राजस्थान HC में दाखिल हुई याचिका- बोर्ड परीक्षाएं रद्द करें, अन्यथा कई गुना बढ़ जाएगा कोरोना संक्रमण का खतरा
Jaipur News in Hindi

राजस्थान HC में दाखिल हुई याचिका- बोर्ड परीक्षाएं रद्द करें, अन्यथा कई गुना बढ़ जाएगा कोरोना संक्रमण का खतरा
विश्वविद्यालयों में यूजी और पीजी पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष की परीक्षाएं सबसे पहले कराई जाएंगी. (सांकेतिक फोटो)

जुलाई माह में प्रस्तावित बोर्ड परीक्षाओं (Board examinations) को रद्द करने की मांग को लेकर राजस्थान हाई कोर्ट में जनहित याचिका (Public interest litigation) दायर की गई है.

  • Share this:
जयपुर. जुलाई माह में प्रस्तावित बोर्ड परीक्षाओं (Board examinations) को रद्द करने की मांग को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट में जनहित याचिका (Public interest litigation) दायर की गई है. पब्लिक अगेंस्ट करप्शन संस्था की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि देशभर में अगर 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं कराई जाती है तो इससे कोरोना संक्रमण (Corona infection) फैलने का खतरा कई गुना बढ़ जाएगा. क्योंकि परीक्षाओं में बैठने वाले स्टूडेंट्स की संख्या लाखों में है और इतने पेपर और उत्तर पुस्तिकाओं को सेनेटाइज करना भी संभव नहीं है. ऐसे में परीक्षाओं को रद्द करके स्टूडेंट्स को अगली कक्षा में प्रमोट किया जाना चाहिए.

25 लाख स्टूडेंट्स और 2 लाख स्टाफ होगा शामिल
याचिका में कहा गया है कि देशभर में होने वाली इन बोर्ड परीक्षाओं में करीब लाखों लाख स्टूडेंट्स और 2 लाख टीचर्स स्टाफ शामिल होंगे. इतने लोगों के परीक्षा केंद्रों पर उपस्थित होने पर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना संभव नहीं है. इसके अलावा परीक्षा से पूर्व इतने स्टूडेंट्स की जांच भी संभव नहीं है. ऐसे में कौन पॉजिटिव है और कौन निगेटिव. इसका पता भी नहीं लगाया जा सकता है. वहीं परीक्षा में स्टूडेंट्स उत्तर पुस्तिका को पलटने के लिए अमूमन थूक का प्रयोग करते हैं. यहीं उत्तर पुस्तिकाएं जांचने के लिए परीक्षक के पास जाती है. ऐसे में जो इन्हें जांचेगा वो भी संक्रमित हो सकता है. इतनी उत्तर पुस्तिकाओं को सैनेटाइज करना भी सम्भव नहीं है.

सीबीएसई ने जारी किया परीक्षा टाइम टेबल
याचिका में कहा गया है कि सीबीएसई ने अपना टाइम टेबल जारी कर दिया है. इसके साथ ही 20 मई को केंद्रीय गृह सचिव ने सीबीएसई बोर्ड और राज्य बोर्डों के निवेदन पर शर्तों के साथ परीक्षा कराने की अनुमति दे दी है कि कंटेनमेंट एरिया में सेंटर नहीं होने चाहिए. प्रत्येक स्टूडेंट्स की थर्मल स्क्रीनिंग होनी चाहिए. परीक्षा केंद्रों को सेनेटाइज किया जाना चाहिए. वहीं सबको मास्क लगाना अनिवार्य होगा. इसके साथ ही पब्लिक ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था भी करनी होगी.



कोरोना के मरीज भी बढ़ रहे हैं
इस समय पूरा विश्व कोरोना महामारी से ग्रस्त है लाखों लोग मर चुके हैं. पूरा देश लॉकडाउन में है और जैसे-जैसे लॉकडाउन में छूट दी जा रही है वैसे वैसे ही कोरोना के मरीज भी बढ़ रहे हैं. संस्था की ओर से याचिका अधिवक्तता पूनमचंद भंडारी, टीएन शर्मा और अन्य अधिवक्ताओं ने दायर की है.

Rajasthan: आमजन को मिली बड़ी राहत, अब शादी-समारोह के लिए अनुमति की जरुरत नहीं

Jaipur: गैंगरेप, मर्डर और सुसाइड की सनसनीखेज दास्तां, पढ़ें कब और कहां हुआ ?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading