कोरोना प्रभावित परिवारों को मिलेगी सामाजिक सुरक्षा, गहलोत सरकार पंजाब मॉडल को कर सकती है फॉलो

कोरोना से अब तक प्रदेश में करीब 7700 मौतें हो चुकी हैं. राज्य सरकार कोरोना प्रभावितों के लिए लाई जा रही नीति में शामिल होने वाले परिवारों का आंकड़ा जुटाने में जुटी है.

कोरोना से अब तक प्रदेश में करीब 7700 मौतें हो चुकी हैं. राज्य सरकार कोरोना प्रभावितों के लिए लाई जा रही नीति में शामिल होने वाले परिवारों का आंकड़ा जुटाने में जुटी है.

Corona affected families will get social security: कोरोना प्रभावित परिवारों के लिये प्रदेश की गहलोत सरकार सामाजिक सुरक्षा नीति लायेगी. इसके लिये विभिन्न राज्यों की इस संदर्भ में लागू की गई नीतियों को अध्ययन किया जा रहा है.

  • Share this:

जयपुर. कोरोना (Covid-19) ने कई परिवारों पर अपना कहर ढाया है. कई परिवारों ने जहां इस महामारी में अपने कमाऊ सदस्य को खोया है तो कई बच्चों के सिर से माता-पिता का साया उठ गया है. महामारी के शिकार हुए ऐसे परिवारों को राहत देने के लिए अब राज्य सरकार जल्द ही सामाजिक सुरक्षा नीति (Social security policy) लाने जा रही है. गहलोत मंत्रिपरिषद् के इस फैसले के बाद राज्य सरकार ने इसकी कवायद भी शुरू कर दी है.

ऐसा माना जा रहा है कि प्रभावित परिवारों को राहत देने के लिए इसी महीने में नीति तैयार कर राहत पैकेज का ऐलान किया जा सकता है. पिछले दिनों में विभिन्न राज्यों ने ऐसे परिवारों के लिए राहत पैकेज देने की घोषणा की है जिन्होंने कोरोना से अपने कमाऊ सदस्य को खोया है या जिस परिवार में बच्चे अनाथ हुए हैं. मध्यप्रदेश, दिल्ली और पंजाब ऐसे राज्य हैं जहां ऐसे राहत पैकेज की घोषणा हुई है. राज्य सरकार इन राज्यों के साथ ही दूसरे राज्यों द्वारा लिए गए फैसलों का अध्ययन करवा रही है. राज्य के आर्थिक हालातों को देखते हुए संभावना जताई जा रही है कि राजस्थान सरकार इनमें से पंजाब मॉडल को फॉलो कर सकती है.

Youtube Video

दिल्ली सरकार ने किया है यह फैसला
दिल्ली सरकार ने कमाऊ सदस्य खोने वाले परिवारों को 2500 रुपए प्रतिमाह पेंशन देने का फैसला किया है. अनाथ हुए बच्चों की पढ़ाई और पालन-पोषण का खर्चा भी सरकार उठाएगी. इतना ही नहीं अनाथ हुए बच्चों को 25 साल उम्र होने तक 2500 रुपए महीने की दिल्ली सरकार मदद करेगी. वहीं दिल्ली सरकार ने प्रत्येक मृतक के परिवार को भी 50-50 हजार रुपये की मदद की घोषणा की है.

मध्यप्रदेश और पंजाब सरकार ने की है ये घोषणायें

मध्यप्रदेश सरकार ने भी कोरोना की वजह से बेसहारा हुये बच्चों को निशुल्क शिक्षा की घोषणा की है. अनाथ हुए बच्चों को सरकार 5 हजार रुपए प्रतिमाह पेंशन देगी. कोरोना महामारी के कारण मारे गये व्यक्ति के परिवार को एक लाख रुपए अनुग्रह राशि देने की भी मध्य प्रदेश सरकार ने की घोषणा की है. इसी तरह पंजाब सरकार ने कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को ग्रेजुएशन तक फ्री शिक्षा देने का फैसला किया है. वहीं कमाने वाले सदस्य को खोने वाले परिवार को पंजाब सरकार 1500 रुपए प्रतिमाह पेंशन देगी.



राजस्थान में कवायद शुरू

राजस्थान में तैयार होने वाली नीति में अनाथ हुए बच्चों को ग्रेजुएशन तक फ्री शिक्षा का ऐलान किया जा सकता है. वहीं कमाऊ सदस्य खोने वाले परिवारों को पेंशन की राशि डेढ़ हजार रुपए से लेकर ढाई हजार रुपए तक होने की संभावना जताई जा रही है. पेंशन की राशि के लिए भी अलग-अलग कैटेगरी बनाए जाने की संभावना है. अभी ऐसे पीड़ित परिवारों को पालनहार योजना और सामाजिक सुरक्षा पेंशन जैसे लाभ मिल रहे हैं. लेकिन कोरोना से प्रभावित परिवारों के लिए अलग से प्रावधान किया जाएगा.

कोरोना से अब तक प्रदेश में करीब 7700 मौतें

कोरोना से अब तक प्रदेश में करीब 7700 मौतें हो चुकी हैं. राज्य सरकार कोरोना प्रभावितों के लिए लाई जा रही नीति में शामिल होने वाले परिवारों का आंकड़ा जुटाने में जुट गई है. मुख्यमंत्री की मंशा प्रभावित परिवारों को त्वरित राहत देने की है. ऐसा माना जा रहा है कि इसी महीने के अंत तक राहत पैकेज का ऐलान किया जा सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज