Rajasthan: कोरोना के खौफ के चलते पटरियों पर खाली दौड़ रही हैं ट्रेनें
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: कोरोना के खौफ के चलते पटरियों पर खाली दौड़ रही हैं ट्रेनें
जयपुर-मुंबई ट्रेन में 30 से 40 प्रतिशत यात्री ही सफर कर रहे हैं (सांकेतिक तस्वीर)

Indian Railways: रेलवे ने पैसेंजर ट्रेनों की शुरुआत तो कर दी है, लेकिन यात्री अभी भी कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के भय से यात्रा करने से बच रहे हैं.

  • Share this:
जयपुर. रेलवे ने पैसेंजर ट्रेनों की शुरुआत कर दी है. उत्‍तर-पश्चिम (NWR) क्षेत्र से 10 ट्रेनें रोज चल भी रही हैं. लेकिन, यात्री अभी भी कोरोना के भय से यात्रा करने से बच रहे हैं. लिहाजा, ट्रेनों में यात्रियों की उपस्थिति की स्थिति फ्लाइट्स से भी बुरी है. जयपुर जंक्शन के हालात तो जयपुर एयरपोर्ट से भी बदतर हो रहे हैं. जयपुर एयरपोर्ट पर जहां रोज आधा से एक दर्जन फ्लाइट्स रद्द हो रही हैं, वहीं जयपुर-मुंबई एक्सप्रेस भी पटरियों पर लगभग खाली दौड़ रही है. वजह दोनों की एक है- यात्रियों में कोरोना का भय.

NWR के चारों मंडलों से इस समय 10 पैसेंजर ट्रेनें चल रही हैं. इनमें जयपुर मंडल से रोजाना दोपहर में जयपुर-मुंबई एक्सप्रेस ट्रेन चल रही है, लेकिन जयपुर-मुंबई एक्सप्रेस ट्रेन लगभग खाली ही चल रही है. जयपुर से मुंबई जाने वाली ट्रेन में 1650 के करीब सीटें हैं, लेकिन यात्रियों की संख्या 500 से 600 के बीच रहती है. NWR का मानना है कि कोरोना के चलते लोग यात्रा करने से बच रहे हैं.

Rajasthan: डूंगरपुर नगरपरिषद सभापति BJP नेता ने सीएम गहलोत को बताया 'जननायक', जानिये क्या है वजह



30 से 40 प्रतिशत यात्री ही कर रहे यात्रा
NWR के सीपीआरओ अभय शर्मा के मुताबिक, आम पैसेंजर ट्रेनों में यात्रियों की संख्‍या में जबरदस्त गिरावट देखी जा रही है. जयपुर के अलावा बीकानेर, अजमेर और जोधपुर से निकलने वाली ट्रेनों की हालत भी खस्ता है. जयपुर-मुंबई ट्रेन में 30 से 40 प्रतिशत यात्री ही सफर कर रहे है.

राजस्‍थान: अगर आप हैं सरकारी बाबू और जाना चाहते हैं विवाह कार्यक्रम में तो पहले जान लें यह फरमान

कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे
कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले कम होने के बजाय दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. कोरोना महामारी के मामले में भारत दुनिया में अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरे नंबर पर आ चुका है. फिलहाल कोरोना से निजात मिलने का रास्ता दूर-दूर तक नज़र नहीं आ रहा है. लिहाजा, आम लोग यात्रा करने से बच रहे हैं. NWR के मुताबिक जो लोग यात्रा कर भी रहे हैं, उन्हें भी बहुत एहतियात के साथ यात्रा करनी चाहिए. घंटों के सफर में मुंह पर मास्क लगाए रखना भी अपने आप में एक बड़ी चुनौती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज