लाइव टीवी

जयपुर: NWR में निजीकरण की सुगबुगाहट, NWREU ने कहा- चक्का जाम कर देंगे
Jaipur News in Hindi

Asif Khan | News18 Rajasthan
Updated: February 13, 2020, 8:16 PM IST
जयपुर: NWR में निजीकरण की सुगबुगाहट, NWREU ने कहा- चक्का जाम कर देंगे
सूत्रों का कहना है कि NWR के चारों मंडल इसके दायरे में आने वाले हैं. इसमें जयपुर से कोटा, अजमेर, उधमपुर, मुंबई, दिल्ली और बैंगलुरु के बीच आने वाले साल से निजी ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा.

उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) में भी निजीकरण सुगबुगाहट होने लग गई है. बताया जा रहा है कि रेलवे बोर्ड (Railway board) ने रिक्वेस्ट फॉर कोटेशन (RFQ) जारी कर दिया है. वहीं NWREU का कहना है कि अगर ऐसा हुआ वे अपने आंदोलन को बड़ा करेंगे और चक्का जाम कर देंगे.

  • Share this:
जयपुर. उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) में भी निजीकरण सुगबुगाहट होने लग गई है. बताया जा रहा है कि रेलवे बोर्ड (Railway board) ने रिक्वेस्ट फॉर कोटेशन (RFQ) जारी कर दिया है. NWR ये तो मान रहा है कि रेलवे की निजी भागीदारी (Private partnership) के साथ चलाने की योजना है, लेकिन वह निजीकरण की बात से साफ इंकार कर रहा है. वहीं उत्तर पश्चिम रेलवे कर्मचारी यूनियन (NWREU) लगातार रेलवे के निजीकरण को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहा है. NWREU का कहना है कि अगर ऐसा हुआ वे अपने आंदोलन को बड़ा करेंगे और चक्का जाम कर देंगे.

चारों मंडल इसके दायरे में आने वाले हैं
सूत्रों का कहना है कि NWR के चारों मंडल इसके दायरे में आने वाले हैं. इसमें जयपुर से कोटा, अजमेर, उधमपुर, मुंबई, दिल्ली और बैंगलुरु के बीच आने वाले साल से निजी ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा. वहीं NWR के सीपीआरओ अभय शर्मा के मुताबिक ये सारी कवायद प्राइवेट कंपनियों के साथ मिलकर की जाएगी, लेकिन इसे निजीकरण कहना सरासर गलत है. रेलवे बोर्ड के RFQ प्रपोजल में राजस्थान के कोटा और जोधपुर से एक-एक और अजमेर से दो शहरों के लिए निजी ट्रेनों का संचालन होगा.

जयपुर में सबसे ज्यादा 6 शहरों के लिए ट्रेनें चलने की संभावना



इस योजना के मुताबिक जयपुर में सबसे ज्यादा 6 शहरों के लिए ट्रेनें चलने की संभावना है. नए साल के दौरान जो कंपनी सबसे ज्यादा पैसों का अनुबंध करेगी उसे कल्स्टर अलॉट किया जाएगा. दूसरी तरफ NWREU का कहना है कि अगर ऐसा हुआ वो आंदोलन को बड़ा करेंगे और चक्का जाम कर देंगे. NWREU के महामंत्री के मुकेश माथुर ने बताया कि उनका डेलीगेशन रेल मंत्री से मिलकर आया है. रेल मंत्री ने उनको खुद आश्वासन दिया है कि रेलों का निजीकरण नहीं होगा.

NWR का नंबर अगले साल आएगा
कुल मिलाकर इस मसले को लेकर विरोधाभास सामने आ रहा है. NWR का कहना है कि ये प्राइवेट कंपनियों के साथ बस महज साझेदारी होगी, जबकि RFQ प्रपोजल में कुछ और ही सामने आ रहा है. हालांकि इस योजना को अमली जामा पहनाने के लिए NWR का नंबर अगले साल आएगा, लेकिन दूसरी तरफ NWREU भी इस मसले पर रेलवे से दो-दो हाथ करने की पुरजोर तैयारियों में जुट रहा है.

 

 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत आने से पहले पार्टनर को मिली खुशखबरी

 

 

अब ट्रेन में आराम से सोएं, रेलवे कहेगा- जाग जाइए, आपका स्टेशन आने वाला है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 8:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर