लाइव टीवी

विश्व धरोहर जयपुर: परकोटे का ड्रोन सर्वे, अवैध निर्माण चिन्हित कर हटाएगी सरकार

Lovely Wadhwa | News18 Rajasthan
Updated: October 14, 2019, 6:47 PM IST
विश्व धरोहर जयपुर: परकोटे का ड्रोन सर्वे, अवैध निर्माण चिन्हित कर हटाएगी सरकार
मंत्री धारीवाल ने बताया कि अवैध निर्माणों को हटाने के लिए 60 दिन का समय दिया जाएगा, लेकिन इसके बाद परकोटे के अवैध निर्माणों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा.

राजधानी जयपुर (Jaipur) का परकोटा विश्व धरोहर (World heritage) में शामिल होने के बाद सरकार अब इसे संरक्षित करने के लिए जुट गई है. राज्य सरकार (State government) ने यूनेस्को (UNESCO) की ओर से बताई गई शर्तों (Conditions) के आधार पर काम करना शुरू कर दिया है.

  • Share this:
जयपुर. राजधानी जयपुर (Jaipur) का परकोटा विश्व धरोहर (World heritage) में शामिल होने के बाद सरकार अब इसे संरक्षित करने के लिए जुट गई है. राज्य सरकार (State government) ने यूनेस्को (UNESCO) की ओर से बताई गई शर्तों (Conditions) के आधार पर काम करना शुरू कर दिया है. इसके तहत सोमवार से गुलाबी नगरी के विश्वविख्यात परकोटे के भीतर ड्रोन (Drone) के माध्यम से विस्तृत सर्वे एवं विडियोग्राफी (Survey & Videography)के कार्य की विधिवत शुरुआत कर दी गई है.

मंत्री धारीवाल ने शुरू कराया सर्वे का कार्य
गरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने गुलाबी नगरी के चारदीवारी के भीतर ड्रोन के माध्यम से विस्तृत सर्वे एवं विडियोग्राफी के कार्य की शुरुआत करवाई. हालांकि सर्वे की शुरुआत में ही ड्रोन में तकनीकी खामी आ गई जिसके चलते मंत्री धारीवाल को शुभारंभ के लिए आधे घंटे तक इंतजार करना पड़ा. बाद में मशक्कत कर ड्रोन को ठीक करके सर्वे का काम शुरु किया गया.

अवैध निर्माणों को हटाने के लिए 60 दिन का समय दिया जाएगा

इस दौरान धारीवाल ने कहा कि परकोटे में सर्वे एवं विडियोग्राफी के दौरान हैरिटेज मानकों के विरुद्ध किए गए बहुमंजिला निर्माणों एवं अतिक्रमणों को सूचीबद्ध किया जाएगा. दीपावली के बाद उनके खिलाफ नियमानुसार सख्त कार्रवाई की जाएगी. मंत्री ने बताया कि अवैध निर्माणों को हटाने के लिए 60 दिन का समय दिया जाएगा, लेकिन इसके बाद परकोटे के अवैध निर्माणों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा. धारीवाल ने बताया कि यूनेस्को की ओर से मिली गाइडलाइन के मुताबिक गुलाबी नगरी की विश्व धरोहर चार दीवारी क्षेत्र में शीघ्र ही नए हैरिटेज बायलॉज सरकार लागू करेगी.

गाइडलाइन को पूरा नही किया गया तो छीन सकता है तमगा
उल्लेखनीय है कि अगर समय रहते यूनेस्को की गाइडलाइन को पूरा नही किया गया तो जयपुर से विश्व धरोहर का तमगा छीन सकता है. ऐसे में सरकार की यह पूरी कोशिश है कि किसी भी सूरत में परकोटे की विश्व धरोहर वाली पहचान कायम रहे ताकि गुलाबीनगरी को निहारने आने वाले पर्यटकों की संख्या में इजाफा हो सके.
Loading...

अशोक गहलोत सरकार का यू-टर्न, जनता नहीं पार्षद ही चुनेंगे निकाय प्रमुख

मंत्री शांति धारीवाल बोले, हम मीसा बंधुओं को स्वतंत्रता सेनानी नहीं मानते

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 6:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...