Corona Effect: जयपुर से 70 सीटर विमान में आगरा गया महज 1 यात्री, ये है वजह

कोरोना के कारण लगातार 
नुकसान उठा रही एयरलाइन्स कंपनियों को उम्मीद थी कि फ्लाइट्स शुरू होना उनके लिए संजीवनी  साबित होगा, लेकिन हुआ इसके बिल्कुल उलट.
कोरोना के कारण लगातार नुकसान उठा रही एयरलाइन्स कंपनियों को उम्मीद थी कि फ्लाइट्स शुरू होना उनके लिए संजीवनी साबित होगा, लेकिन हुआ इसके बिल्कुल उलट.

लॉकडाउन (Lockdown) के चौथे चरण में देशभर में भले ही डोमेस्टिक फ्लाइट्स (Domestic flights) शुरू कर दी गई हों, लेकिन कोरोना के खौफ (COVID-19) के चलते अभी तक यात्री यात्रा करने से परहेज कर रहे हैं. हालात ये हैं कई फ्लाइट्स में तो महज 1-1, 2-2 यात्री ही यात्रा कर रहे हैं.

  • Share this:
जयपुर. लॉकडाउन (Lockdown) के चौथे चरण में देशभर में भले ही डोमेस्टिक फ्लाइट्स (Domestic flights)  शुरू कर दी गई हों, लेकिन कोरोना के खौफ (COVID-19) के चलते अभी तक यात्री यात्रा करने से परहेज कर रहे हैं. हालात ये हैं कई फ्लाइट्स में तो महज 1-1, 2-2 यात्री ही यात्रा कर रहे हैं. जयपुर एयरपोर्ट से सोमवार को भी आगरा की फ्लाइट में केवल 1 पैसेंजर सवार होकर गया है. एयर इंडिया की यह फ्लाइट 9I-687 सुबह 7.45 बजे जयपुर से आगरा के लिए रवाना हुई थी. 70 सीटर इस विमान में सिर्फ 1 यात्री की बुकिंग थी. वहीं इससे पहले गत 26 मई को एक विमान से महज 2 यात्री आए थे.

फ्लाइट रद्द होने का सिलसिला बदस्तूर जारी
देश में घरेलू उड़ानें शुरू होने के बाद जयपुर एयरपोर्ट के 25 मई से लेकर 5 जून तक के यात्रीभार के आंकड़ें देखें तो यह बात भलीभांति समझ में आ जाती है कि लोगों के दिमाग से अभी तक कोरोना का खौफ रत्तीभर भी कम नहीं हुआ है. अभी भी केवल वे ही लोग यात्रा कर रहे हैं, जिनकी कोई ना कोई मजबूरी है. ये आंकड़े बताते हैं कि जयपुर से प्रतिदिन 20 फ्लाइट शुरू होने के बाद भी यात्रीभार बेहद कम है. राजस्थान से बाहर जाने वालों की संख्या कम है जबकि यहां लौटने वालों के गिनती ज्यादा है. इसी का नतीजा है कि जयपुर एयरपोर्ट से प्रतिदिन फ्लाइट रद्द होने का सिलसिला बदस्तूर जारी है.

अब जून के महीने में यात्रीभार बढ़ने लगा है
हालांकि कोरोना के कारण लगातार नुकसान उठा रही एयरलाइन्स कंपनियों को उम्मीद थी कि फ्लाइट्स शुरू होना उनके लिए संजीवनी साबित होगा, लेकिन हुआ इसके बिल्कुल उलट. यात्रीभार की कमी की वजह से फ्लाइट्स या तो खाली जा रही हैं और या फिर लगातार रद्द करनी पड़ रही हैं. शुरूआती दिनों में यानि 25 से 31 मई तक हालात में कोई सुधार नहीं हुआ. लेकिन तुलनात्मक रूप से अब जून के महीने में यात्रीभार बढ़ने लगा है.



जयपुर एयरपोर्ट पर यात्रीभार 25 मई से 5 जून तक के आंकड़े

- 25 मई को 520 यात्री आए और 140 यात्री गए.
- 26 मई को 667 यात्री आए और 424 यात्री गए.
- 27 मई को 575 यात्री आए और 476 यात्री गए.

- 28 मई को 688 यात्री आए और 408 यात्री गए.

- 29 मई को 1244 यात्री आए और 413 यात्री गए.

- 30 मई को 826 यात्री आए और 506 यात्री गए.
- 31 मई को 921 यात्री आए और 517 यात्री गए.

- 01 जून को 1353 यात्री आए और 1123 यात्री गए.

- 02 जून को 1315 यात्री आए और 1081 यात्री गए.

- 03 जून को 910 यात्री आए और 747 यात्री गए.

- 04 जून को 1236 यात्री आए और 1267 यात्री गए.

- 05 जून को 1192 यात्री आए और 1188 यात्री गए.

प्रतिदिन 20 में से 11-12 फ्लाइट्स उड़ान भर रही है
ये आंकड़े 20 में से रोज़ना महज 8 से 12 उड़ान भरने वाली फ्लाइट्स के हैं. घरेलू उड़ानें शुरू होने के बाद अब तक शेड्यूल प्रतिदिन 20 फ्लाइट्स ने उड़ान भरी ही नहीं है. 31 मई तक तो यात्रियों का संख्या सैंकड़ों में ही रही है, जबकि 1 जून से यात्रीभार में बढ़ोतरी देखी जा रही है. फिलहाल जयपुर एयरपोर्ट पर पहले जैसी रौनक तो नहीं है लेकिन उम्मीद की जा रही है
जल्द यहां से सभी फ्लाइट्स उड़ान भरेगी.

Rajasthan: चयनित 1896 कृषि पर्यवेक्षकों की उम्मीद की किरण हैं 'टिड्डियां' !

Rajasthan: जुलाई में होंगे शेष बच रही 500 से अधिक ग्राम पंचायतों के चुनाव !
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज