लाइव टीवी

कांग्रेस विधायक हरीश मीणा ने ही अशोक गहलोत सरकार पर उठाए गंभीर सवाल
Jaipur News in Hindi

Sudhir sharma | News18 Rajasthan
Updated: February 26, 2020, 5:35 PM IST
कांग्रेस विधायक हरीश मीणा ने ही अशोक गहलोत सरकार पर उठाए गंभीर सवाल
विधायक हरीश मीणा ने अपनी ही पार्टी की अशोक गहलोत सरकार पर गंभीर सवाल उठाए. (फोटो-एफबी से साभार)

उनियारा में बजरी ट्रैक्टर चालक की मौत मामले में कांग्रेस विधायक हरीश मीणा (Harish Meena) ने अपनी ही पार्टी की अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार पर गंभीर सवाल उठाए.

  • Share this:
जयपुर. पिछले साल टोंक (Tonk) के उनियारा में बजरी ट्रैक्टर चालक की पुलिस पिटाई से हुई मौत के मामले में कांग्रेस विधायक हरीश मीणा (Harish Meena) ने जांच प्रक्रिया को लेकर सरकार पर गंभीर सवाल उठाए. हरीश मीणा ने यहां तक कह दिया कि इस मामले की क्या जांच करोगे, जब धरना दिया तब तो मुकदमा हुआ और जब डिप्टी सीएम गए तब तो पोस्टमार्टम हुआ था. अब क्या जांच के लिए सीएम को बुलाना पड़ेगा? कांग्रेस विधायक हरीश मीणा ने ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के जरिए यह मामला सदन में उठाया. हरीश मीणा ने कहा उनियारा में दिन दहाड़े एक ट्रेक्टर चालक को मार दिया जाता है, इसके सैकड़ों गवाह है. मंत्री का जवाब गलत है, पुलिस कई घंटे तक लाश को लेकर घूमती रही. लाश को लेकर पुलिस वाले अस्पताल गए. जब 7 दिन तक मैंने आंदोलन किया तब तो मुकदमा दर्ज हुआ था, डिप्टी सीएम जब मौके पर गए तब तो पोस्टमार्टम हुआ है, अब क्या तफ्तीश होगी. 12 घंटे में कई मेडिकल बोर्ड बदले गए. अब क्या मुख्यमंत्री को लेकर जाउं, मेरे पास पोस्टमार्टम रिपोर्ट है, रिपोर्ट में मौत का कारण मल्टीपल फ्रेक्चर है.

आप धरने पर तो बैठ गए लेकिन FRI करवाने तो जाते, ADG से करवाई जाएगी जांच - धरीवाल
संसदीय कार्यमंत्री शांति धरीवाल ने हरीश मीणा से कहा, आप धरने पर तो बैठ गए लेकिन एफआईआर करवाने तो जाते, कोई भी एफआईआर करवाने नहीं गया. पोस्टमार्टम हुआ उसमें ब्लंट ऑबजेक्ट, ट्रोमा आदि मौत के कारणों में है. सवाल यह कि वह किससे मारा गया? हम एडीजी सिविल राइट से भी जांच करवाने को तैयार है. 3 तारीख की रात को थाने पहुंचे, 4 को एफआईआर हुई. मृतक के परिजनों ने उनियारा थाने के पुलिसवालों पर हत्या का आरोप लगाया. 3.6.19 को मृतक के परिजनों ने लिखित रिपोर्ट पेश की, 4.6.19 को पुलिसकर्मियों को निलंबित किया.

46 गवाहों के बयान लिए. 168 दस्तावेज जब्त किए



मंत्री ने बताया कि इस मामले में एसआई मनीष चारण, हैडकांस्टेंबल राजेश गुर्जर, भगवान गुर्जर, लक्ष्मीचंद, सांवल जाट, रामावतसार जाट इन छह पुलिसकर्मियों को निलंबित किया है. हत्या का प्रकरण दर्ज किया गया है. प्रकरण में हर बिंदु को स्पष्ट करने के लिए 46 गवाहों के बयान लिए. 168 दस्तावेज जब्त किए, दिसंबर 19 के अंत तक जांच रिपोर्ट मिल चुकी है. कोई भी पुलिसकर्मी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें- 

नागौर में मां-पिता की कुल्हाड़ी से हत्या कर भागा युवक, सड़क हादसे में मौत

रतन लाल की शहादत को सलाम करने उमड़े लोग, 7 वर्ष का बेटा राम देगा मुखाग्नि

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 5:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर