Rajasthan: कोरोना रिपोर्ट में गड़बड़झाला, कहीं टेस्‍ट तो कहीं बिना जांच के ही बता रहे पॉजिटिव, सांसद भी कंफ्यूज्‍ड
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: कोरोना रिपोर्ट में गड़बड़झाला, कहीं टेस्‍ट तो कहीं बिना जांच के ही बता रहे पॉजिटिव, सांसद भी कंफ्यूज्‍ड
बेनीवाल ने इस मसले को गंभीर बताते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय से इसमें हस्तक्षेप की मांग की है. (फाइल फोटो)

कोरोना (COVID-19) की जांच को लेकर भारी गड़बड़ियां (Mistakes ) सामने आ रही हैं. कहीं बिना जांच के ही पॉजिटिव बताया जा रहा है, तो कहीं एक ही व्यक्ति को अलग-अलग जांच में पॉजिटिव-नगेटिव बताया जा रहा है.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना (COVID-19) जांच में कई तरह के गड़बड़झाले सामने आ रहे हैं. कहीं अलग-अलग जांचों की अलग-अलग रिपोर्ट सामने आ रही तो कहीं बिना जांच के ही व्यक्ति को कोरोना पॉजीटिव बताया जा रहा है. खास बात यह है कि ये वाकये आम आदमी के साथ नहीं, बल्कि खास लोगों के साथ हुए हैं. नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) की दो अलग-अलग जगह करवाई गई जांच में दो अलग-अलग तरह के नतीजे सामने आए हैं. राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुमन शर्मा को बिना जांच के ही कोरोना पॉजीटिव बता दिया गया है. दोनों ही अपनी जांच रिपोर्ट्स को लेकर कन्फ्यूजन में हैं और सवाल उठा रहे हैं.

ये हुआ हनुमान बेनीवाल के साथ
लोकसभा परिसर में 11 सितम्बर को बेनीवाल की कोरोना जांच हुई थी. 13 सितम्बर को उन्हें फोन कर बताया गया कि उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव है. वहीं, चिकित्सकों की सलाह पर जब बेनीवाल ने रविवार को एसएमएस मेडिकल कॉलेज में जांच करवाई तो सोमवार को उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई. हनुमान बेनीवाल गत माह कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और कई दिनों तक आरयूएचएस में भर्ती रहने के बाद स्वस्थ होकर वापस लौट चुके हैं.

Rajasthan: किसानों के हित में वीसीआर को लेकर गहलोत सरकार जल्द ले सकती है बड़ा फैसला, डोटासरा ने दिये संकेत
स्वास्थ्य मंत्रालय से हस्तक्षेप की मांग


बेनीवाल का कहना है कि विशेषज्ञों के मुताबिक एक बार कोरोना संक्रमित होने के बाद शरीर में एंटीबॉडी डेवलप हो जाते हैं और व्यक्ति 3 महीने तक दोबारा संक्रमित नहीं हो सकता. लोकसभा में हुई जांच में उन्हें पॉजीटिव कैसे बता दिया गया? बेनीवाल ने कहा कि वो पशोपेश में हैं कि अपनी किस रिपोर्ट को सही मानें. बेनीवाल ने इस मसले को गंभीर बताते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय से इसमें हस्तक्षेप की मांग की है. बेनीवाल ने कहा है कि वो पूरी तरह स्वस्थ हैं और पूरे परिवार के साथ ही स्टाफ का भी टेस्ट करवाया है. उनकी रिपोर्ट भी नेगेटिव आई है.

Jaisalmer: पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में परीक्षण के दौरान तोप का बैरल फटा, 3 विशेषज्ञ घायल





सुमन शर्मा के साथ हुआ ये वाकया
सुमन शर्मा के परिवारजनों ने कॉलोनी में लगे कैम्प में कोरोना जांच के लिए सैम्पल दिया था, लेकिन सुमन शर्मा ने उपवास होने के चलते जांच नहीं करवाई थी. जब रिपोर्ट आई तो पूरा परिवार हक्का-बक्का रह गया, क्योंकि सभी परिवारजनों की रिपोर्ट तो नेगेटिव आई थी, लेकिन उसमें सुमन शर्मा को कोरोना पॉजिटिव बताया गया था. इतना ही नहीं सुमन शर्मा के घर कोविड-19 का स्टीकर लगाने के लिए टीम भी पहुंच गई.

सुमन शर्मा के रिश्तदार के साथ भी ये ही हालात
सुमन शर्मा के एक रिश्तेदार ने भी कैम्प में कोरोना जांच करवाई थी, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. जब इस रिश्तेदार को सुमन शर्मा की रिपोर्ट में गड़बड़झाले का पता लगा तो उसने प्राइवेट लैब जाकर कोरोना जांच करवाया. इस प्राइवेट लैब की जांच में रिश्तेदार की रिपोर्ट नेगेटिव आई. इस गड़बड़झाले पर महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुमन शर्मा ने निशाना साधते हुए कहा कि कोरोना जांचों के नाम पर तमाशा किया जा रहा है और गलत रिपोर्ट्स से लोगों में भय पैदा हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज