आनंदपाल के नक्शे कदम पर चल रहा था वांटेड जीतू बन्ना, हरियाणा और दिल्ली में भी कुख्यात

News18Hindi
Updated: August 22, 2019, 2:40 PM IST
आनंदपाल के नक्शे कदम पर चल रहा था वांटेड जीतू बन्ना, हरियाणा और दिल्ली में भी कुख्यात
फोटो- पुलिस गिरफ्त में जीतू बन्ना उर्फ जीतू सिंह.

वांटेड इनामी बदमाश जीतू बन्ना उर्फ जीतू सिंह (Jeetu Banna) आखिर एक पुलिस (Jaipur Police) मुठभेड़ के बाद बुधवार को सलाखों के पीछे पहुंच गया. जीतू बन्ना ने कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह (Gangster Anandpal Singh) की तर्ज पर पुलिस की नाक में दम कर रखा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2019, 2:40 PM IST
  • Share this:
पिछले 10-15 दिनों से जयपुर पुलिस की नाक में दम करने वाला वांटेड इनामी बदमाश जीतू बन्ना उर्फ जीतू सिंह (Jeetu Banna) आखिर एक पुलिस (Jaipur Police) मुठभेड़ के बाद बुधवार को सलाखों के पीछे पहुंच गया. राजस्थान के साथ हरियाणा और दिल्ली में करीब 30 से अधिक आपराधिक मामलों में वांच्छित जीतू बन्ना लम्बे समय से अपराध में लिप्त है और फरवरी में अजमेर के मनी एक्सचेंज कारोबारी (Money Exchange Businessman) मनीष मूलचंदानी की हत्या के बाद से चर्चा में रहा. 21 फरवरी को अजमेर में मर्डर के बाद 6 महीने तक पुलिस की पकड़ से दूर रहा और इसकी वजह पुलिस की नाकामी के साथ फरारी के दौरान जीतू बन्ना का कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह (Gangster Anandpal Singh) की तर्ज पर पुलिस को चकमा देना भी रहा.

कौन है शातिर अपराधी जीतू बन्ना उर्फ जीतू सिंह?

जीतू बन्ना जयपुर के बगरू थाना इलाके में जयपुर-अजमेर हाईवे के नजदीक का रहने वाला है. पिछले कुछ समय से जीतू अपने परिवार के साथ सांभर इलाके में रहा रहा है. जीतू अपराध की दुनिया में लंबे समय से सक्रिय है और उसपर राजस्थान के साथ हरियाणा और दिल्ली में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं. जयपुर में छोटी-मोटी वारदातों के बाद जीतू हरियाणा की एक गैंग के सम्पर्क में आया और फिर बड़े अपराधों में संलिप्त हो गया.

 आनंदपाल की तरह नहीं रखता मोबाइल

जानकारी के अनुसार आनंदपाल सिंह कई सालों तक पुलिस की गिरफ्त से दूर रहा था क्योंकि उसने पुलिस का चकमा देने के लिए खुद कई नियम बना रखे थे. जैसे कभी मोबाइल फोन या स्मार्ट फोन इस्तेमाल नहीं करता था. मोबाइल नेटवर्क के जरिए पुलिस की पकड़ से दूर रहने का आनंदपाल का यही तरीका जीतू बन्ना ने भी अपना रखा था. करीब 30 से ज्यादों मामलों में पुलिस जीतू के पीछे लगी थी लेकिन अभी तक पकड़ से बचता रहा.

यहां देखें- Photos: जीतू बन्ना की गोली से दो पुलिस कांस्टेबल घायल हो गए

पांच दिन पहले 1 करोड़ की रंगदारी के लिए फॉर्च्यूनर समेत 3 कारों को फूंका
Loading...

जीतू ने 14 तारीख को जयपुर-अजमेर और जयपुर-दिल्ली हाईवे पर लकी होटल श्रृंखला के मालिक हनुमान सहाय शर्मा से रंगदारी के रूप में 1 करोड़ रुपए मांगे थे. तब होटल पर फायरिंग कर दहशत फैलाने का काम किया. लेकिन होटल मालिक ने इसे हल्के में लिया और पुलिस का सूचना दी. इसके बाद 17 अगस्त की रात जीतू ने होटल के बाहर 3 लग्जरी कारों पर पेट्रोल छिड़कर कर आग के हवाले कर दिया. यह वारदात वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई.

ये भी पढ़ें- जयपुर पुलिस का LIVE एनकाउंटर: देखें वायरल VIDEO

criminal jeetu banna, jaipur police
एनकाउंटर में घायल पुलिस कांस्टेबलाें को एसएमएस अस्पताल में रेफर किया गया. (फाइल फोटो)


साथी बदमाश सुनील की वजह से पकड़ा गया

एडिशन डीसीपी बजरंग सिंह शेखावत के अनुसार बुधवार शाम 4:30 बजे पुलिस को सूचना मिली थी कि जीतू बोराज के पास एक गैराज में कार का काम करवा रहा है. उन्होंने बताया कि जीतू को पकड़ने के लिए दो दिन पहले ही एक स्पेशल टीम बना ली गई थी और इस सूचना के बाद पुलिस टीम उसे पकड़ने के लिए रवाना हो गई. लेकिन पुलिस पहुंचती उससे पहले जीतू वहां से निकल चुका था. पुलिस इस बार भी खाली हाथ लौटती लेकिन जीतू की गैंग के लोगों की मोबाइल लोकेशन से पुलिस पीछा करती रही. आखिर पुलिस को आसलपुर फाटक के पास होने की जानकारी पर पुलिस ने वहीं धावा बोल दिया और मुठभेड़ में साथी सुनील के साथ जीतू भी पकड़ा गया.

ये भी पढ़ें- जयपुर पुलिस व जीतू बन्ना में मुठभेड़,2 पुलिसवालों को गोली लगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...