Rajasthan: कोरोना से लड़ने के लिये गहलोत सरकार ने बनाई यह 'दमदार रणनीति', आप भी रखें इसकी पूरी जानकारी

सभी संभागों को ऑक्सीजन का बफर स्टॉक रखने के निर्देश दिये गये हैं. (File photo)

सभी संभागों को ऑक्सीजन का बफर स्टॉक रखने के निर्देश दिये गये हैं. (File photo)

Gehlot government's strategy to fight Corona: प्रदेश में लगातार बढ़ते जा रहे कोरोना संकट से निपटने के लिये गहलोत सरकार ने मजबूत रणनीति तैयार की है. इस पर अमल शुरू कर तैयारियों को अंजाम दिया जा रहा है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में बढ़ते कोरोना संकट (Corona crisis) को देखते हुए राज्य सरकार ने सख्त कदम उठाने शुरु कर दिए हैं. एक ओर जहां वीकेंड कर्फ्यू (Weekend curfew) के जरिए संक्रमण को रोकने की कवायद की जा रही है. वहीं अस्पतालों में बैड की कमी ना हो इसके लिए दूसरे अस्पतालों को कोविड डेडिकेटेड अस्पताल (Covid Dedicated Hospital) घोषित किया जा रहा है.

हालांकि ऑक्सीजन को लेकर राज्य सरकार ने पिछले साल में एक मजबूत इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा कर दिया है, लेकिन बढ़ते मरीज और ऑक्सीजन की बढती मांग को देखते हुए भी राज्य सरकार ने इसको लेकर और भी अहम कदम उठाए हैं. इसके लिये सभी संभागों को ऑक्सीजन का बफर स्टॉक रखने के निर्देश दिये गये हैं. वर्तमान समय में राजस्थान में 305 मेट्रिक टन प्रतिदिन ऑक्सीजन पूर्ति की क्षमता है. अभी 69.73 मेट्रिक टन प्रतिदिन की खपत हो रही है.

Youtube Video


तस्वीरें विचलित कर रही हैं
देशभर में कोरोना ने हाहाकार मचा दिया है. कई राज्यों के अस्पतालों में बैड कम पड़ने लग गए हैं. ऑक्सीजन की कमी से तड़पते मरीजों की तस्वीरें विचलित कर रही हैं. राजस्थान में भी हालात अब भयावह होते जा रहे हैं. 15 दिनों में ही करीब 50 हजार नए मरीज सामने आए हैं तो 200 से अधिक लोगों की मौत कोरोना के कारण हो चुकी है. बढ़ते हुये मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने शुक्रवार शाम से वीकेंड कर्फ्यू लगा दिया है. राजधानी जयपुर के ईएसआई मॉडल और जयपुरिया अस्पताल को कोरोना डेडीकेटेड अस्पताल घोषित कर दिया गया है. ऑक्सीजन की बढती मांग को देखते हुए राज्य सरकार ने विशेष कदम उठाए जा रहे हैं.

यह बनाई गई है रणनीति

सरकार ने 300 डी-टाइप ऑक्सीजन से भरे सिलेंडर्स का स्टॉक रखने के निर्देश दिये हैं. जिला कलेक्टर्स को कहा गया है कि वे ऑक्सीजन की लगातार आपूर्ती पर निगरानी रखें. वेण्डर्स से ऑक्सीजन की सिलेंडर्स की व्यवस्था करने के निर्देश दिये गये हैं. केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार हो ऑक्सीजन का उपयोग किया जाये। इसके साथ ही ऑक्सीजन उपभोग की रोजाना रिपोर्ट भेजी जाये। आंदोलनों के कारण ऑक्सीजन का परिवहन बाधित नहीं होने देने की सख्त हिदायत दी गई है. परिवहन आयुक्त को ऑक्सीजन परिवहन के लिए एलएमओ टैंकर्स की सूची और उद्योग सचिव को ऑक्सीजन उत्पादन करने वाली उपक्रमों की सूची देने के आदेश दिये गये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज