COVID-19: राजस्थान में संक्रमण के 28 नए केस, कुल मामले 1104 हुए
Jaipur News in Hindi

COVID-19: राजस्थान में संक्रमण के 28 नए केस, कुल मामले 1104 हुए
राजस्थान में गुरुवार को वायरस से संक्रमण के 28 नए मामले सामने आए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राजस्थान (Rajasthan) में भी कोविड-19 (COVID-19) महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. गुरुवार को प्रदेश में इस वायरस से संक्रमण के 28 नए मामले सामने आए हैं. इसके बाद प्रदेश में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1,104 हो गई.

  • Share this:
जयपुर. दुनियाभर में कोविड-19 (COVID-19) का प्रकोप दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. दुनियाभर में इससे अब तक 1 लाख 37 हजार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं. भारत में गुरुवार सुबह तक 12 हजार 380 से अधिक लोग संक्रमण का शिकार हो चुके थे और 414 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं. राजस्थान (Rajasthan) में भी कोविड-19 महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. गुरुवार को प्रदेश में इस वायरस से संक्रमण के 28 नए मामले सामने आए हैं. इसके बाद प्रदेश में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1,104 हो गई.

टोंक और जोधपुर में 11 नए मामले
अधिकारियों ने बताया कि बृहस्पतिवार दोपहर दो बजे तक टोंक में 11, जोधपुर में 11, झुंझुनू और कोटा में दो-दो तथा जोधपुर, बीकानेर तथा अजमेर में एक-एक नया मामला सामने आया है. राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों में दो इतालवी नागरिक और 54 वे लोग शामिल हैं जिन्हें ईरान से लाकर जोधपुर और जैसलमेर में सेना के आरोग्य केंद्रों में ठहराया गया है. राज्यभर में 22 मार्च से लॉकडाउन है और कम से कम 40 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है.

गहलोत ने दिए 21 अप्रैल से औद्योगिक इकाइयों को शुरू करने करने के निर्देश
वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि 21 अप्रैल से राज्य में योजनाबद्ध तरीके से बदलाव के साथ लॉकडाउन लागू किया जाए. उन्होंने राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों व औद्योगिक क्षेत्रों में 20 अप्रैल के बाद औद्योगिक इकाइयों को शुरू करने करने के निर्देश दिए हैं. इससे प्रदेश में मौजूद प्रवासी मजदूरों को भी रोजगार मिल सकेगा. गहलोत बुधवार को लॉकडाउन को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक में ये निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में ऐसे उद्योग जहां श्रमिकों के लिए कार्य स्थल पर ही रहने की सुविधा उपलब्ध है, उन्हें भी शुरू किया जाए. हालांकि इनमें बाहर से मजदूरों के आवागमन की अनुमति नहीं होगी.



उन्होंने निर्देश दिए कि जिला कलेक्टर, रीको, जिला उद्योग केन्द्र तथा पुलिस समन्वय स्थापित कर यह सुनिश्चित करें, जिससे लॉकडाउन के दौरान उद्योगों के शुरू होने में कोई परेशानी न आए. ऐसी पुख्ता व्यवस्था की जाए जिससे उद्यमी किसी प्रकार की आवश्यकता होने पर संबंधित अधिकारी से सम्पर्क कर सकें. साथ ही मजदूरों तथा कर्मचारियों के आने-जाने में पास की व्यवस्था को सुगम किया जाए. राज्यभर में 22 मार्च से लॉकडाउन है और कम से कम 40 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है.

ये भी पढ़ें - 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज