Home /News /rajasthan /

COVID-19: मास्क लगाकर न घूमना दूसरे व्यक्ति के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन- मानवाधिकार आयोग

COVID-19: मास्क लगाकर न घूमना दूसरे व्यक्ति के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन- मानवाधिकार आयोग

(सांकेतिक तस्वीर)

(सांकेतिक तस्वीर)

राज्य मानवाधिकार आयोग (State Human Rights Commission) का कहना है कि कोरोना काल जैसे चुनौतीपूर्ण समय में मास्क लगाकर नहीं घूमना दूसरे व्यक्ति के मानवाधिकारों का उल्लंघन है.

जयपुर. राज्य मानवाधिकार आयोग (State Human Rights Commission) के अध्यक्ष जस्टिस महेश चन्द्र शर्मा का कहना है कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से फैला संक्रमण एक चुनौती की तरह है. हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को लेकर नाराजगी जताई है कि लोग बिना मास्क (Mask) के घूम रहे हैं और सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन नहीं कर रहे हैं. मास्क नहीं पहन कर लोग न केवल अपना जीवन खतरे में डाल रहे हैं, बल्कि आसपास के लोगों का जीवन भी खतरे में डाल रहे हैं. जस्टिस शर्मा के अनुसार, मास्क नहीं लगाकर घूमना दूसरे व्यक्ति के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की भावना के अनुसार सभी लोगों से कोरोना संबंधी गाइडलाइंस की कड़ाई से पालन करने का अनुरोध किया है.

राजस्थान की बात करें तो प्रदेश सरकार ने हाल ही में मास्क लगाना कानून अनिवार्य कर रखा है. मास्क नहीं लगाने पर प्रदेश में पिछले दिनों तेजी से लोगों के चालान काटने समेत उन पर जुर्माना लगाने की कार्रवाई की गई है. हालांकि, उसके बाद लोगों में मास्क के प्रति जागरुकता बढ़ी है, लेकिन उसके बावजूद अभी भी कई लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं.

Panchayati Raj Elections: बीजेपी से क्यों हारी कांग्रेस? 10 बिन्दुओं में जानिये प्रमुख कारण


प्रदेश में 1999 को राज्य मानवाधिकार आयोग का गठन किया गया था
उल्लेखनीय है कि राजस्थान में मानवाधिकारों के संरक्षण के लिए 18 जनवरी 1999 को राज्य मानवाधिकार आयोग का गठन किया गया था. तब से अब तक आयोग में कुल 51,716 परिवाद दर्ज हुए हैं. इन परिवादों में से अब तक 46,621 का निस्तारण भी किया जा चुका है, जबकि 5095 परिवाद इस समय आयोग में लम्बित हैं. आयोग के अध्यक्ष जस्टिस महेश चन्द्र शर्मा का कहना है कि आयोग में शिकायत और परिवादों का बढ़ना इस बात की ओर इशारा करता है कि आम लोगों में मानवाधिकारों के प्रति जागरुकता बढ़ रही है. आयोग अध्यक्ष के मुताबिक विभिन्न तरह की विपरीत परिस्थितियों और सीमित संसाधनों के बावजूद आयोग ने 46 हजार से ज्यादा परिवादों का निस्तारण किया है. इसकी वजह से आम लोगों में आयोग के प्रति विश्वास पैदा हुआ है.

Tags: Corona epidemic, COVID 19, Mask

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर