होम /न्यूज /राजस्थान /

COVID-19: राजस्थान में स्कूली बच्चों का मिड-डे मील बनेगा जरुरतमंदों का निवाला, शिक्षा राज्यमंत्री ने दिए निर्देश

COVID-19: राजस्थान में स्कूली बच्चों का मिड-डे मील बनेगा जरुरतमंदों का निवाला, शिक्षा राज्यमंत्री ने दिए निर्देश

बैठक में शिक्षा राज्यमंत्री डोटासरा ने कहा कि इस समय सभी का दायित्व है कि लोगों को डराने के बजाय उनका हौंसला बढ़ाएं.

बैठक में शिक्षा राज्यमंत्री डोटासरा ने कहा कि इस समय सभी का दायित्व है कि लोगों को डराने के बजाय उनका हौंसला बढ़ाएं.

कोरोना (COVID-19) वायरस के संकट से जूझ रहे राजस्थान में स्कूलों में बच्चों के लिए रखा गया मिड-डे-मील (Mid day meal) का राशन आवश्यकता होने पर जरुरतमंदों के लिए काम में लिया जा सकेगा.

जयपुर. कोरोना (COVID-19) वायरस के संकट से जूझ रहे राजस्थान में स्कूलों में बच्चों के लिए रखा गया मिड-डे-मील (Mid Day Meal) का राशन आवश्यकता पड़ने पर जरुरतमंदों के लिए उपयोग में लाया जा सकेगा. शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद डोटासरा (Govind Dotasara) ने इस संबंध में आला अफसरों को निर्देश दिए हैं. जिला कलक्टर इस बारे में जल्द आदेश जारी करेंगे.

हर स्कूल में हैं रखा है राशन
प्रदेश के सरकारी स्कूलों में मिड-डे मील के तहत बच्चों को दोपहर का खाना उपलब्ध कराया जाता है. कक्षा पहली से पांचवीं तक के बच्चों को 100 ग्राम और छह से आठ तक के बच्चों को डेढ़ सौ ग्राम राशन मिलता है. हर महीने के राशन का स्कूलों में पर्याप्त स्टॉक रहता है. लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण पिछले एक माह से भी ज्यादा समय से प्रदेश में स्कूल बंद हैं. इसलिए अब स्कूलों का राशन क्वारेंटाइन  सेंटर्स, आइसोलेशन वार्ड्स और जरूरतमंदों तक पहुंचाया जाएगा ताकि कहीं भी राशन की किल्लत न हो.

लोगों को डराने के बजाय उनका हौंसला बढ़ाएं
शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने शुक्रवार को सीकर जिले में अधिकारियों की बैठक लेकर पूरे हालात पर चर्चा की. डोटासरा ने कहा कि इस समय हमारा दायित्व है कि हम लोगों को डराने के बजाय उनका हौसला बढ़ाएं. बैठक में शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि पशुधन को भी इस बीमारी से बचाने की दिशा में कुछ कदम उठाने होंगे. डोटासरा ने बैठक में लक्ष्मणगढ़ इलाके के हमीरपुरा गांव के 70 वर्षीय बुजुर्ग की मौत के बाद उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के मामले को लेकर भी चर्चा की.

फोटो और वीडियो वायरल करना गरीब परिवारों के साथ मजाक
बैठक में शिक्षा राज्यमंत्री ने स्कूलों में बने आईसालेशन सेंटर, क्वॉरेंटाइन सेंटर, मास्क, सेनेटाइजर और राशन वितरण की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली. शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि सामाजिक संस्थाओं की ओर से भी इस जंग में पूरा साथ निभाया जा रहा है. यह अच्छी बात है. लेकिन राशन वितरण की फोटो व वीडियो वायरल करना गरीब परिवारों के साथ मजाक है. इसकी जिलेभर में गंभीरता से पालना होनी चाहिए.

Lockdown: इस बार अबूझ सावे आखातीज पर नहीं गूंजेगा 'आज मेरे यार की शादी है'

Lockdown: बीकानेर में अनूठी सेवा, Dogs के लिए बनवाई जा रही हैं रोटियां

Tags: Corona epidemic, Jaipur news, Rajasthan news

अगली ख़बर