लाइव टीवी

वफादारी की कहानी: मालिक को बचाते- बचाते साथ जल गया...ब्रूनो

Bhawani Singh | News18India
Updated: January 21, 2019, 5:42 PM IST
वफादारी की कहानी: मालिक को बचाते- बचाते साथ जल गया...ब्रूनो
डॉग ब्रूनो.

जयपुर में घर में लगी आग ने एक क्रिकेटर और उसके डॉगी की जान ले ली. जिस वक्त आग लगी डॉगी ब्रूनो क्रिकेटर संजीव ओहलान के पास ही सोफे पर सो रहा था.

  • News18India
  • Last Updated: January 21, 2019, 5:42 PM IST
  • Share this:
जयपुर में घर में लगी आग ने एक क्रिकेटर और उसके डॉगी की जान ले ली. जिस वक्त आग लगी डॉगी ब्रूनो क्रिकेटर संजीव ओहलान के पास ही सोफे पर सो रहा था. वफादार डॉगी ने अपने मालिक संजीव को बचाने की पूरी कोशिश की, संजीव की टी शर्ट खींचता रहा ब्रूनो... लेकिन न संजीव को बचा पाया न खुद बच पाया. वे संजीव के साथ ही सोता था. संजीव पूर्व रणजी प्लेयर था. ये तस्वीर है संजीव ओहलान और उसकी पत्नी सुमन की. संजीव को जितना प्रेम पत्नी करती थी उतना ही डॉगी ब्रूनो. संजीव को ब्रूनो से इतना लगाव था कि अपने कमरे में ब्रूनो को रात को साथ ही रखता था. जयपुर के अंबाबबाड़ी के इसी घर पर पहली मंजिल पर पीछे के इस कमरे में संजीव बैड पर सो रहे था. डोगी ब्रूनो बगल में सोफे पर...पत्नी और बेटा त्रिशिव ग्राउंड फ्लोर के कमरे में सो रहे थे.

ये भी पढ़ें- पिता जादू टोना करता था! 15 महीने बाद कंकाल मिला तो हुआ ये खुलासा

रविवार सुबह पांच बजे पत्नी सुमन ने पहली मंजिल से धुआं निकलते देखा तो पहले पति संजीव को फोन किया संजीव ने नहीं उठाया तो...फिर दूसरी मंजिल पर सो रहे नौकर को फोन किया. तब तक आग ने विकराल रूप ले लिया था. पड़ोसी, फायर ब्रिगेड, पुलिस पहुंची. खिड़की तोड़कर संजीव को निकाला. अस्पताल लेकर पहुंचे लेकिन तब तक संजीव ने दम तोड़ दिया.

ये भी पढ़ें- विधानसभा के पहले प्रश्नकाल में उठी नए जिलों की मांग, पढ़ें- सरकार का जवाब

पांच बजे की घटना है. पत्नी को एयरपोर्ट जाना था. वहां से दिल्ली जाना था. वे जगी तब धुआ नजर आया. कंट्रोल रूम को सूचना दी. फायर ब्रिगेड की टीम आ गई थी. संजीव पहले मंजिल पर थे. अस्पताल ले जाया गया. डोग पास ही सो रहा था. डोग की भी मृत्यु हो चुकी. डॉग पालतू था. डोग भी मालिक के साथ ही मिला. जांच करेंगे.
राधारमन गुप्ता, पुलिस अधिकारी


Dog
संजीव के बेटे के साथ ब्रूनो.


आग लगने के बाद संजीव को बचाने की पहली कोशिश उसके पालतू कुत्ते ब्रूनों ने की. ब्रूनों संजीव की टी शर्ट बार बार खींचता रहा. संजीव की टी शर्ट पर डॉगी की इस खींचतान के निशान मिले. संजीव के पिता का भी कहना है कि ब्रूनों संजीव का काफी वफादार था. वे उसके साथ ही रहता था. ब्रूनों और संजीव में लगाव का अंदाजा इसी से लगा सकते है कि संजीव ने अपने फेसबुक पेज पर अपने प्यारे डॉगी ब्रूनों की तस्वीरें पोस्ट कर रखी थी और बेटे के साथ भी.यहां पढ़ें सुर्खियां: वसुंधरा नहीं छोड़ेंगी राजस्थान, गहलोत ने कहा- बिजली कटौती बंद
वो मेरी दिल की धड़कन थी. कभी मैंने कहा तो आवाज नहीं उठाई, वो बेस्ट आलराउंर था. उसकी जान बच जाती अगर सीढ़ियों की तरफ से उतरता. हमें सुबह सूचना मिली. तब दौड़कर एसएमएस अस्पताल पहुंचे. डॉग फेथफुल था. जो फाईटिंग स्प्रिट रही वो लास्ट तक दिखाई. उस समय उसने सोचा होगा कि आग से बचा लू. हमारे लिए अन रिपेरयरेबेल लोस है. उसनी अपनी भरपूर जिंदगी जी.
बीएस ओहलान, संजीव के पिता


ये भी पढ़ें- जयपुर की अनिका को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार, पढ़ें- नन्हीं बच्ची के हौसले की कहानी

संजीव रणजी प्लेयर रह चुका था. वो शानदार क्रिकेटर ही नहीं वे एक ईवेंट मैनेजर भी था. एक ईवेंट कंपनी चलाता था और कश्मीर फूड का एक रेस्तरां भी. प्रारंभिक जाकारी के मुताबिक आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी. वुडन वर्क की वजह से आग तेजी से पूरे घर में फैल गई. पिछले साल ही 13 जनवरी को इसी इलाके में शोर्ट सर्किट से आग से घर में दादा और दो पोतियों समेत पांच लोग जिंदा जल गए थे.

ये भी पढ़ें-

लोकसभा चुनाव से पहले BJP की 'जयपुर सरकार' ने लगाई शराब पर पाबंदी

कांग्रेस से बीजेपी सरकार तक यहां पढ़ें- महिला आरक्षण बिल का पूरा इतिहास

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2019, 5:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर