अपना शहर चुनें

States

राजस्थान में अब न्यू ईयर पर भी नहीं कर पाएंगे आतिशबाजी, गहलोत सरकार ने लगाई रोक

सीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कोरोना को लेकर सभी राज्यों के लिए जो निर्देश आए हैं राजस्थान उनकी कड़ाई से पालना करेगा.
सीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कोरोना को लेकर सभी राज्यों के लिए जो निर्देश आए हैं राजस्थान उनकी कड़ाई से पालना करेगा.

प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए न्यू ईयर के सेलिब्रेशन के दौरान भी आतिशबाजी (Fireworks) करने पर रोक लगा दी है. गहलोत ने सोमवार को कोरोना (COVID-19) समीक्षा बैठक में नववर्ष पर भी आतिशबाजी पर रोक लगाने का फैसला लिया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थानवासी न्यू ईयर के सेलिब्रेशन (New Year Celebrations) के दौरान भी आतिशबाजी (Fireworks) नहीं कर पाएंगे. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने सोमवार को कोरोना समीक्षा बैठक में नववर्ष पर भी आतिशबाजी पर रोक (Ban) लगाने का फैसला लिया है. अब राज्य में दीपावली की तर्ज पर नववर्ष पर भी आतिशबाजी नहीं की जा सकेगी. सीएम ने कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के फैसले की सख्ती से पालन करने के निर्देश दिये हैं.

बैठक के बाद सीएम ने ट्वीट कर कर कहा, " निवास पर #COVID19 समीक्षा एवं कोरोना वैक्सीन की तैयारियों से संबंधित बैठक में निर्णय लिया है कि कोरोना महामारी के समय में स्वास्थ्य को सर्वोपरि रखते हुए दीपावली पर सरकार ने जो कदम उठाए थे, उसी प्रकार का सख्त निर्णय नव वर्ष के लिए लेने का फैसला किया है. प्रदेशवासी नए वर्ष का जश्न अपने घर में परिवार के साथ मनाएं. भीड़भाड़ से बचें और आतिशबाजी न करें. यह स्वयं के एवं दूसरों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है. सुप्रीम कोर्ट के कोरोना को लेकर सभी राज्यों के लिए जो निर्देश आए हैं राजस्थान उनकी कड़ाई से पालन करेगा."






गहलोत ने यूके और अन्य यूरोपीय देशों से सभी उड़ानों पर तुरंत प्रतिबंध लगाने की मांग भी की
वहीं सीएम गहलोत ने कोरोना के नए स्ट्रेन पर ट्वीट कर कहा, " ब्रिटेन में उभर रहे कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन बहुत चिंता का विषय है. भारत सरकार को तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए. यूके और अन्य यूरोपीय देशों से सभी उड़ानों पर तुरंत प्रतिबंध लगाया जाए. जब कोरोना वायरस फैलने लगा था तो हमें अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने में देर हो गई थी, जिसके कारण मामलों में भारी वृद्धि हुई थी.'

गहलोत ने कहा कि भारत को एक तैयार योजना के साथ-साथ प्रभावित देश या देशों से किसी भी आवागमन को प्रतिबंधित करने के कदम उठाने की आवश्यकता है. वायरस के नए स्ट्रेन के किसी भी प्रकोप के मामले में चिकित्सा विशेषज्ञों को एक उपचार योजना के साथ तैयार होना चाहिए. हेल्थ प्रोटोकॉल का और भी सख्ती से पालन किया जाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज