Corona Effect: विधानसभा समितियों की बैठकों के लिए अब ऑड-ईवन फॉर्मूला
Jaipur News in Hindi

Corona Effect: विधानसभा समितियों की बैठकों के लिए अब ऑड-ईवन फॉर्मूला
बैठकों के लिए बाकायदा वाहनों के ऑड ईवन नंबर की तरह ही इन कमेटियों को नंबर आवंटित किए गए हैं.

विधानसभा में विभिन्न कमेटियों की बैठकों का दौर अब शुरू हो गया है. कोरोना संक्रमण को देखते हुए इसकी गाइडलाइन की पालना के मद्देनजर विधानसभा में इस बार कमेटियों की बैठकें ऑड-ईवन फॉर्मूले के आधार पर आयोजित की जा रही है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान विधानसभा (Rajasthan Legislative Assembly) में विभिन्न कमेटियों की बैठकों का दौर अब शुरू हो गया है. कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते पहले लॉकडाउन के कारण कमेटियों का गठन नहीं हो पाया था. अब कमेटियों का गठन होने के बाद इनकी बैठकों का दौर भी शुरू हो गया है. कोरोना संक्रमण को देखते हुए इसकी गाइडलाइन की पालना के मद्देनजर विधानसभा में इस बार कमेटियों की बैठकें ऑड-ईवन फॉर्मूले (Odd-even formula) के आधार पर आयोजित की जा रही है.

4 वित्त समितियों समेत 20 तरह की समितियां हैं
विधानसभा में 4 वित्त कमेटियों समेत 20 तरह की समितियां हैं जो राज्य सरकार के कामकाज पर नजर रखती हैं. बैठकों के लिए बाकायदा वाहनों के ऑड ईवन नंबर की तरह ही इन कमेटियों को नंबर आवंटित किए गए हैं. कमेटियों की बैठकों का आयोजन भी उसी के आधार पर किया जा रहा है. इन कमेटियों को एक से लेकर 20 नंबर आवंटित किये गए हैं. ओड ईवन नंबर के आधार पर ही इनकी बैठकें आयोजित की जा रही है. ये बैठकें सुबह 11 बजे और दोपहर में 3 बजे आयोजित की जा रही हैं. इसके लिए विधानसभा में पांच कक्ष तय किए गए हैं.

राजस्थान: दसवीं की किताब में महाराणा प्रताप को बताया गया युद्ध कौशल में कमजोर, छिड़ा विवाद
कमेटियों में आने वाले विधायकों की संख्या में भी इजाफा हुआ


बैठक शुरू होने के पहले और बाद में इन कक्षों को सेनिटाइज किया जाता है ताकि वहां दूसरी बैठक आयोजित की जा सके. कमेटियों के सदस्यों के लिए हैंड सेनिटाइजर और मास्क की व्यवस्था की गई है. सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है. इन तमाम व्यवस्थाओं के बाद विधानसभा में कमेटियों में आने वाले विधायकों की संख्या में भी इजाफा हुआ है. विधायक कमेटियों की बैठकों में बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं. इन 20 कमेटियों की बैठक के लिए सप्ताहों का निर्धारण भी किया गया है. कमेटियों को 4 सप्ताह में विभाजित किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज