राजस्थान : कांग्रेस की भंग कार्यकारिणियां कर रहीं अवैध नियुक्तियां, पार्टी को मिलीं कई जगहों से शिकायतें

कांग्रेस के प्रदेश सचिव जसवंत गुर्जर मानते हैं कि गड़बड़ियां हो रही हैं.

कांग्रेस के प्रदेश सचिव जसवंत गुर्जर मानते हैं कि गड़बड़ियां हो रही हैं.

प्रदेश सचिव जसवंत गुर्जर के मुताबिक, पार्टी में नियुक्तियों को लेकर अभी कई जिला और ब्लॉक्स में खुला खेल चल रहा है. निवर्तमान पदाधिकारी अपने लेटर हेड पर ही नियुक्तियां जारी कर रहे हैं जो अवैध है.

  • Share this:
जयपुर. कांग्रेस (Congress) में अवैध रूप से नियुक्तियों का खेल चल रहा है. अभी प्रदेश भर में जिला और ब्लॉक कार्यकारिणियां भंग (dissolved executives) हैं. बावजूद निवर्तमान कार्यकारिणियों द्वारा धड़ल्ले से नियुक्तियां (appointments) की जा रही हैं. प्रदेश में उपजे सियासी संकट (Political crisis) के बाद कांग्रेस ने अपनी सभी जिला और ब्लॉक कार्यकारिणियां भंग कर दी थीं. लेकिन इन भंग कार्यकारिणियों द्वारा अभी तक कई तरह की कारगुजारियां की जा रही हैं. अधिकार नहीं होने के बावजूद इन भंग कार्यकारिणियों द्वारा अभी तक संगठन में अवैध नियुक्तियां की जा रही हैं. इन नियुक्तियों के जरिए नेता अपनी पावली चला रहे हैं और लोगों को बेवकूफ बना रहे हैं. सचिव पीसीसी मुख्यालय ललित तूनवाल का कहना है कि निवर्तमान कार्यकारिणी से पार्टी द्वारा वर्तमान में काम तो लिया जा रहा है, लेकिन पार्टी के मूल संगठन और अग्रिम संगठनों के अलावा अभी कोई भी नियुक्तियां वैध नहीं हैं. प्रदेश स्तर से अनुमोदन है.

अवैध नियुक्तियों को मान्यता नहीं देता संगठन

प्रदेश सचिव जसवंत गुर्जर के मुताबिक, पार्टी में नियुक्तियों को लेकर प्रक्रिया निर्धारित है. यदि जिलास्तर पर भी नियुक्तियां की जाती हैं तो प्रदेश स्तर से उसका अनुमोदन करवाना होता है. लेकिन अभी कई जिला और ब्लॉक्स में खुला खेल चल रहा है. निवर्तमान पदाधिकारी अपने लेटर हेड पर ही नियुक्तियां जारी कर रहे हैं जो अवैध है और संगठन उन्हें मान्यता नहीं देता है.

प्रदेश नेतृत्व की जानकारी में है
गुर्जर के मुताबिक, ऐसा नहीं है कि पार्टी के प्रदेश नेतृत्व को इसकी जानकारी नहीं है. पार्टी को प्रदेश में कई जगहों से इस तरह की शिकायतें मिल रही हैं और ऐसी फर्जी नियुक्तियां देने वाले निवर्तमान पदाधिकारियों को चिन्हित भी किया जा रहा है. पार्टी जल्दी ही नई कार्यकारिणियों का गठन करेगी और ऐसे नेताओं को कार्यकारिणी में जगह देने से परहेज किया जाएगा जो इस तरह अवैध नियुक्तियां कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज