लाइव टीवी

लड़कियों के फोटो दिखाकर मीटिंग कराने के नाम पर ठगी का गोरखधंधा, पुलिस ने 7 को गिरफ्तार किया
Jaipur News in Hindi

Chain Singh Tanwar | News18 Rajasthan
Updated: February 4, 2020, 3:57 PM IST
लड़कियों के फोटो दिखाकर मीटिंग कराने के नाम पर ठगी का गोरखधंधा, पुलिस ने 7 को गिरफ्तार किया
सेक्स रैकेट.

राजस्थान पुलिस की एक स्पेशल टीम ने जयपुर कॉलगर्ल्स (Jaipur Call Girls) और जयपुर एस्कोर्ट (jaipur escorts) आदि नाम से इंटरनेट पर लड़कियों के प्रोफाइल दिखाकर कॉलगर्ल्स उपलब्ध करवाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले एक शातिर गिरोह का पर्दाफाश किया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के बूंदी में पुलिस की एक स्पेशल टीम ने कॉलगर्ल्स उपलब्ध करवाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले एक शातिर गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने इस गिरोह के मुख्य सरगना जयपुर निवासी कुलदीप पांडे समेत सात सदस्यों को गिरप्तार कर उनके कब्जे से 10 लाख रुपए नगद, एक लग्जरी कार और 22 मोबाइल बरामद किए हैं. जानकारी के अनुसार यह गिरोह जयपुर कॉलगर्ल्स (Jaipur Call Girls) और जयपुर एस्कोर्ट (jaipur escorts) आदि नाम से इंटरनेट पर लड़कियों के प्रोफाइल बनाकर लोगों को उनसे मीटिंग करवाने के नाम पर ठगी करता था.

पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता के अनुसार कुछ दिन पूर्व बूंदी निवासी एक व्यक्ति ने कोतवाली थाने में अपने साथ ऐसी ही ठगी की वारदात के संबंध में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी. इस मामले की तहकीकात में लगी स्पेशल टीम ने ही इस गिरोह का पर्दाफाश किया है. इस गिरोह के लोग लड़कियों के फोटो दिखाकर लोगों को कॉलगर्ल के नाम पर उनसे मिलवाने की बात करते हुए उनसे संपर्क बढ़ाता और फिर रुपए एंठने कर फरार हो जाते.

bundi police, call girl
बूंदी पुलिस की स्पेशल टीम ने इस गिरोह का पर्दाफाश करते हुए 7 को गिरफ्तार किया.


पहले 4 आरोपी पकड़े, उन्होंने सरगाना को पकड़वाया

बूंदी पुलिस ने प्रारंभिक जांच के बाद शेखर, महावीर, साजिद हुसैन और अजहर नाम के चार आरोपियों को हिरासत में लिया. ये सभी इंदौर के रहने वाले हैं. इनसे कड़ाई से पूछताछ के बाद पुलिस गिरोह के सरगना तक पहुंची. उन्हीं की निशानदेही पर पुलिस ने जयपुर निवासी मुख्य सरगना कुलदीप पांडे, मुकेश और रामशंकर को गिरप्तार किया है. पुलिस अब तक गिरोह के 7 सदस्यों को गिरफ्तार कर चुकी है.

bundi police, call girl
गिरोह का सरगना जयपुर का रहने वाला है.


ऐसे करते थे ठगीबूंदी पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता के अनुसार यह शातिर गैंग आर्थिकतौर पर सम्पन्न लोगों को अपने जाल में फंसाती. उन्हें लड़कियों के फोटो दिखाते और कॉलगर्ल्स बताते हुए उनसे मिलवाने के नाम पर अपने झांसे में लेते. व्यक्ति गिरोह के चंगुल में फंस जाता तब उससे कॉलगर्ल्स से मीटिंग के लिए एडवांस फीस के नाम पर मोटी रकम अपने खातों में ट्रांसफर करवाते. एक बार रुपए मिलने के बाद वो व्यक्ति का फोन नंबर ब्लॉक कर देते और फिर दूसरे शिकार की तलाश में जुट जाते.

20-22 साल के युवा निकले ठग
गिरोह में शामिल बदमाशों की औसत उम्र 20 से 22 वर्ष बताई गई है. इनमें आईटी डिग्री होल्डर भी शामिल हैं जिसके चलते ठगी में तकनीक का इस्तेमाल ऐसे करते जिससे आसानी से किसी के पकड़ में नहीं आते. यही कारण था कि दर्जनों लोगों के साथ ठगी के बाद भी पीड़ित व्यक्ति उनतक नहीं पहुंच सका.

गिरोह ने नौकरी पर रखे ठगी के लिए कर्मचारी, मल्टीपल अकांउट में जमा करवाते रुपए
कॉलगर्ल्स उपलब्ध करवाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह ने लोगों को जाल में फांसने के लिए नौकरी पर कर्मचारी रख रखे थे. उन्हीं कर्मचारियों के जरिए अलग-अलग खातों में ठगी की रकम जमा करवाते थे. इस रकम को तत्काल खातों से निकाल लेते थे.

ये भी पढ़ें- 

धूमधाम से शादी के बाद दूल्हा लापता, 5 दिन से पुलिस भी नहीं ढूंढ़ पाई

राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस का पलड़ा भारी,पढ़ें-राजस्थान की 3 सीटों का गणित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 9:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर