CM गहलोत की नसीहत, कहा- बंगाल की रैलियां छोड़ मेडिकल व्यवस्‍थाओं को ठीक करवाएं पीएम मोदी

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत पीएम मोदी को दी नसीहत. (File)

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत पीएम मोदी को दी नसीहत. (File)

सीएम अशोक गहलोत ने कहा, यह उचित नहीं होगा कि युवाओं से पैसे लिए जाएं और बाकी को निशुल्क वैक्सीन लगाई जाए. केन्द्र सरकार को 60 वर्ष, 45 वर्ष एवं अब 18 वर्ष अधिक आयुवर्ग के वैक्सीनेशन के लिए एक ही नीति अपनानी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 21, 2021, 6:33 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के CM अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से कोरोना (Coronavirus) की भयावहता को देखते हुए बंगाल की चुनावी रैलियां (Bangal Election) छोड़कर मेडिकल व्यवस्थाओं को ठीक करने पर ध्यान देने की अपील की है. उन्होंने कहा कि "जितनी जल्दी हम अपनी व्यवस्थाएं ठीक कर लेंगे उतने ही अधिक लोगों की जान बचाई जा सकेंगी. केन्द्र सरकार रोगियों को दवाएं एवं ऑक्सीजन उपलब्ध करवाना एवं वैक्सीनेशन का काम जल्दी पूरा करना सुनिश्चित करे."

CM अशोक गहलोत ने सोशल मीडिया के जरिए कहा कि "मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से फिर अपील करता हूं कि हालात बिगड़ते जा रहे हैं. कोरोना की भयावहता को देखते हुए बंगाल में रैलियां करना छोड़कर मेडिकल व्यवस्थाओं को ठीक करने पर ध्यान दें. ऑक्सीजन, दवाई एवं टीका उत्पादन के क्षेत्र में भारत दुनिया के सबसे बड़े उत्पादक देशों में शामिल है. फिर भी देश में ऑक्सीजन एवं दवाइयों की कमी से मौतें होना दुर्भाग्यपूर्ण है. दुनिया के अन्य देशों में कभी इसके कारण मौतें नहीं हुई हैं.

केंद्र को निशुल्क वैक्सीनेशन कराने की सलाह 

वैक्सीनेशन को लेकर अशोक गहलोत ने कहा कि "कोविड के इस संकट में राज्यों पर अतिरिक्त भार पड़ने से आमजन को परेशानियां आएंगी एवं राज्यों में विकास कार्य भी प्रभावित होंगे. प्राइवेट सेक्टर को वैक्सीन लगाने की अनुमति देना स्वागतयोग्य कदम है. इससे सक्षम लोग वैक्सीन खरीद कर लगवा सकेंगे एवं सरकार पर भार भी कम होगा. यह घातक कोरोना वायरस अब तेजी से फैल रहा है एवं संक्रमितों की मृत्यु दर भी अधिक है. ऐसे में केन्द्र सरकार को वैक्सीन की कीमत का भार युवाओं पर ना डालकर तेजी से निशुल्क वैक्सीनेशन करना चाहिए."
युवाओं को फ्री वैक्सीन लगानी चाहिए, वरना आक्रोश बढ़ेगा

सीएम अशोक गहलोत ने कहा, "राज्यों में सभी आयुवर्ग के लोगों को एक ही मशीनरी (मेडिकल स्टाफ) वैक्सीन लगाएगी। यह उचित नहीं होगा कि युवाओं से पैसे लिए जाएं और बाकी को निशुल्क वैक्सीन लगाई जाए. केन्द्र सरकार को 60 वर्ष, 45 वर्ष एवं अब 18 वर्ष अधिक आयुवर्ग के वैक्सीनेशन के लिए एक ही नीति अपनानी चाहिए. कांग्रेस पार्टी और राज्यों द्वारा लगातार मांग करने के बाद केन्द्र सरकार ने 18 वर्ष से अधिक आयु वाले लोगों के वैक्सीनेशन का फैसला किया है, जिसका हम स्वागत करते हैं. केन्द्र सरकार को 18 वर्ष से अधिक आयु के युवाओं को भी फ्री वैक्सीन लगाने की घोषणा करनी चाहिए. फ्री वैक्सीन ना मिलने पर युवाओं का केन्द्र सरकार के प्रति आक्रोश बढ़ेगा."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज