Jaipur: निजी शैक्षणिक ग्रुप ने माफ की 9500 स्टूडेंट्स की 1.5 करोड़ रुपये फीस, अभिभावकों की खुशी का ठिकाना नहीं

इस मौके पर हाल ही में विभिन्न संस्थाओं और अभिभावकों ने कनकपुरा 
स्कूल के निदेशक वीरेन्द्र सिंह का फूल मालाओं से स्वागत किया.
इस मौके पर हाल ही में विभिन्न संस्थाओं और अभिभावकों ने कनकपुरा स्कूल के निदेशक वीरेन्द्र सिंह का फूल मालाओं से स्वागत किया.

प्रदेश के एक निजी शैक्षणिक ग्रुप ने साढ़े नौ हजार विद्यार्थियों की तीन महीने की करीब डेढ़ करोड़ रुपए की फीस माफ करके मिसाल (Precedent) पेश की है. इससे अभिभावक गद्गद हैं और वे फूले नहीं समा रहे हैं.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना संकट (COVID-19) के दौर के तीन महीने की स्कूल फीस माफ (School fees waived) कराने की मांग को लेकर प्रदेश में कई निजी स्कूलों से जुड़ी अभिभावक समितियां आंदोलनरत हैं. वहीं दूसरी ओर प्रदेश के एक निजी शैक्षणिक ग्रुप ने करीब साढ़े नौ हजार विद्यार्थियों की तीन महीने की करीब डेढ़ करोड़ रुपए की फीस माफ करके मिसाल (Precedent) पेश की है. इससे अभिभावक गद्गद हैं और वे फूले नहीं समा रहे हैं.

आर्थिक और मानसिक पीड़ा से जूझ रहे अभिभावकों को राहत
मरुधर डिफेंस एजुकेशन ग्रुप ने अपने 30वें स्थापना दिवस पर जयपुर के कनकपुरा समेत प्रदेशभर में संचालित 10 स्कूलों के के साढ़े नौ हजार स्टूडेंट्स की अप्रैल से जून की फीस को माफ करने की घोषणा की है. चेयरपर्सन किशन सिंह चंपावत के निर्देशों के बाद ग्रुप ने संकट की घड़ी में आर्थिक और मानसिक पीड़ा से जूझ रहे अभिभावकों को राहत देने को लेकर ये निर्णय लिया. ग्रुप के पदाधिकारियों का कहना है कि बीते 30 बरसों में अभिभावकों ने उन्हें पूरा सहयोग दिया. उसका सम्मान करते हुए सभी विद्यार्थियों की 3 महीने की करीब 1 करोड़ 50 लाख फीस माफी की घोषणा की है.

राजस्थान: उत्तर पश्चिम रेलवे जुलाई माह से 48 नई पैसेंजर ट्रेनें शुरू करेगा! यहां देखें पूरी लिस्ट
संस्थाओं और अभिभावकों ने किया फूल मालाओं से स्वागत


इस मौके पर हाल ही में आयोजित विभिन्न संस्थाओं और अभिभावकों ने उनका फूल मालाओं से स्वागत किया. ग्रुप की मेड़ता सिटी, मेड़ता रोड, फुलेरा, डेगाना, पीपाड़ सिटी, गोटन, और अजमेर में शिक्षण संस्थाएं संचालित हैं. जयपुर के कनकपुरा स्थित इस ग्रुप की स्कूल के निदेशक वीरेन्द्र सिंह बताते है कि उनकी ब्रांच समेत ग्रुप की सभी स्कूलों में इस निर्णय को लागू किया जा रहा है. इसका अभिभावकों ने स्वागत किया है.

Jaipur: करीब 4 हजार कर्मचारियों को रोडवेज ने माला पहनाकर घर रवाना कर दिया, क्या है माजरा, पढ़ें इनसाइड स्टोरी

अभिभावक लंबे समय से संघर्षरत हैं
उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट काल के समय के तीन महीनों की स्टूडेंट्स की फीस माफ करने की मांग को लेकर अभिभावकों की कई समितियों प्रयासरत है. इसके लिए वे सोशल मीडिया पर अभियान चलाने के साथ ही सरकार पर भी लगातार दबाव बनाए हुए है. यहां तक कि हाल ही में राज्यसभा चुनाव के दौरान सैंकड़ों अभिभावकों ने कांग्रेस विधायकों की बाड़ाबंदी वाले होटल जाकर वहां जाकर भी अपनी मांग रखी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज