COVID-19: राजस्थान में अब परिजनों को मिल सकेगी डेड बॉडी, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन
Jaipur News in Hindi

COVID-19: राजस्थान में अब परिजनों को मिल सकेगी डेड बॉडी, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन
कोरोना संक्रमण काल में होने वाली मौतों के बारे में अब तक ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला है की डेड बॉडी से भी संक्रमण होता है. (सांकेतिक फोटो)

राजस्थान सरकार (State government) ने अस्पतालों में होने वाली मौतों के मामले में डेड बॉडी मैनेजमेंट (Dead body management) की नई गाइडलाइन जारी कर दी है. अब परिजनों को डेड बॉडी ले जाने की अनुमति होगी.

  • Share this:
जयपुर. राज्य सरकार ने COVID-19 डेड बॉडी मैनेजमेंट (Dead body management) की नई गाइडलाइन जारी कर दी है. नई गाइडलाइन के अनुसार अब कोविड-19 टेस्ट (Covid-19 Test) के बिना भी अस्पताल से परिजनों को डेड बॉडी दी जा सकेगी. उसके बाद डेड बॉडी का अंतिम संस्कार (Funeral) धार्मिक मान्यता अनुसार परिजनों द्वारा किया जा सकेगा. अब तक अस्पताल में होने वाली मौतों के बाद शवों का निगम या स्थानीय निकाय के अधिकारियों की मौजूदगी में ही अंतिम संस्कार होता था.

डेड बॉडी को सेनेटाइज कर सौंपा जायेगा
डेड बॉडी को देने से पहले उसे सेनेटाइज कर जिप बैग में पैक किया जाएगा. उसे सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन से सेनेटाइज किया जाएगा. उसके बाद ही परिजनों को डेड बॉडी सौंपी जाएगी. अब डेड बॉडी को एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए परमिशन की भी जरुरत नहीं होगी. डेड बॉडी को पैतृक स्थान या इच्छित श्मशान या कब्रिस्तान में ले जाने की छूट होगी. परिजनों को जिला कलक्टर, एसडीएम या सीएमएचओ को इसकी जानकारी देनी होगी.

Rajasthan: सचिन पायलट के 43वें जन्मदिन पर समर्थकों ने किया 45 हजार यूनिट से ज्यादा रक्तदान, बनाया रिकॉर्ड
अंतिम संस्कार से पहले और बाद में गाइडलाइन का पालन करना होगा


डेड बॉडी को बिना जिप बैग को खोले ही उसका अंतिम संस्कार करना होगा. डेड बॉडी को स्नान कराना, गले लगाना या चूमना मना होगा. एम्बुलेंस या मृतकों को ले जाने वाले वाहनों के संचालाकों का भी जिला प्रशासन ओरियंटेशन कराएगा. ताकि डेड बॉडी ले जाते वक्त किसी भी प्रकार की चूक ना हो. अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने वाले लोगों को नहाना होगा और साबुन से अच्छे से हाथ धोने होंगे.

कांग्रेस की राजनीति में भूचाल लाने वाले सचिन पायलट का आज 43वां जन्मदिन, PHOTOS में देखें राजनीतिक सफर

संक्रमण के नहीं मिले कोई प्रमाण
कोरोना संक्रमण काल में होने वाली मौतों के बारे में अब तक ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला है की डेड बॉडी से भी संक्रमण होता है. वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना का संक्रमण ड्रॉपलेट्स के द्वारा फैलता है. ऐसे में डेड बॉडी को परिजनों को देने में कहीं कोई बुराई नहीं है. जरूरत सिर्फ इस बात की है कि डेड बॉडी को सौंपते व अंतिम संस्कार करते वक्त कोविड-19 के नियमों का पालन भली-भांति किया जाये.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज