COVID-19: कोरोना संकट को कंट्रोल करने में अहम भूमिका निभाएंगे IAS सुधांश पंत, केन्द्र ने दिल्ली बुलाया
Jaipur News in Hindi

COVID-19: कोरोना संकट को कंट्रोल करने में अहम भूमिका निभाएंगे IAS सुधांश पंत, केन्द्र ने दिल्ली बुलाया
नेशनल कमीशन बिल और एलायड हेल्थ प्रोफेशनल का ड्राफ्ट भी पंत ने तैयार किया था.

राजस्थान कैडर के 1993 बैच के आईएएस अधिकारी सुधांश पंत (IAS Sudhansh Pant) कोरोना वायरस (COVID-19) के संक्रमण को कम करने में प्रमुख भूमिका निभाएंगे. केंद्र सरकार ने पंत को 2 महीने के लिए सेंट्रल डेपुटेशन पर बुलाया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान कैडर के 1993 बैच के आईएएस अधिकारी सुधांश पंत (IAS Sudhansh Pant) कोरोना वायरस (COVID-19) के संक्रमण को कम करने में प्रमुख भूमिका निभाएंगे. केंद्र सरकार ने पंत को 2 महीने के लिए सेंट्रल डेपुटेशन पर बुलाया है. पंत अब दिल्ली में सेवाएं देंगे.

कई महत्वपूर्ण बिल ड्राफ्ट कर चुके हैं
पंत के स्वास्थ्य सेक्टर के प्लान अनुभव और उसके क्रियान्वयन के अच्छे रिकॉर्ड को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन्हें 2 महीने के लिए केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली बुलाया है. पंत कोरोना के फैलते संक्रमण को कंट्रोल करने में मंत्रालय की मदद करेंगे. पिछले 5 साल के दौरान पंत ने दवा और मेडिकल डिवाइस की कीमतें कम करने से लेकर कई महत्वपूर्ण बिल के ड्राफ्ट को तैयार किया था, जो अब अस्तित्व में आ चुके हैं.

75 मेडिकल कॉलेज खोलने की प्लानिंग पंत ने ही की थी



सितंबर 2014 से दिसंबर 2019 तक सुधांश पंत केंद्र में तैनात थे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर रहते हुए पंत ने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के स्थान पर नेशनल मेडिकल कमीशन का बिल तैयार किया था. यह बिल राज्यसभा से पास हो चुका है. देशभर में एक साथ 75 मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए प्लानिंग बनाने का काम पंत के स्तर पर किया गया था. इसमें से 15 मेडिकल कॉलेज राजस्थान में खुल रहे हैं. इसके अलावा पंत ने नेशनल कमीशन बिल और एलायड हेल्थ प्रोफेशनल का ड्राफ्ट भी तैयार किया था. इससे पहले वे डिपार्टमेंट ऑफ फार्मास्यूटिकल्स में सचिव पद पर सेवाएं दे चुके हैं. उस दौरान उन्होंने मेडिकल डिवाइस की कीमतों को कम कराने में अहम भूमिका निभाई थी.



2 महीने के लिए बुलाया दिल्ली
पंत दिसंबर 2019 में प्रतिनियुक्ति से हाल ही में मूल कैडर में वापस आए थे. गहलोत सरकार ने उन्हें वन एवं पर्यावरण विभाग का प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया था. पंत ने प्रदेश में 2 से 3 महीने की सेवाएं दी थी कि उन्हें 2 महीने के लिए फिर से दिल्ली बुला लिया गया है.

COVID-19: पांच नए पॉजिटिव मरीज बढ़े, CM ने कहा- सरकारी कर्मचारी वॉलंटियर बनें

COVID-19: सीएम गहलोत ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर की ये बड़ी मांग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading