Rajasthan: केंद्र के 3 कृषि विधेयकों के विरोध में सड़कों पर उतरी कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा कि हम इसके खिलाफ अंतिम दम तक लड़ेंगे.
कांग्रेस ने कहा कि हम इसके खिलाफ अंतिम दम तक लड़ेंगे.

कांग्रेस (Congress) ने आज केन्द्र सरकार के तीन कृषि बिलों (Agricultural bills) के विरोध में प्रदेशभर में अपना विरोध जताया. कांग्रेस नेताओं ने कहा कि वे इनके खिलाफ अंतिम दम तक लड़ेंगी.

  • Share this:
जयपुर. कृषि से जुड़े तीन कृषि विधेयकों (Agricultural bills) के खिलाफ कांग्रेस (Congress) ने सोमवार को प्रदेश के 22 जिलों में सड़क पर उतरकर विरोध किया. वहीं धारा- 144 वाले 11 जिलों में कलेक्टर्स को ज्ञापन देकर सांकेतिक विरोध किया गया. राजधानी जयपुर में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने ज्ञापन दिया. डोटासरा के साथ राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास और विधायक कृषणा पूनिया रहे.

Jaipur: राजस्थान की बेटी की ऊंची उड़ान, अमेरिकन एयरफोर्स में मिला कमिशन, भाई कैप्टन, बहिन लेफ्टिनेंट

किसानों की जमीनों पर पूंजीपतियों के कब्जा करवाने का षड्यंत्र है तीनों विधेयक
कलक्टर को ज्ञापन देने के बाद कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा केंद्र के तीनों कानून किसान विरोधी हैं. यह किसानों की जमीनों पर पूंजीपतियों के कब्जा करवाने का षड्यंत्र है. कांग्रेस इसके खिलाफ मजबूती से संघर्ष करेगी. डोटासरा ने कहा कि 4 दिसम्बर 2012 को लोकसभा में सुषमा स्वराज ने कहा था कि बड़े बड़े कॉर्पोरेट आएंगे उन्हें किसानों के पसीने की बदबू आएगी. ये किसानों का भला नहीं कर पाएंगे. क्या इतने साल में बीजेपी की सोच किसानों के बारे में बदल गई है ? डोटासरा ने कहा कि केंद्र तीनों कानून को वापस ले. कांग्रेस ने पहले भी विरोध किया था आगे भी तीनों कानूनों को वापस लेने तक विरोध जारी रहेगा.
Rajasthan: RAS महेन्द्र प्रताप सिंह से मिलेंगे तो जीतना सीख जाएंगे, टेरीटोरियल आर्मी में जाने वाले प्रदेश के पहले अधिकारी बने



पीएम मोदी की सोच शहर और कॉर्पोरेट्स को मजबूत करने की है
राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि पीएम मोदी की सोच गांव और किसान को मजबूत करने की नहीं है. वह शहर और कॉरपोरेट को मजबूत करने की है. पीएम मोदी और बीजेपी नेता अमेरिका और यूरोप का उदाहरण दे रहे हैं, लेकिन अमेरिका का उदाहरण देने से पहले यह देखें कि हमारे यहां और अमेरिका में किसान को मिलने वाली सब्सिडी में कितना अंतर है. चौधरी ने कहा कि भारत में किसान को सालाना 15 हजार रुपए से कम सब्सिडी मिलती है, जबकि अमेरिका में हर किसान को सालाना 44 लाख रुपए की सब्सिडी मिलती है. केंद्र सरकार किसान, मंडी, एमएसपी केा खत्म कर रहे हैं. हम इसके खिलाफ अंतिम दम तक लड़ेंगे.

तानाशाही कर बिल पास करवा सकते हैं लेकिन दिल नहीं जीत सकते
परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा कि केंद्र सरकार तानाशाही पर उतर आई है. तानाशाही के जोर पर आप बिल तो पास करवा सकते हैं, लेकिन आप किसान का दिल नहीं जीत सकते. तीन बिलों के खिलाफ किसान सड़कों पर आ गया है. इससे कोरोना फैलेगा तो मोदी सरकार जिम्मेदार होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज