Rajasthan: कांग्रेस विधायक कैलाश त्रिवेदी का कोरोना से निधन, मेदांता अस्पताल में थे भर्ती

त्रिवेदी का पूरा परिवार पंचायत राज में प्रधान पद पर रह चुका है.
त्रिवेदी का पूरा परिवार पंचायत राज में प्रधान पद पर रह चुका है.

COVID-19: राजस्थान में बेकाबू हो रहे कोरोना से कांग्रेस के विधायक कैलाश त्रिवेदी (MLA Kailash Trivedi) का आज निधन हो गया. वे भीलवाड़ा के सहाड़ा विधानसभा (Sahada Assembly Constituency) क्षेत्र से विधायक थे.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में बेकाबू हो रहे कोरोना (COVID-19) का कहर लगातार जारी है. कोरोना के कारण कांग्रेस के विधायक कैलाश त्रिवेदी (MLA Kailash Trivedi) का आज निधन हो गया. कैलाश त्रिवेदी भीलवाड़ा के सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे. त्रिवेदी का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल (Medanta Hospital) में इलाज चल रहा था. कोरोना से पीड़ित होने के बाद हाल ही में उन्हें वहां भर्ती कराया गया था. सीएम अशोक गहलोत, विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा और पूर्व पीसीसी चीफ सचिन पायलट सहित कांग्रेस के कई नेताओं ने त्रिवेदी के निधन पर शोक जताया है.

3 बार विधायक चुने गए थे
सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र से 3 बार विधायक चुने गए कांग्रेस के दिग्गज नेता कैलाश त्रिवेदी ने गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में मंगलवार को सुबह अंतिम सांस ली. विधायक त्रिवेदी करीब एक माह पहले कोरोना संक्रमित होने के बाद पहले भीलवाड़ा और बाद में जयपुर में उपचाररत रहे थे. लेकिन दिन प्रतिदिन बिगड़ती हालत के बाद उन्हें 5 दिन पूर्व ही राज्य सरकार ने एयर एम्बुलेंस से गुरुग्राम मेदांता अस्पताल में शिफ्ट करवाया था. वहां भी उनकी हालत में किसी तरह का कोई सुधार नहीं हुआ. उसके बाद आज सुबह 8 बजकर 17 मिनिट पर उनका निधन हो गया.

Rajasthan: अलवर का बहुचर्चित थानागाजी गैंगरेप केस, 5 आरोपियों को लेकर आज आयेगा फैसला





विधायक त्रिवेदी को विरासत में मिली थी राजनीति
त्रिवेदी का पूरा परिवार पंचायत राज में प्रधान पद पर रह चुका है. उनके पिता भंवरलाल त्रिवेदी रायपुर पंचायत समिति के प्रधान रहे थे. चाचा श्याम त्रिवेदी और खुद कैलाश त्रिवेदी तथा उनकी पत्नी गायत्री त्रिवेदी प्रधान रह चुके हैं. पिता की राजनीति की विरासत संभालने के बाद त्रिवेदी पहली बार 2003 में विधायक चुनकर विधानसभा पहुंचे. बॉलीबाल के खिलाड़ी रहे त्रिवेदी को एक बार की हार के अलावा लगातार सहाड़ा की जनता ने समर्थन किया और जीताकर विधानसभा भेजा. विधायक त्रिवेदी ने इलाके में विकास कार्यों को नई ऊंचाइयां दी. कैलाश त्रिवेदी ने हिन्दुस्तान जिंक में नौकरी भी की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज