Jaipur: कृषि विधेयकों के खिलाफ कांग्रेस के 'मेगा आंदोलन' का ऐलान, 24 सितंबर को होगा आगाज

2 अक्टूबर को प्रदेश कांग्रेस किसान मजदूर दिवस मनाएगी.
2 अक्टूबर को प्रदेश कांग्रेस किसान मजदूर दिवस मनाएगी.

केन्द्र सरकार की ओर से कृषि से जुड़े लाये गये 3 विधेयकों (Agricultural bills) पर आने वाले समय में घमासान और तेज होगा. कांग्रेस ने इसके विरोध के लिये बड़े आंदोलन (Mega Movement) का ऐलान किया है.

  • Share this:
जयपुर. कृषि से जुड़े 3 केंद्रीय विधेयकों (Agricultural bills) के खिलाफ अब कांग्रेस आर पार की लड़ाई के मूड में आ गई है. कांग्रेस (Congress) ने तीनों विधेयकों के खिलाफ मेगा आंदोलन (Mega Movement) का ऐलान कर दिया है. राजस्थान सहित पूरे देशभर में कांग्रेस ने आन्दोलन का बाकायदा टाइम टेबल जारी किया है. सभी प्रदेश इकाइयों को AICC ने आंदोलन का टास्क देते हुए इसका पूरा टाइम टेबल और कार्यक्रम भेज दिया है.

24 सितम्बर से लेकर 10 अक्टूबर तक देशभर में इस आंदोलन के तहत कई कार्यक्रम होंगे. हाल के वर्षों में कांग्रेस ने पहली बार इतने व्यापक पैमाने पर आन्दोलन का आगाज किया है. भूमि अधिग्रहण कानून के खिलाफ एनडीए-1 में कांग्रेस ने विरोध किया था, लेकिन उसका स्वरूप इतना बड़ा नहीं था.

राजस्थान पंचायत चुनाव: कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन, 2 सरपंच प्रत्याशियों समेत कई लोगों पर FIR, रसोड़ा चला रहे थे



विधानसभा क्षेत्र मुख्यालय तक धरने प्रदर्शन
प्रदेश प्रभारी अजय माकन 24 सितंबर को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके राजस्थान में इस आंदोलन की शुरुआत करेंगे. पीसी में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी रहेंगे. 28 सितंबर को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से लेकर राजभवन तक कांग्रेस का पैदल मार्च होगा. पैदल मार्च के बाद राज्यपाल को ज्ञापन दिया जाएगा. 2 अक्टूबर को प्रदेश कांग्रेस किसान मजदूर दिवस मनाएगी. 2 अक्टूबर को विधानसभा क्षेत्रों और जिला मुख्यालयों पर कृषि विधेयकों के खिलाफ धरने प्रदर्शन होंगे. 10 अक्टूबर को जयपुर सहित अन्य जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस किसान सम्मेलन आयोजित करेगी.

Rajasthan: RAS महेन्द्र प्रताप सिंह से मिलेंगे तो जीतना सीख जाएंगे

किसान वोट बैंक को साधने की कवायद
कृषि से जुड़े विधेयकों के इतने बड़े स्तर पर विरोध को राजनीतिक प्रेक्षक किसान वोट बैंक पर पकड़ बनाने की कवायद के तौर पर देख रहे हैं. किसान कांग्रेस का परम्परागत वोट बैंक रहा है लेकिन पिछले कई साल से यह वोट बैंक उससे दूर होता जा रहा है. कांग्रेस किसी भी सूरत में किसानों को अपने साथ जोड़कर रखना चाहती है. इसीलिए किसानों से जुड़े इन विधेयकों के खिलाफ इतने बड़े स्तर पर विरोध किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज