया गया था. धौलपुर न्यायालय में लुक्का को पेश कर चालानी गार्ड रोडवेज बस से उसे वापस लेकर जा रही थी. इस दौरान रास्ते में सैंपऊ के पास लुक्का के 8 हथियारबंद साथी बदमाशों ने उसे चालानी गार्ड से छुड़ाने के प्रयास किया. उस बस में धौलपुर निवासी एनसीसी लेफ्टिनेंट वसुंधरा चौहान भी सवार थी. बस में आरएसी के जवान कुमेर सिंह को बदमाशों से उलझते देखकर वसुंधरा चौहान ने बिना एक पल गंवायें चीते सरीखी फुर्ती के साथ कांस्टेबल कुमेर सिंह का साथ देते हुए बदमाशों पर हमला बोल दिया. अचानक हुए इस घटनाक्रम में बदमाश कैदी को फरार नहीं करा पाये और पुलिस के हथियारों को भी नहीं लूट सके. वसुंधरा की इस बहादुरी के लिये धौलपुर पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने उसकी जमकर पीठ थपथपाई.
पुलिस में उपनिरीक्षक पद पर नियुक्ति दिये जाने की घोषणा


जांबाज एवं निर्भीक बेटी वसुंधरा चौहान की बहादुरी से प्रभावित होकर स्थानीय विधायक गिर्राजसिंह मलिंगा ने विधानसभा में सीएम अशोक गहलोत से मांग की की कि उसे पुलिस में उपनिरीक्षक पद पर पदस्थापित किया जाये. सीएम गहलोत ने उनकी मांग को गंभीरता से लेते हुए वसुंधरा चौहान को बधाई देते हुये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर उसे पुलिस में उपनिरीक्षक पद पर नियुक्ति दिये जाने की घोषणा की है.

सीएम गहलोत ने ट्वीट कर दी बधाई
उसके सीएम गहलोत ने दो ट्वीट कर कहा कि 3 मार्च को धौलपुर में कुख्यात दस्यु धर्मेन्द्र उर्फ लुक्का को उसके हथियारबंद साथियों ने छुड़ाने का प्रयास किया था. तब उसी बस में सवार 25 वर्षीय युवती वसुन्धरा चौहान ने अद्भुत साहस का परिचय देकर अपनी जान की परवाह ना करते हुए बदमाशों के मंसूबों को नाकाम कर शौर्य की मिसाल पेश की है. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर प्रदेश सरकार वसुन्धरा चौहान के शौर्य को सम्मानित करते हुए उन्हें पुलिस सब इंस्पेक्टर के पद पर सीधी नियुक्ति देने की घोषणा करती है. वसुन्धरा NCC में 'सी' सर्टिफिकेट धारक हैं एवं क्रिमिनोलॉजी विषय की छात्रा रही हैं. वसुन्धरा चौहान को हार्दिक बधाई.

वसुंधरा बोली बहुत ही सुखद क्षण है
इस सम्मान के बाद वसुंधरा ने कहा कि उनके द्वारा किए गए कार्य को लेकर जिस तरह सर्वत्र उन्हें जो प्यार, स्नेह और सम्मान मिला है. वह उनके लिए बहुत ही सुखद क्षण हैं. बकौल वसुंधरा मैं उससे बहुत गद्गद हूं. वसुंधरा ने कहा मुझे लग रहा है कि मानो हर कोई मेरे ही परिवार का सदस्य है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज