होम /न्यूज /राजस्थान /सीएम की कुर्सी पर खतरे के बीच गहलोत सरकार करा रही इन्वेस्टर समिट, बीजेपी बोली- ये कुर्सी बचाने की कोशिश

सीएम की कुर्सी पर खतरे के बीच गहलोत सरकार करा रही इन्वेस्टर समिट, बीजेपी बोली- ये कुर्सी बचाने की कोशिश

गहलोत सरकार के लिए निवेशक समिट की शुरुआत ठीक नहीं रही. कुछ अनिवासी भारतीय निवेशक सरकार के इंतजाम और मेहमानवाजी से नाखुश नजर आए.

गहलोत सरकार के लिए निवेशक समिट की शुरुआत ठीक नहीं रही. कुछ अनिवासी भारतीय निवेशक सरकार के इंतजाम और मेहमानवाजी से नाखुश नजर आए.

राजस्थान में सीएम बदलने की अटकलों के बीच हो रही इस निवेश समिट पर गहलोत सरकार के मंत्रियों को सफाई देनी पड़ी कि राजस्थान ...अधिक पढ़ें

जयपुर. सीएम की कुर्सी पर मंडरा रहे खतरे के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज से जयपुर में दो दिवसीय इन्वेस्टर समिट आयोजित कर रहे हैं. हाालंकि ये समिट औपचारिकता सा है, क्योंकि राजस्थान में निवेश के लिए कुछ महीनों से चल रहे आउट रीच प्रोगाम के तहत पहले ही 10 लाख करोड़ से अधिक के निवेश के प्रस्ताव आ चुके हैं. अब अमलीजामा पहनाया जा रहा है. राजस्थान में सीएम बदलने को लेकर चल रही अटकलबाजी के बीच हो रही इस समिट से निवेशकों को भरोसा दिलाने के लिए गहलोत की ओर से निवेशकों को कहा गया कि सरकार पांच साल चलेगी.

गहलोत सरकार के लिए निवेशक समिट की शुरुआत ठीक नहीं रही. कुछ अनिवासी भारतीय निवेशक सरकार के इंतजामों और मेहमानवाजी से नाखुश नजर आए. अपनी नाखुशी का इजहार भी कर दिया. सिर्फ निवेशक ही नहीं इस समिट के आयोजन को लेकर मीडिया को मुख्य कार्यक्रम स्थल में प्रवेश नहीं देने पर बीजेपी ने सरकार पर हमला बोला.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने एक वीडियो ट्वीट कर लिखा कि जादूगर जी इन्वेस्ट राजस्थान समिट में पत्रकार धकेल योजना का शुभारंभ हुआ. पूनिया ने लिखा कि इस समिट में ऐसा क्या गोलमाल हो रहा है कि मुख्य कार्यक्रम स्थल से मीडिया बंधुओं को दूर रखा गया. ये विवाद थमता, उससे पहले ही इनवेस्टमेंट समिट के आयोजन स्थल वाले मार्ग में सड़क किनारे कच्ची बस्तियों को पैबंद लगाकर ढका गया. बीजेपी ने इस पर भी सवाल उठाया. बीजेपी ने आरोप लगाया कि ये इन्वेस्टमेंट समिट नहीं कुर्सी बचाओ समिट है. गहलोत पुराने एमओयू को इन्वेस्टमेंट बताकर कुर्सी बचाने की जुगत में लगे हैं.

राजस्थान में सीएम बदलने की अटकलों के बीच हो रही इस निवेश समिट पर गहलोत सरकार के मंत्रियों को सफाई देनी पड़ी कि राजस्थान में गहलोत की अगुवाई में सरकार पांच साल चलेगी. निवेशक घबराए नहीं. खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सरकार चाहे किसी की भी आए योजनाएं बदलनी नहीं चाहिए.

Tags: Ashok gehlot, Ashok Gehlot Government, Investor Summit, Rajasthan Politics

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें