कांग्रेस ने BJP के लिए खुला छोड़ा मैदान, आगामी चुनावों में इस कारण होगा नुकसान!
Jaipur News in Hindi

कांग्रेस ने BJP के लिए खुला छोड़ा मैदान, आगामी चुनावों में इस कारण होगा नुकसान!
कांग्रेस ने टीवी चैनलों की बहसों में पार्टी प्रवक्ताओं के शामिल होने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.

कांग्रेस ने टीवी चैनलों की बहसों (TV Debates) में पार्टी प्रवक्ताओं पर प्रतिबंध लगाया हुआ है. कांग्रेस (Indian National Congress) का यह फैसला आगामी निकाय (Local Body Elections) और पंचायत चुनावों (Panchayat Elections) में पार्टी के लिए नुकसानदायक हो सकता है.

  • Share this:
जयपुर. लोकसभा चुनावों (Indian general election, 2019) की हार के बाद कांग्रेस (Indian National Congress) का टीवी बहसों (TV Debates) के बहिष्कार (Boycott) का फैसला अब कांगेस शासित राज्यों की सरकारों के लिए नुकसान का सबब बन गया है. कांग्रेस संगठन का फैसला सरकार पर भारी साबित हो रहा है. लोकसभा चुनावों की हार के बाद मई में कांग्रेस ने एक माह के लिए देश भर में टीवी बहसों में प्रवक्ता या पैनलिस्ट (Spokespersons/Media panelists) भेजने पर प्रतिबंध लगाया था, लेकिन बाद में इसे अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा दिया गया. यह फैसला अब राज्य की कांग्रेस सरकार के लिए नुकसानदेह साबित हो रहा है.

बीजेपी एकतरफा माहौल बनाने में सफल

टीवी बहसों में बीजेपी आक्रमक तरीके से सरकार को कानून व्यवस्था सहित प्रमुख मुद्दों पर घेर रही है लेकिन सामने जवाब देने के लिए कांग्रेस का कोई प्रवक्ता नहीं होता, इसकी वजह से बीजेपी को सरकार को घेरने का खुल मैदान मिल गया है. टीवी बहसों से कांग्रेस के गायब रहने का उसे कई मौकों पर नुकसान उठाना पड़ा है. सरकार की कई योजनाओं और घोषणाओं पर प्रभावी पक्ष नहीं रखा जा सका और बीजेपी एकतरफा माहौल बनाने में सफल हो गई.



दो माह बाद शहरी निकायों के चुनाव हैं और अगले साल फरवरी में पंचायतीराज संस्थाओं के चुनाव हैं. कांग्रेस को बहस से दूर भागना निकाय और पंचायत चुनावों में नुकसान का सबब बन सकता है, इसे लेकर पार्टी के भीतर सवाल भी उठने लगे हैं. बताया जाता है कि संभावित नुकसान को देखते हुए पार्टी नेता हाईकमान के समक्ष इस मुद्दे ​को उठाने की तैयारी कर रहे हैं, हाईमान को टीवी बहसों में भाग लने के प्रतिबंध पर राजस्थान में छूट देने की मांग कर सकते हैं.

कांग्रेस को नहीं भागना चाहिए-कटारिया

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का कहना है कि लोकसभा चुनाव की हार के बाद कांग्रेस हताश हो गई है और इन्हें जनता ने जिस तरह का झटका दिया है उससे उबर ही नहीं पाए हैं. हार जीत चलती रहती है लेकिन टीवी बहसों से कांग्रेस को नहीं भागना चाहिए, कम से कम जवाब तो देना चाहिए.

पार्टी को फिर से विचार करना चाहिए- सुशील शर्मा

टीवी बहसों में कांग्रेस के प्रवक्ता-पैनलिस्ट भेजने के प्रतिबंध पर कांग्रेस के कई नेता भी सवाल उठा रहे हैं. कांग्रेस विधि विभाग के प्रदेशााध्यक्ष और कांग्रेस के प्रदेश महासचिव सुशील शर्मा का कहना है कि टीवी बहसों में कांग्रेस प्रवक्ताओं-पैनलिस्ट को नहीं भेजने का नुकसान हो रहा है, पार्टी नेतृत्व को प्रतिबंध पर फिर से विचार करना चाहिए, इसकी वजह से बीजेपी को एकतरफा हमला करने का मौका मिल रहा है. वहीं परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास का कहना है ​कि इस पर सीएम और प्रदेशाध्यक्ष मिल कर फैसला करेंगे.

ये भी पढ़ें- गैंगरेप पीड़िता की जुबानी, कैसे 3 शराबियों ने युवती को रास्ते में रोका और फिर...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading