COVID-19 Update: राजस्थान में 123 नए पॉजिटिव केस, कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 5083
Jaipur News in Hindi

COVID-19 Update: राजस्थान में 123 नए पॉजिटिव केस, कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 5083
प्रतीकात्मक तस्वीर

राजस्थान में रविवार को कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के 123 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 5083 हो गई है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण से रविवार को दो और लोगों की मौत होने के बाद राज्य में इस घातक वायरस से मरने वालों की संख्या 128 हो गई है. इस बीच 123 नए मामले आए हैं जिससे राज्य में कोविड-19 (COVID-19) संक्रमितों की कुल संख्या 5083 हो गई है.

राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से दो और मौत
अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने बताया कि रविवार को जयपुर में दो और मरीजों की मौत हुई है. इससे राज्य में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 128 हो गई है. केवल जयपुर में इस घातक वायरस से मरने वालों का आंकड़ा 66 हो गया है जबकि जोधपुर में 17 और कोटा में 10 रोगियों की मौत हो चुकी है. हालांकि अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे.

इस बीच राज्य में रविवार दोपहर दो बजे तक कोरोना वायरस संक्रमण के 123 नये मामले आए. इन 123 नये मामलों में 37 मामले राजधानी जयपुर से सामने आए हैं. अधिकारियों का कहना है कि जयपुर में 37 नए मामलों में 12 केंद्रीय जेल में और दो जिला जेल से सामने आए हैंय.
उन्होंने बताया कि राज्य में मिले 123 नए मामलों में जयपुर में 37, डूंगरपुर में 18, जोधपुर में 11, उदयपुर में 16,राजसमंद में 10, सीकर में 7,पाली में 6, बीकानेर में 5, झुंझुनूं-कोटा में दो दो, अजमेर, बाड़मेर, भीलवाड़ा, दौसा, जालौर, प्रतापगढ़, नागौर, सवाईमाधोपुर और करौली में सामने आया एक-एक मामला शामिल है.



राजस्थान में खादी ग्रामोद्योग से जुड़ी 1759 इकाइयों में उत्पादन काम शुरू
हालांकि कोरोना के बीच राहत की खबर भी है, क्‍योंकि राजस्थान में खादी ग्रामोद्योग से जुड़ी 1759 इकाइयों में उत्पादन काम शुरु हो गया है. अतिरिक्त मुख्य सचिव (उद्योग) डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि इससे करीब 8700 लोगों को रोजगार मिलने लगा है जबकि परंपरागत ग्रामीण औद्योगिक गतिविधियां गति पकड़ने लगी है.

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि खादी ग्रामोद्योग के माध्यम एवं सहभागिता से संचालित इकाइयों को उत्पादन कार्य आरंभ करने की लिए प्रोत्साहित किया गया है जिसके परिणाम स्वरुप 1700 से अधिक ग्रामोद्योग इकाइयों द्वारा मिट्टी के बरतन, मिट्टी के खिलौने, छोटी छोटी तेल पिराई, आटा पिसाई, मसाला पिसाई, मोलेला, मसाला-पापड, मंगोड़ी आदि घरेलू उत्पादों का उत्पादन आरंभ हो गया है. उन्होंने बताया कि इन इकाइयों से करीब 8 हजार श्रमिक जुड़े हुए हैं.

ये भी पढ़ें-

COVID-19 सहित किसी भी बीमारी से डरे नहीं, तुरंत कराएं इलाज: अशोक गहलोत

लॉकडाउन-3.0 का आज आखिरी दिन, कल से मिल सकती है ज्यादा छूट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज