Home /News /rajasthan /

Rajasthan News: जमीन का डिजिटल रिकॉर्ड होगा तैयार, पढ़ें कैसे मिलेगा आपको फायदा

Rajasthan News: जमीन का डिजिटल रिकॉर्ड होगा तैयार, पढ़ें कैसे मिलेगा आपको फायदा

राजस्थान में जमीन का डिजिटल रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा. (File)

राजस्थान में जमीन का डिजिटल रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा. (File)

Digital Record: राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का कहना है कि सेटेलाइट से मिली इमेज (Satellite Image), रिकॉर्ड में उपलब्ध नक्शों और धरातल की स्थिति का मिलान जमीन का एक फाइनल रिकॉर्ड बनाया जाएगा.

जयपुर. राजस्व विभाग (Revenue Department) तेजी से डिजिटलाइजेशन (digitization) की ओर आगे बढ़ रहा है. प्रदेश की तहसीलों को ऑनलाइन करने के बाद अब भूमि के डिजिटल सेटलमेंट (digital settlement) की कवायद हो रही है. डिजिटल सेटलमेंट के जरिए प्रदेश भर में भूमि का फाइनल रिकॉर्ड तैयार होगा. प्रदेश की 12 तहसीलों में पायलट प्रोजक्ट के तौर पर यह काम शुरू भी हो चुका है. राजस्व मंत्री हरीश चौधरी (Harish Chowdhary) के मुताबिक सेटेलाइट से मिली इमेज, रिकॉर्ड में उपलब्ध नक्शों और धरातल की स्थिति का मिलान कर यह फाइनल रिकॉर्ड (Final Record) तैयार होगा. इस तरह ये बिल्कुल एक्युरेट होगा जो लम्बे अरसे तक काम आएगा और इसमें कोई फेरबदल नहीं हो पाएगा. एक तरह से यह भूमि के फाइनल सेटलमेंट के रूप में होगा.

काश्तकारों को मिलेगा सुनवाई का मौका

अभी भूमि सम्बन्धी रिकॉर्ड मैनुअल रूप में उपलब्ध है. भूमि की हकदारी को लेकर विवाद भी बड़े स्तर पर है. इन विवादों के निपटारे में भी लम्बा वक्त लगता है जिसके चलते काश्तकारों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. अब नए सिरे से सर्वे के जरिए नए सिरे से भूमि का रिकॉर्ड तैयार होगा जो फाइनल होगा. राजस्व मंत्री का कहना है कि सेटेलाइट से मिली इमेज, नक्शों (Digital Map) की स्थिति और धरातल पर जमीन की स्थिति में अंतर होने पर काश्तकारों को सुनवाई का मौका दिया जाएगा और मामले के निस्तारण के बाद फाइनल स्टेटस रिकॉर्ड में दर्ज होगा. इस कार्य में समय जरुर लगेगा लेकिन आने वाले कई सालों तक के लिए समस्या हल हो जाएगी.

295 तहसील हो चुकीं ऑनलाइन

राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का कहना है कि 12 तहसीलों में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर काम पूरा हो जाने के बाद पूरे प्रदेश में यह कार्य किया जाएगा. इससे पहले राजस्व विभाग तहसीलों को भी ऑनलाइन कर चुका है. प्रदेश की 340 में से करीब 295 तहसीलें ऑनलाइन हो चुकी हैं जिससे किसानों से जुड़े कई काम ऑनलाइन हो रहे हैं और उन्हें दफ्तरों के चक्कर लगाने से निजात मिली है. शेष 45 तहसीलों को ऑनलाइन करने का काम प्रक्रियाधीन है. काश्तकारों को अपनी जमीन से जुड़े दस्तावेज अब ऑनलाइन उपलब्ध हैं.

Tags: CM Ashok Gehlot, Digital Platforms

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर