होम /न्यूज /राजस्थान /जयपुर एयरपोर्ट पर फिर कम हुई घरेलू उड़ानों की संख्या, 4 महीनें में एक-एक कर बंद हुई 7 उड़ानें

जयपुर एयरपोर्ट पर फिर कम हुई घरेलू उड़ानों की संख्या, 4 महीनें में एक-एक कर बंद हुई 7 उड़ानें

सिर्फ पिछले चार महीनों में 7 घरेलू उड़ानें लगभग बंद हो चुकी है.

सिर्फ पिछले चार महीनों में 7 घरेलू उड़ानें लगभग बंद हो चुकी है.

Jaipur Airport: जयपुर एयरपोर्ट के शिड्यूल पर नज़र डाले तो 22 अलग अलग शहरों के लिए फ्लाइट्स उड़ान भरती है. लेकिन हकीकत य ...अधिक पढ़ें

जयपुर. जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के बंद होने का सिलसिला रूकने का नाम ही नहीं ले रहा है. सिर्फ पिछले चार महीनों में 7 घरेलू उड़ानें लगभग बंद हो चुकी है. हालांकि यह संकट सिर्फ घरेलू उड़ानों को लेकर है जबकि इंटरनेशनल फ्लाइट्स ना केवल उड़ान भर रही है बल्कि उनकी उड़ानों की संख्या में इज़ाफा भी हो रहा है.

बता दें, हाल ही में जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से चार नई इंटरनेशनल फ्लाइट्स के संचालन की घोषणा की गई है. विस्तारा एयरलाइन्स ने भी दो फ्लाइट्स मुंबई के लिए शुरू की है, लेकिन ये 6 नई फ्लाइट्स के जुड़ने के साथ ही 7 पुरानी घरेलू उड़ानों पर संकट आ खड़ा हुआ.
इन शहरों की हवाई सेवा हो गई बंद

स्पाइसजेट की दोपहर 2:25 बजे वाराणसी की फ्लाइट SG-3261, इंडिगो की दोपहर 12:40 बजे वडोदरा की फ्लाइट 6E-7261, इंडिगो की सुबह 11:10 बजे पटना की फ्लाइट 6E-154, स्पाइसजेट की सुबह 8:40 बजे धर्मशाला की फ्लाइट SG-3441, स्पाइसजेट की शाम 5:40 बजे अमृतसर की फ्लाइट SG-3759 बंद हो गयी है.

जानें क्यों रद्द हो रही हैं फ्लाइट्स

जयपुर एयरपोर्ट के शिड्यूल पर नज़र डाले तो 22 अलग अलग शहरों के लिए फ्लाइट्स उड़ान भरती है. लेकिन हकीकत यह है कि नियमित रूप से केवल 17 शहरों के लिए ही उड़ाने संचालित हो रही है. 3 ऐसे शहर है जिन के लिए सप्ताह में तीन दिन फ्लाइट्स का संचालन होता है. लेकिन, यह नियमित रूप से 3 दिन कभी उड़ान नहीं भरती. इन तीन शहरों में उदयपुर, गोवा और भुवनेश्वर शामिल है. मिली जानकारी के अनुसार फ्लाइट्स को सीट टू सीट यात्री नहीं मिल पा रहे हैं.

हवाई टिकट की दर में हो रही कमी की मांग 

बता दें, एक फ्लाइट में कम से कम 70 यात्रियों की सीट होती है और बंद होने वाली फ्लाइट्स में 20 से 25 यात्री ही पहुंच रहे थे, जिसके कारण एयरलाइन्स कंपनी संचालन कारणों का बहाना बनाकर फ्लाइट को रद्द कर दिया. अब स्थिति यह है कि उड़ान नहीं होने के कारण यात्रियों को दूसरी फ्लाइट का इंतज़ार करना पड़ता है. फिलहाल एक तरफ से इंटरनेशल उड़ानों की संख्या बढ़ रही है और दूसरी तरफ घरेलू उड़ानों की संख्या कम हो रही है. लोगों के अनुसार इस समस्या का एक ही निदान नज़र आता है और वो है हवाई टिकटों के दामों में कमी होना.

Tags: Jaipur Airport, Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें