लाइव टीवी

COVID-19: जयपुर में अब 'सोना-2.5' रोबोट करेगा कोरोना पीड़ितों की सेवा, ये है खासियत
Jaipur News in Hindi

Sachin Sharma | News18 Rajasthan
Updated: March 25, 2020, 11:55 PM IST
COVID-19: जयपुर में अब 'सोना-2.5' रोबोट करेगा कोरोना पीड़ितों की सेवा, ये है खासियत
एसएमएस अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में बुधवार को रोबोट के इस्तेमाल का ट्रायल किया गया.

कोरोना वायरस (COVID-19) से मुकाबला करने में जुटे राजस्थान के डॉक्टर्स ने इलाज के दौरान इसके संक्रमित मरीजों के बार-बार संपर्क में आने से बचने के लिए नवाचार किया है.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना वायरस (COVID-19) से मुकाबला करने में जुटे राजस्थान के डॉक्टर्स ने इलाज के दौरान इसके संक्रमित मरीज के बार-बार संपर्क में आने से बचने के लिए नवाचार किया है. प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल में कोरोना पीड़ितों के लिए अब रोबोट (Robot) काम में लिए जाएंगे. एसएमएस अस्पताल में अब 'सोना-2.5' रोबोट से कोरोना पीड़ितों की सेवा की योजना बनाई गई है. इसके जरिए कोरोना पॉजिटिव मरीज का बिना किसी परेशानी के खतरा मोल लिए इलाज हो सकेगा. अगर यह प्रयोग सफल रहा तो एसएमएस अस्पताल कोरोना पीड़ितों के इलाज के लिए रोबोट उतारने वाला पहला अस्पताल बन जाएगा.

प्रयोग सफल रहा तो रोबोट की संख्या बढ़ाई जाएगी
एसएमएस अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में बुधवार को रोबोट के इस्तेमाल का ट्रायल किया गया. इसमें कोरोना पीड़ित के बेड पर दवा पहुंचाने का ट्रायल किया गया. कोरोना पीड़ित मरीजों को दवा देने के लिए नर्सिंग स्टाफ और पैरामेडिकल स्टाफ को बार-बार उनके संपर्क में आना पड़ता है. इसी को देखते हुए रोबोट के इस्तेमाल की एक योजना बनाई गई है. इससे नर्सिंग स्टाफ और पैरामेडिकल स्टाफ को कोरोना पॉजिटिव मरीज के पास बार-बार संपर्क में आने से बचाया जा सकेगा. रोबोट का संचालन कंप्यूटर के जरिए एक स्थान से बैठे-बैठे किया जा सकेगा. यदि यह प्रयोग सफल रहा तो रोबोट की संख्या बढ़ाई जा सकती है.

ये हैं 'सोना 2.5' की खासियतें-



- रोबोट आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस आईओटी और एसएलएएम तकनीक का उपयोग करके तैयार किए गए हैं.
- ये रोबोट सेंसर की मदद से खुद नेविगेट करते हुए अपना रास्ता स्वयं बनाते हैं और टारगेट तक पहुंचते हैं.

- सर्वर से कमांड मिलने पर ये रोबोट सबसे पहले अपने लिए सबसे छोटे रास्ते का मैप क्रिएट करते हैं.
- ये किसी भी फर्श या फ्लोर पर आसानी से मूव कर सकते हैं.
- 'सोना 2.5' रोबोट लाइन फॉलोअर नहीं हैं, बल्कि ऑटो नेविगेशन रोबोट हैं.
- इन्हें मूव कराने के लिए किसी भी प्रकार की लाइन बनाने की आवश्यकता नहीं होती है.

- रोबोट को वाई-फाई सर्वर के जरिए लैपटॉप या स्मार्ट फोन से भी ऑपरेट किया जा सकता है.
- ऑटो नेविगेशन होने से इन्हें अंधेरे में भी मूव कराया जा सकता है.
- इनकी सबसे खास बात यह है कि इनमें ऑटो डॉकिंग प्रोग्रामिंग की गई है.
- बैटरी डिस्चार्ज होने से पहले ही ये खुद चार्जिंग पॉइंट पर जाकर ऑटो चार्ज हो जाएंगे.

जयपुर में 3 पॉजिटिव मरीजों को ठीक किया जा चुका है
उल्लेखनीय है कि विश्वभर में तेजी से पैर पसार रहे कोरोना वायरस का राजस्थान में संक्रमण फैलता जा रहा है. राजस्थान में अब तक 1735 सेम्पल जांच के लिए आए हैं. इनमें से 36 सेम्पल पॉजिटिव पाए गए हैं और 1548 नगेटिव मिले हैं. शेष बचे सेम्पल अभी अंडर प्रोसेस हैं. सवाई मानसिंह अस्पताल के डॉक्टर्स अब तक 3 मरीजों को पूरी तरह से कोरोना वायरस 'फ्री' कर चुके हैं. चौथा मरीज भी ठीक होने की ओर अग्रसर है. उसकी एक रिपोर्ट नगेटिव आ चुकी है. लेकिन अभी एक और रिपोर्ट आना बाकी है.

COVID-19: राजस्थान में 4 और नए पॉजिटिव केस मिले, आंकड़ा पहुंचा 36 तक

COVID-19: ईरान से 277 भारतीय नागरिकों को लेकर जोधपुर पहुंचे 2 विमान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 11:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर