लाइव टीवी

सहकारी संस्थाओं के चुनाव: इसी माह शुरू होगी प्रक्रिया, यह रहेगा कार्यक्रम

Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: December 16, 2019, 2:54 PM IST
सहकारी संस्थाओं के चुनाव: इसी माह शुरू होगी प्रक्रिया, यह रहेगा कार्यक्रम
अगले कुछ महीनों में करीब 18 हजार सहकारी संस्थाओं के चुनाव करवाए जाएंगे.

प्रदेश में चल रही चुनावी बयार के बीच अब सहकारी संस्थाओं के चुनाव (Election of cooperative institutions) की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं. निर्वाचन की प्रक्रिया (Election process) इसी महीने से शुरू हो जाएगी. जून, 2020 से पहले सभी सहकारी संस्थाओं के चुनाव करवाने की तैयारियां की जा रही है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में चल रही चुनावी बयार के बीच अब सहकारी संस्थाओं के चुनाव (Election of cooperative institutions) की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं. प्रदेश में हाल ही में हुए 49 स्थानीय निकायों (Local bodies) के बाद अब जहां पंचायत चुनावों (Panchayat Elections) की तैयारियां चल रही हैं. वहीं उनके बाद लगते हाथ ही सहकारी संस्थाओं के चुनाव कराने के लिए सरकारी मशीनरी हरकत (Government machinery action) में आ गई है. पंचायत चुनाव की बिसात बिछने के साथ ही सहकारी संस्थाओं के चुनाव की हलचल तेज होने से ग्रामीण क्षेत्रों में राजनीति (Politics) गरमाने लगी है.

चुनाव तीन चरणों में करवाए जाएंगे
सरकार के निर्देश पर सहकारी निर्वाचन प्राधिकरण ने सहकारी समितियों के चुनाव की कवायद शुरू कर दी है. अगले कुछ महीनों में करीब 18 हजार सहकारी संस्थाओं के चुनाव करवाए जाएंगे. जून, 2020 से पहले सभी सहकारी संस्थाओं के चुनाव करवाने की तैयारियां की जा रही है. प्रदेश में लम्बे समय से अटकी सहकारी संस्थाओं के निर्वाचन की प्रक्रिया इसी महीने से शुरू हो जाएगी. प्रदेश में करीब की 18 हजार सहकारी संस्थाओं के चुनाव तीन चरणों में करवाए जाएंगे. इनमें से कई संस्थाओं के चुनाव राजनीतिक कारणों से अटके हुए थे. इसके कारण इन सहकारी संस्थाओं का जिम्मा निर्वाचित प्रतिनिधियों के हाथ में होने की बजाय प्रशासकों के हाथ में था.

जून, 2020 से पहले चुनाव कराने की तैयारियां

प्रदेश में सहकारी संस्थाओं का जाल गांव-गांव तक फैला हुआ है. ये संस्थाएं ग्रामीण क्षेत्र में राजनीति को बड़े स्तर पर प्रभावित करती हैं. चुनाव से नाराजगी का अंदेशा भांपकर पिछली सरकार ने सहकारी संस्थाओं के चुनाव नहीं करवाने में ही भलाई समझी थी. कई समितियां तो ऐसी हैं जिनके चुनाव तीन से चार साल से अटके हुए हैं. अब सरकार के निर्देश पर जून, 2020 से पहले सभी सहकारी संस्थाओं के चुनाव कराने की कवायद हो रही है.

18 हजार समितियों के होने हैं चुनाव
प्रदेश में चुनाव योग्य पंजीकृत सहकारी संस्थाओं की संख्या करीब 25 हजार है. इनमें से 18 हजार समितियों में जून से पहले चुनाव करवाए जाने हैं. सहकारी निर्वाचन प्राधिकरण इसमें जोर-शोर से जुट गया है. 

यह रहेगा पूरा कार्यक्रम
- दिसंबर-जनवरी माह में चुनाव का प्रथम चरण होगा.
- प्रथम चरण में करीब 1500 सहकारी समितियों के चुनाव होंगे.
- प्रथम चरण में प्राथमिक सहकारी समितियों के चुनाव होंगे.
- चुनाव का दूसरा चरण फरवरी महीने से शुरू होगा.
- दूसरे चरण में 6 हजार सहकारी समितियों के चुनाव होंगे.
- इस चरण में ग्राम सेवा सहकारी समितियों और क्रय-विक्रय समितियों के चुनाव होंगे.
- इसी चरण में जिला सहकारी हॉलसेल भण्डार के चुनाव भी होंगे.
- तीसरा चरण मई माह से शुरू होगा.
- इसमें 10 हजार से ज्यादा प्राथमिक दूग्ध सहकारी समितियों के चुनाव होंगे.
- जिला दुग्ध उत्पादक संघ और आरसीडीएफ के चुनाव भी होंगे.

पंचायतों का पुनर्गठन: HC ने 17 नवंबर और 12 दिसंबर को जारी अधिसूचना की रद्द

गहलोत सरकार का बड़ा कदम: शवों पर नहीं की जा सकेगी राजनीति, चलेगा कानून का डंडा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2019, 2:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर