जयपुर: बिल भुगतान के एवज में इंजीनियर ने मांगी 1 लाख की रिश्वत, ACB ने रंगे हाथों पकड़ा

एसीबी ने बड़ी कार्रवाई की है.
एसीबी ने बड़ी कार्रवाई की है.

राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) ने बड़ी कार्रवाई की है. एसीबी की टीम ने क्वाटर्स के निर्माण के लिए जारी बिल के भुगतान के एवज में रिश्वत मांगने वाले इंजीनियर को रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. 

  • Share this:
सौरभ गृहस्थी 

जयपुर. राजस्थान में एक सहायक अभियंता द्वारा रिश्वत (Bribe) लेने का मामला सामने आया है. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने शनिवार को एक बड़ी कार्रवाई करते हुए संविदा पर लगे एक सहायक अभियंता और एक एक्सइन को 1 लाख 26 हजार रुपये की रिश्वते लेते रंगे हाथों पकड़ा है. मामला सातवी बटालियन आरएसी में क्वाटर्स के निर्माण के लिए जारी कार्यादेश के बिलों (Bill) के भुगतान की एवज में रिश्वत मांगने का है. खास बात यह है कि आठ अक्टूबर को ही एक्सईन अशोक कुमार कोरोना वायरस से संक्रमित हो गया था.

दरअसल, भरतपुर में सातवीं बटालियन आरएसी में 35 क्वॉर्टर के निर्माण के लिए जारी कार्यादेश के बिलों के भूगतान के लिए रिश्वत का एसीबी ने भंडाफोड़ किया है. जानकारी के मुताबिक, पीड़ित जयकिशन से  राजस्थान पुलिस आवास निर्माण निगम लिमिटेड में संविदा पर लगे सहायक अभियंता गिर्राज सिंह चाहर ने बिलों के भुगतान के एवज में अपने लिए 2 प्रतिशत, डीजीएन एक्सईन अशोक कुमार के लिए 1 फीसदी और लेखा शाखा के कर्मचारियों के लिए 0.50 प्रतिशत के हिसाब से एसीबी सत्यापन के समय 68 हजार प्राप्त कर लिए थे. फिर नए बिलो की राशि के भुगतान के लिए 1 लाख 26 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है.



ये भी पढ़ें: दौसा: 500 फीट गहरे बोरवेल में गिरा बच्चा, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
जांच में हुआ खुलासा

एडिशनल एसपी चंचल मिश्रा के मुताबिक, एसीबी की शुरुआती जांच में इस मामले में कुछ अकांउट सेक्शन के कर्मचारियों की मिलीभगत भी सामने आई है. एसीबी ने संविदा पर लगे सहायक अभियंता गिर्राज सिंह चाहर के घर से विभाग से जुड़े कुछ दस्तावेज भी बरामद किया है. दरअसल, राजस्थान पुलिस आवासन निर्माण निगम लिमिटेड पुलिसकर्मियों के लिए क्वॉर्टर निर्माण का काम करता है. इसमें सहायता के लिए एक्सईन और एईन को डेपूटेशन पर राजस्थान पुलिस आवासन निर्माण निगम लिमिटेड में लगाया जाता है. इन दोनों अधिकारियों को भी इसी काम के लिए लगाया गया था, लेकिन दोनों यहां रिश्वत का खेल खेल रहे थे. जांच में सामने आया है कि आठ अक्टूबर को ही एक्सईन अशोक कुमार कोरोना पॉजिटिव आया था. अब एसीबी ने फिर उसकी जांच कराई है.




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज