लाइव टीवी

COVID-19: कजाकिस्तान में फंसे 260 भारतीय छात्र, वहां रहने नहीं दिया जा रहा यहां आ नहीं सकते
Jaipur News in Hindi

Asif Khan | News18 Rajasthan
Updated: March 24, 2020, 12:25 PM IST
COVID-19: कजाकिस्तान में फंसे 260 भारतीय छात्र, वहां रहने नहीं दिया जा रहा यहां आ नहीं सकते
इनमें सबसे ज्यादा राजस्थान के सीकर, झुंझनूं, नागौर,पाली और जोधपुर जिले के छात्र हैं.

कजाकिस्तान (Kazakhstan) की राजधानी अलमाती में भारत के 260 छात्र फंसे हुए हैं. ये छात्र मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए कजाकिस्तान गए थे. इनमें से 150 छात्र अकेले राजस्थान के रहने वाले हैं.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना वायरस (Corona virus) ने दुनियाभर में कहर बरपा रहा है. पूरी दुनिया ने खुद को घरों में बंद कर लिया है. ऐसे में सबसे ज्यादा मुश्किलों का सामना ऐसे लोगों को करना पड़ रहा है जो विदेशों (Foreign) में फंसे हुए हैं और अपने घर लौटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. कजाकिस्तान (Kazakhstan) की राजधानी अलमाती में भारत के 260 छात्र फंसे हुए हैं. ये छात्र मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए कजाकिस्तान गए थे. इनमें से 150 छात्र अकेले राजस्थान के रहने वाले हैं.

सीकर, झुंझनूं, नागौर, पाली और जोधपुर जिले के हैं छात्र
इनमें सबसे ज्यादा राजस्थान के सीकर, झुंझनूं, नागौर,पाली और जोधपुर जिले के छात्र हैं. छात्रों ने गुहार लगाई है कि उन्हें किसी भी तरह भारत वापस लाया जाए. इनके साथ सबसे ज्यादा मुश्किल ये आ रही है जब ये एयरपोर्ट पहुंचते हैं तो इन्हें वापस हॉस्टल भेज दिया जाता है. जब ये हॉस्टल पहुंचते है तो पड़ोस में रहने वाले लोग पुलिस को फोन करके उन्हें हॉस्टल से बाहर निकलवा देते हैं. इनकी शिकायत है कि ना तो कजाकिस्तान सरकार इनकी बात सुन रही है और ना भारत की एम्बेसी इनको राहत दे रही है. वे जाएं भी तो कहां जाएं ?

वहां रहने नहीं दिया जा रहा, यहां आ सकते नहीं



कजाकिस्तान में इन्हें रहने नहीं दिया जा रहा और भारत ये आ नहीं सकते. कोरोना के चलते सभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर अग्रिम आदेश तक रोक लगा दी गई है. मंगलवार रात से डोमेस्टिक उड़ानें भी बंद होने जा रही हैं. ये सभी छात्र वहां मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं. लिहाजा कोरोना वायरस की गंभीरता से पूरी तरह से वाकिफ हैं. हालांकि वे सभी जरुरी एहतियात भी बरत रहे हैं, लेकिन अब ये बहुत ज्यादा घबराए हुए हैं. इन्होने अपने कई वीडियो बनाकर परिजनों को भेजे हैं. वे चाहते हैं कि भारत सरकार उनकी सुने और भारत लाने की जल्द से जल्द कोई व्यवस्था करें. फिलहाल ये वीडियो कॉलिंग के ज़रिए अपने घरों पर बात कर रहे हैं. इनके परिजनों ने भी सरकार से अपील की है कि बच्चों को किसी भी तरह वापस भारत लाया जाए.

COVID-19: 8 लाख अधिकारी-कर्मचारी और पेंशनर्स राहत कोष में देंगे 200 करोड़ रुपए

COVID-19: CM गहलोत ने दी कर्फ्यू की चेतावनी, आज से नहीं चलेंगे निजी वाहन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 24, 2020, 12:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,000

     
  • कुल केस

    1,603,115

    +42
  • ठीक हुए

    356,422

     
  • मृत्यु

    95,693

    +1
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर