Home /News /rajasthan /

अटल बिहारी वाजपेयी के सबसे करीब रहता है जयपुर का यह शख्‍स, आखिर क्‍यों?

अटल बिहारी वाजपेयी के सबसे करीब रहता है जयपुर का यह शख्‍स, आखिर क्‍यों?

राजस्थान का अटल बिहारी वाजपेयी के साथ ऐसा अटूट नाता रहा है जो आज भी बदस्तूर जारी है। रिश्तों की ऐसी बानगी शायद देखने को ना मिले। जी हां हम बात कर रहे है शिवकुमार पारीक के बारे में।

राजस्थान का अटल बिहारी वाजपेयी के साथ ऐसा अटूट नाता रहा है जो आज भी बदस्तूर जारी है। रिश्तों की ऐसी बानगी शायद देखने को ना मिले। जी हां हम बात कर रहे है शिवकुमार पारीक के बारे में।

राजस्थान का अटल बिहारी वाजपेयी के साथ ऐसा अटूट नाता रहा है जो आज भी बदस्तूर जारी है। रिश्तों की ऐसी बानगी शायद देखने को ना मिले। जी हां हम बात कर रहे है शिवकुमार पारीक के बारे में।

राजस्थान का अटल बिहारी वाजपेयी के साथ ऐसा अटूट नाता रहा है जो आज भी बदस्तूर जारी है। रिश्तों की ऐसी बानगी शायद देखने को ना मिले। जी हां हम बात कर रहे है शिवकुमार पारीक के बारे में।

जयपुर के रहने वाले शिवकुमार पारीक कई सालों से अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सचिव के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे है। बस शिवकुमार पारीक को मलाल है कि आज उनका लीड़र सियासी जीवन में सक्रिय नहीं है, न ही उनकी ओजस्वी वाणी के बोल आज सुनाई दे रहे है।

पारीक अटल के जीवन पर एक पुस्तक भी लिख रहे हैं जो उनके खुद की जीवन से भी जुड़ी है। पारीक की लंबे समय से चाहते थे कि वाजपेयी को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' से नवाजा जाए। उनकी यह इच्‍छा शुक्रवार केा पूरी हो गई।

'वाजपेयी के साथ बिताये प्रत्येक पल अविस्मरणीय'
देश के प्रधानमंत्री रहे पं. जवाहर लाल नेहरू ने एक दफा अटल बिहारी वाजपेयी की वाकशैली और कार्यकुशलता से प्रभावित होकर कहा था कि एक दिन तुम देश के प्रधानमंत्री बनोगे। ये बात अचरज भरी हो सकती है, क्योंकि नेहरू अपने विरोधी दल के नेता को देश का भावी प्रधानमंत्री बता रहे थे।

ये दूरदर्शिता पं. नेहरू जैसे राजनेता ही भांप सकते थे और आखिर ऐसा हुआ भी जब एक दिन ऐसा आया कि अटल बिहारी वाजपेयी ने देश के प्रधानमंत्री पद की बागडोर संभाली। वह पांच साल पूरे करने वाली पहली गैर कांग्रेसी सरकार के प्रधानमंत्री बने। स्वाधीनता आंदोलन से लेकर प्रखर राजनेता बनने तक का अटल बिहारी वाजपेयी का सफर आसां नहीं था। इस सफर को हम राजस्थान से तो नहीं, लेकिन राजस्थान के एक व्यक्ति से जोड़ सकते हैं जो पिछले कई सालों से वाजपेयी के साथ साये की तरह है।

रौबदार व्यक्तित्व के धनी, करीब छह फुट लंबे और घनी मूंछों वाले, भगवान शंकर के परम भक्त और वाजपेयी के सबसे करीबी ये शख्स हैं जयपुर निवासी शिवकुमार पारीक। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सहायक शिवकुमार मानते हैं वाजपेयी के साथ बिताये प्रत्येक पल अविस्मरणीय है।

वाजपेयी के रक्षक बनकर आए थे शिवकुमार
शिवकुमार का अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ना किसी इत्‍तेफाक से कम नहीं था। वाजपेयी से जुड़ने से पहले शिवकुमार आरएसएस के हार्डकोर स्वयंसेवक थे। अपने गठीले शरीर के कारण वह औरों से अलग दिखते थे और व्यवहार के कारण सबके प्रिय।

इसी दौरान अटल बिहारी वाजपेयी देश की राजनीति के उभरते सितारे बन चुके थे, बलरामपुर का चुनाव वाजपेयी लड़ चुके थे। वहीं, जनसंघ संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मौत से सब स्तब्ध।

इसी दौरान किसी ने सुझाव दिया कि वाजपेयी को एक ऐसे सहयोगी कि जरूरत है जो उनकी रक्षा भी करे। काफी तलाश के बाद नानाजी देशमुख ने नाम सुझाया राजस्थान के जयपुर के निवासी शिवकुमार का।

आज शिवकुमार को वाजपेयी के निजी सहायक के तौर पर जाना जाता है, लेकिन वह इससे कहीं बढ़कर है। बलरामपुर के अलावा वे वाजपेयी के हर चुनाव में उनके चुनाव एंजेट रहे और सुख-दुख के साथी। दर्जनों तस्‍वीरें गवाह है कि राज्य के प्रखर राजनीतिज्ञ दिवगंत भैंरो सिंह शेखावत के सिवाय अटल बिहारी वाजपेयी का राजस्थान से जुड़ा कोई सच्चा हमदर्द रहा तो वह है शिवकुमार।

अटल के हर दुख-सुख के रहे साथी
शिवकुमार केवल अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सहायक के बतौर ही नहीं बल्कि उनके हर राजनीतिक उतार-चढाव के साक्षी रहे। उनकी अनुपस्थिति में सालों तक शिवकुमार ने ही लखनऊ संसदीय क्षेत्र को संभाला। जब तक वाजपेयी स्वस्थ्य थे उनके हर पारिवारिक कार्यक्रम में शरीक हुए।

आज जब वाजपेयी अस्वस्थता के कारण राजनीतिक और सामाजिक जीवन में सक्रिय नहीं है तो शिवकुमार ही उनके सियासी जीवन की दिनचर्या को संभालते है ठीक एक पारिवारिक सदस्य की तरह। वाजपेयी को भारत रत्न मिलने पर इन्हें बड़ी खुशी है।

अटल बिहारी वाजपेयी के सबसे करीब रहता है जयपुर का यह शख्‍स, जानें आखिर क्‍यों?

भारत रत्‍न’ बने अटल बिहारी वाजपेयी, राष्‍ट्रपति ने घर जाकर दिया सम्‍मान

PICS: भोपाल में भतीजी रेखा के घर पर ही भोजन करते थे अटल बिहारी वाजपेयी

PICS: देखिए, ‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी के घर पहुंचकर किन नेताओं ने दी बधाई

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर