अपना शहर चुनें

States

Farmer Protest: राजस्थान में किसान आज उतरेंगे सड़कों पर, प्रदेशभर में 2 घंटे करेंगे चक्का जाम

केन्द्रीय कृषि बिलों का विरोध जताने के लिये राजस्थान के किसानों ने बुधवार को दिल्ली भी कूच किया था, लेकिन उन्हें हरियाणा बॉर्डर पर ही रोक दिया गया था. (सांकेतिक तस्वीर)
केन्द्रीय कृषि बिलों का विरोध जताने के लिये राजस्थान के किसानों ने बुधवार को दिल्ली भी कूच किया था, लेकिन उन्हें हरियाणा बॉर्डर पर ही रोक दिया गया था. (सांकेतिक तस्वीर)

Farmer Protest: राजस्थान में आज से किसान आंदोलन का आगाज कर रहे हैं. इसके तहत आज प्रदेशभर में दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक अलग-अलग जगह चक्का जाम (Traffic jam) किया जायेगा.

  • Share this:
जयपुर. केन्द्र सरकार की ओर से हाल ही में लाये गय 3 नये कृषि कानूनों के खिलाफ राजस्थान के किसान आज सड़कों पर उतरकर आंदोलन का आगाज करेंगे. इसके तहत आज प्रदेशभर में जगह-जगह 2 घंटे चक्का किया जायेगा. अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर दोपहर 12 से 2 बजे तक चक्का जाम किया जाएगा. किसानों की सांकेतिक रूप से दिल्ली-जयपुर हाईवे को भी जाम किये जाने की योजना है. उसके बाद आगामी दिनों में इस हाईवे को स्थायी रूप से जाम करने की रणनीति है.

जयपुर में किसान सूरजपोल मंडी पर करेंगे प्रदर्शन
इसमें वामपंथी दलों के साथ विभिन्न संगठन भी शामिल होंगे. राजधानी जयपुर में सूरजपोल मंडी पर किसान प्रदर्शन करेंगे. किसान संगठनों की ओर से इस आंदोलन को मजबूत करने के लिये प्रदेशभर में 1 दिसंबर से जनजागरण अभियान भी चलाया जा रहा है. यह 10 दिसंबर तक चलेगा. इसमें पुतला दहन, पर्चा वितरण, सभाओं-गोष्ठियों और धरना-प्रदर्शन के आयोजन किये जा रहे हैं. पंचायत चुनाव होने के बाद किसान अपने आंदोलन को गति देंगे.

Farmer Protest: दिल्ली जा रहे राजस्थान के किसानों को हरियाणा बॉर्डर पर रोका



कल दिल्ली जा रहे किसानों को हरियाणा बॉर्डर पर रोक दिया गया था
वहीं केन्द्रीय कृषि बिलों का विरोध जताने के लिये राजस्थान के किसानों ने बुधवार को दिल्ली भी कूच किया था, लेकिन उन्हें हरियाणा बॉर्डर पर ही रोक दिया गया था. इससे आक्रोशित किसान राजस्थान-हरियाणा के बॉर्डर पर ही धरना देकर बैठ गए थे. किसानों ने हरियाणा सरकार के इस कदम को अनुचित बताते हुये कहा था कि वह केन्द्र के इशारे पर उन्हें दिल्ली जाने से रोक रही है. उन्होंने इसे किसानों की आवाज दबाने की साजिश करार दिया था.

गहलोत सरकार ने पारित किये थे तीन संशोधित कानून
उल्लेखनीय है कि राजस्थान के किसान भी केन्द्रीय कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं. प्रदेश में इन कानून को बायपास करने के लिये पिछले माह गहलोत सरकार ने तीन संशाधित बिल विधानसभा में पारित कर राज्यपाल के पास भेजे थे. लेकिन राज्यपाल ने उन तीनों कानूनों को फिलहाल रोक लिया है. इससे इन संशोधित कानूनों के अस्तित्व में आने पर प्रश्नचिन्ह लग गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज