Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक टली, अब कल सुबह 11 बजे होगा विधानसभा सत्र को लेकर मंथन
Jaipur News in Hindi

Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक टली, अब कल सुबह 11 बजे होगा विधानसभा सत्र को लेकर मंथन
राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत आज रात 9:30 बजे विधायकों के साथ बैठक करेंगे. (फाइल फोटो)

विधायकों के साथ होने वाली इस बैठक में मौजूदा राजनीतिक हालात पर होगी चर्चा. उम्मीद की जा रही है कि विधानसभा सत्र को लेकर कोई रणनीति बन सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 20, 2020, 11:13 PM IST
  • Share this:
जयपुर : जयपुर (Jaipur) से अभी-अभी एक बड़ी खबर आई है. सियासी उठापटक (Political Crisis) के बीच सोमवार रात को जयपुर के होटल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) की कांग्रेस के विधायकों (Congress MLAs) के साथ होने वाली बैठक टल गयी है. विधायकों के साथ होने वाली इस बैठक में मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा होनी थी, लेकिन अब ये बैठक मंगलवार सुबह 11 बजे होगी. उम्मीद की जा रही है कि विधानसभा सत्र को लेकर कोई रणनीति बन सकती है.

इससे पहले सोमवार दोपहर में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट (Sachin Pilot) पर निशाना साधते हुए कई गंभीर आरोप लगाए हैं. सीएम ने कहा कि एक छोटी खबर भी नहीं पढ़ी होगी किसी ने, जिसमें कहा गया हो कि पायलट साहब को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटाना चाहिए. हम जानते थे कि वो निकम्मा है, नाकारा है, कुछ काम नहीं कर रहा है खाली लोगों को लड़वा रहा है.

सचिन छह महीने से रच रहे थे साजिश- गहलोत



इसके अलावा गहलोत ने कहा कि पायलट सात साल तक राजस्‍थान कांग्रेस के अध्‍यक्ष रहे, जो कि बड़ी बात है. उन पर सोनिया गांधी का विश्‍वास था, लेकिन राज्‍य में कांग्रेस की सरकार बनने के छह महीने बाद ही वह भाजपा के साथ मिलकर साजिश रचने लगे. साथ ही कहा कि सचिन पायलट ने जो खेल खेला वो दुर्भाग्यपूर्ण है. किसी को यकीन नहीं होता था कि वो ऐसा कर सकता था है. मासूम चेहरा, हिंदी व अंग्रेजी में अच्छी कमांड के साथ उन्‍होंने पूरे देश की मीडियो को प्रभावित कर रखा है.
गहलोत ने कही ये बड़ी बात
गहलोत ने कहा कि कभी हमने 7 साल में पीसीसी चीफ बदलने की मांग नहीं की. पता था कि वह निकम्मा और नाकारा है, मैं कोई बैंगन या सब्जी बेचने नहीं आया हूं. मैं यहां सीएम बनने आया हूं. यही नहीं, हमने यहां के लोगों को उनका मान सम्मान करना सिखाया. वो व्यक्ति कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंपकर गया. साथ ही गहलोत ने कहा कि यह खेल 10 मार्च को होना था और रात को 2 बजे गाड़ियां जानी थीं. राजेश पायलट के स्मारक से सीधे निकलना था और इसके कॉर्पोरेट हाउस स्‍पॉन्‍सर थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज