डॉ. जोशी कल निर्वाचन की औपचारिकता के बाद विधानसभा अध्यक्ष का पद संभालेंगे
Jaipur News in Hindi

डॉ. जोशी कल निर्वाचन की औपचारिकता के बाद विधानसभा अध्यक्ष का पद संभालेंगे
डॉ. सीपी जोशी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए डॉ. सीपी जोशी के नाम पर मुहर लग चुकी है. अब बुधवार को विधानसभा अध्यक्ष के निर्वाचन की औपचारिकताएं होने के बाद दोपहर में डॉ. सीपी जोशी पदभार संभालेंगे.

  • Share this:
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए डॉ. सीपी जोशी के नाम पर मुहर लग चुकी है. अब बुधवार को विधानसभा अध्यक्ष के निर्वाचन की औपचारिकताएं होने के बाद दोपहर में डॉ. सीपी जोशी पदभार संभालेंगे. विधानसभा में बुधवार को अध्यक्ष के निर्वाचन के लिए नामांकन होंगे. अगर किसी ने सामने नामांकन दाखिल नहीं किया तो वे सर्वसम्मति से अध्यक्ष चुन लिए जाएंगे. उसके बाद दोपहर में विधानसभा अध्यक्ष का पद संभालेंगे. राजस्थान विधानसभा में सर्वसम्मति से अध्यक्ष बनने की परंपरा है.

ये भी पढ़ें- BJP की बैचेनी बढ़ाने वाली हैं कांग्रेस की डिनर पॉलिटिक्टस की ये PHOTOS! 

डॉ. सीपी जोशी की छवि तेजतर्रार नेता की है. उन्हें संसदीय मामलों की गहरी समझ है. डॉ. जोशी सदन में बेहतरीन वक्ता रहे हैं. पक्ष विपक्ष में विधानसभा में उनके तर्क अकाट्य रहे हैं. अब सीपी जोशी के सामने विधानसभा को चलाने की नई जिम्मेदारी होगी.



यह भी पढ़ें: सीपी जोशी होंगे राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष, राहुल गांधी ने दी हरी झंडी 



15वीं विधानसभा का पहला सत्र आज से, प्रोटेम स्पीकर दिलाएंगे सदस्यों को शपथ

नाथद्वारा से पांचवीं बार विधायक बने हैं डॉ. जोशी
29 जुलाई 1950 को जन्मे डॉ. सीपी जोशी एमएससी, एमए, एलएलबी, पीएचडी शिक्षा प्राप्त हैं. डॉ. जोशी उदयपुर की मोहनलाल सुखाड़िया यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान के प्रोफेसर रहे हैं. वे नाथद्वारा से पांचवीं बार विधायक बने हैं. डॉ. जोशी 1980, 1985, 1998, 2003 और अब 2018 में नाथद्वारा से पांचवीं बार विधायक चुने गए हैं. डॉ. जोशी 1998 से 2003 तक राजस्थान सरकार में पंचायतीराज, ग्रामीण विकास, पीएचईडी और शिक्षा विभाग के कैबिनेट मंत्री रहे हैं.

2008 में नाथद्वारा सीट से एक वोट से चुनाव हार गए थे
डॉ. जोशी 2008 में नाथद्वारा सीट से एक वोट से चुनाव हार गए थे. उस समय वे सीएम पद के प्रबल दावेदार थे. एक वोट से चुनाव हारने का यह मामला देशभर में चर्चित रहा था. 2009 में उन्होंने भीलवाड़ा सीट से लोकसभा का चुनाव जीता और केंद्र की यूपीए सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री बने. यूपीए सरकार में कैबिनेट मंत्री बने डॉ. जोशी 22 मई 2009 से 18 जनवरी 2011 तक केंद्रीय पंचायतीराज ग्रामीण विकास मंत्री रहे. 19 जनवरी 2011 से 16 जून 2013 तक केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री रहे. इस बीच में उन्होंने रेल मंत्रालय का अतिरिक्त कार्यभार भी संभाला.

ये भी पढ़ें- राजस्थान में स्वाइन फ्लू की जांच और इलाज कहां उपलब्ध है? यहां पढ़ें- पूरी जानकारी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading