Home /News /rajasthan /

congress to be big changes in organization after chintan shivir in udaipur know what is new strategy politics update rjsr

कांग्रेस चिंतन शिविर के बाद संगठन में होगा बड़ा बदलाव! हजारों नियुक्तियां होंगी, जानें नई रणनीति

कांग्रेस अपना माइक्रो मैनेजमेंट मजबूत करेगी.

कांग्रेस अपना माइक्रो मैनेजमेंट मजबूत करेगी.

कांग्रेस नई रणनीति से देगी बीजेपी को टक्कर: राजस्थान के उदयपुर में आगामी 13 से 15 मई तक होने जा रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर (Congress Chintan Shivir) के बाद संगठन में बड़े स्तर पर बदलाव होने की संभावना है. इस नव संकल्प शिविर (Nav Sankalp Shivir) में बदलाव पर चर्चा की जायेगी. उसके बाद कांग्रेस में छोटे स्तर पर ब्लॉक गठित किये जायेंगे. पार्टी को इससे दोहरा फायदा होगा. पहला फायदा यह कि इससे माइक्रो मैनेजमेंट मजबूत होगा और दूसरा यह कि निचले स्तर तक मजबूत टीम तैयार हो पाएगी.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

वर्तमान में राजस्थान में कांग्रेस के 400 ब्लॉक हैं
कांग्रेस इनको 4000 ब्लॉक्स में विभाजित करेगी

जयपुर. कांग्रेस के 13 से 15 मई तक उदयपुर में होने जा रहे नव संकल्प शिविर (Nav Sankalp Shivir) के बाद पार्टी में कई बड़े बदलाव नजर आएंगे. राजस्थान कांग्रेस भी इस चिंतन शिविर (Congress Chintan Shivir) के बाद मिशन-2023 की तैयारी में ज्यादा सक्रियता से जुटी नजर आएगी. पार्टी में इसकी प्लानिंग भी बड़े स्तर पर की जा रही है. चिन्तन शिविर के बाद प्रदेश कांग्रेस संगठन में एक बड़ा बदलाव यह होने जा रहा है कि पार्टी अब बीजेपी को टक्कर देने के लिए माइक्रो मैनेजमेंट की नीति पर फोकस करेगी.

बीजेपी के मंडल और पन्ना प्रमुख को मात देने के लिए कांग्रेस भी अब सब ब्लॉक बनाने जा रही है. अभी पार्टी संविधान के मुताबिक संगठन की सबसे छोटी इकाई ब्लॉक है. लेकिन प्रदेश में इन ब्लॉक्स को छोटे-छोटे कई ब्लॉक्स में विभाजित कर इनकी कार्यकारिणियां घोषित की जाएंगी. कांग्रेस संगठन के तहत अभी प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 2 ब्लॉक हैं. यानि अभी प्रदेश में कांग्रेस संगठन 400 ब्लॉक में विभाजित है.

पार्टी में करीब 4 हजार सब ब्लॉक हो जाएंगे
अब प्रत्येक ब्लॉक को 10-12 सब ब्लॉक में विभाजित करने की पार्टी की प्लानिंग है. इस तरह प्रदेश में पार्टी के अब करीब 4 हजार सब ब्लॉक हो जाएंगे. छोटे स्तर पर इकाई गठित होने से पार्टी को निचले स्तर तक मैनेजमेंट में आसानी होगी. प्रदेश में करीब 52 हजार बूथ हैं. अभी एक ब्लॉक के क्षेत्र में औसतन 130 बूथों की जिम्मेदारी हो रही है. सब ब्लॉक बन जाने के बाद एक सब ब्लॉक के अधीन महज 12-13 बूथ होंगे.

संगठन में हजारों कार्यकर्ताओं को मिलेगी जगह
बूथ स्तर तक माइक्रो मैनेजमेंट समय की जरुरत है. बीजेपी के बाद कांग्रेस भी अब यह समझ चुकी है और इसी के मद्देनजर छोटे-छोटे ब्लॉक बनाने की तैयारी की जा रही है. पहले उदयपुर में होने जा रहे नव संकल्प शिविर में इस पर चर्चा होगी और उसके बाद छोटे स्तर पर ब्लॉक गठित कर दिए जाएंगे. पार्टी को इससे दोहरा फायदा होगा. पहला फायदा यह कि इससे माइक्रो मैनेजमेंट मजबूत होगा और दूसरा यह कि निचले स्तर तक मजबूत टीम तैयार हो पाएगी.

मिशन 2023-की तैयारियों में ज्यादा उत्साह के साथ जुटेंगे कार्यकर्ता
दरअसल अभी ब्लॉक स्तर तक कार्यकारिणी गठित की जाती है. लेकिन अब सब ब्लॉक स्तर पर कार्यकारिणियां होने से संगठन में ज्यादा लोगों को पद मिलेंगे और टीम मजबूत होगी. प्रत्येक सब ब्लॉक में अगर 10 से 11 लोगों की कार्यकारिणी भी मानें तो करीब 40 से 45 हजार लोगों की टीम तैयार होगी. पद मिलने के बाद कार्यकर्ताओं में ज्यादा जोश होगा और वे मिशन 2023-की तैयारियों में ज्यादा उत्साह के साथ जुटेंगे. इससे पहले डिजिटल सदस्यता अभियान के तहत पार्टी बूथ स्तर तक दो-दो एनरोलर बना चुकी है. यानि कांग्रेस अब बूथ स्तर मजबूत है. बस जरुरत कार्यकर्ताओं में जान फूंकने की है.

Tags: Congress politics, Jaipur news, Rajasthan news, Rajasthan Politics

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर