vidhan sabha election 2017

राजस्थान में अगले सत्र में एक साथ खुलेंगे 8 मेडिकल कॉलेज

Sachin | ETV Rajasthan
Updated: December 7, 2017, 5:52 PM IST
राजस्थान में अगले सत्र में एक साथ खुलेंगे 8 मेडिकल कॉलेज
 कालीचरण सर्राफ, चिकित्सा मंत्री फोटो- ईटीवी
Sachin | ETV Rajasthan
Updated: December 7, 2017, 5:52 PM IST
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की मंशा के अनुरूप प्रदेश में अगले सत्र में एक साथ आठ नए मेडिकल कॉलेज शुरू होंगे जो अपने आप में एक कीर्तिमान होगा. हाल ही में मेडिकल काउन्सिल ऑफ इण्डिया ने प्रदेश में प्रस्तावित इन मेडिकल कॉलेजों का निरीक्षण किया और स्टाफ की कमी को प्रमुख कमी माना.

स्टाफ की इस कमी को दूर करने के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग ने इन सभी नए मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्यों को यह निर्देश दिए हैं कि उनके जिले के अस्पताल में जो भी चिकित्सक मेडिकल कॉलेज में बतौर फैकल्टी लगना चाहता है उसे योग्यतानुसार नियुक्ति दी जाएगी.

चिकित्सा मंत्री कालीचरण सर्राफ ने बताया कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में 8 नये मेडिकल कॉलेज चूरू, डूंगरपुर, भीलवाड़ा, भरतपुर, बाड़मेर, पाली, अलवर और सीकर में स्वीकृत किये गये हैं. प्रत्येक मेडिकल कॉलेज 189 करोड़ रुपये की लागत से अप्रैल 2016 में शुरू हुए. निर्माण कार्य प्रगति पर है और अगले वर्ष इनकी सौगात प्रदेश में मिल सकेगी.

प्रदेश में 8 मेडिकल कॉलेजों के लिए कुल 832 फेकल्टी स्टाफ चाहिए. प्रत्येक मेडिकल कॉलेज में 104 फेकल्टी स्टाफ चाहिए. ऐसे में अब तक केवल 114 फेकल्टी स्टाफ ने ही ज्वॉइन किया है.

इस कमी को दूर करने के लिए अब सम्बन्धित जिले जिसमें मेडिकल कॉलेज हैं और वहां के सम्बद्ध अस्पताल के चिकित्सक यदि फैकल्टी के तौर पर कॉलेज में लगना चाहते हैं तो सरकार ने उनसे सीधे मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को आवेदन देने को कहा है ताकि स्टाफ की कमी को दूर किया जा सके. फैकल्टी में सीनियर प्रोफेसर, प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर, रेजीडेंट और सीनियर रेजीडेंट की जरूरत है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर