Farmers movement: उत्तर पश्चिम रेलवे ने रद्द की ये 2 ट्रेनें, एक का मार्ग बदला, देखें सूची

रेलवे का कहना है कि जब तक किसान आंदोलन चलेगा तब तक ट्रेनों के रद्द होने और मार्ग परिवर्तन करने का सिलसिला यूं ही जारी रहेगा.
रेलवे का कहना है कि जब तक किसान आंदोलन चलेगा तब तक ट्रेनों के रद्द होने और मार्ग परिवर्तन करने का सिलसिला यूं ही जारी रहेगा.

Railway services: पंजाब में चल रहे किसान आंदोलन (Farmers movement) के कारण उत्तर पश्चिम रेलवे ने इस राज्य से गुजरने वाली अपनी दो ट्रेनों को रद्द (Canceled) कर दिया है. वहीं एक लालगढ़-डिब्रूगढ़ ट्रेन का मार्ग बदल दिया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के पड़ोसी राज्य पंजाब में चल रहे किसान आंदोलन (Farmers movement) के कारण रेल सेवाओं का शेड्यूल (Train schedule) लगातार गड़बड़ाता जा रहा है. आंदोलन के कारण उत्तर पश्चिम रेलवे ने एक बार फिर मंगलवार और बुधवार के लिये लंबी दूरी की दो ट्रेनों को रद्द (Canceled) कर दिया है. वहीं एक ट्रेन का मार्ग बदल दिया है. इस आंदोलन के कारण ट्रेनों को रद्द करने और मार्ग परिवर्तन किये जाने का सिलसिला पिछले कई दिनों से लगातार चल रहा है.

उत्तर पश्चिम रेलवे का कहना है कि जब तक किसान आंदोलन चलेगा तब तक ट्रेनों के रद्द होने और मार्ग परिवर्तन करने का सिलसिला यूं ही जारी रहेगा. फिलहाल एक बार फिर किसान आंदोलन के कारण दो ट्रेनों को रद्द किया गया है. इससे यात्रियों को परेशानी तो हो रही है, लेकिन रेलवे के पास इसके अलावा कोई विकल्प नहीं है.

Weather Update: राजस्थान में कोहरे ने डाला डेरा, ट्रेनों का शेड्यूल गड़बड़ाया, जनजीवन प्रभावित



ये रेल सेवायें की गई हैं रद्द
1. 02422 जम्मूतवी-अजमेर प्रतिदिन 17 और 18 नवंबर को
2. 02421 अजमेर-जम्मूतवी प्रतिदिन 18 और 19 नवंबर को

इस ट्रेन का बदला गया है मार्ग
1. गाड़ी संख्या 05910 लालगढ़-डिब्रूगढ़ रेलसेवा-17 और 18 नवंबर को लालगढ़ से प्रस्थान करने वाली यह ट्रेन परिवर्तित मार्ग वाया हनुमानगढ़-सादुलपुर-हिसार-भिवानी और रोहतक होकर संचालित होगी.

गुर्जर आरक्षण आंदोलन से भी प्रभावित हुआ था ट्रेनों का शेड्यूल
उल्लेखनीय है कि इससे पहले राजस्थान में चल रहे गुर्जर आरक्षण आंदोलन के कारण भी उत्तर पश्चिम रेलवे ने दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर संचालित होने वाली अपनी ट्रेनों का 12 दिन तक मार्ग बदला था. इस आंदोलन के कारण गुर्जर प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग पर भरतपुर जिले के पीलूपुरा में रेलवे ट्रैक पर कब्जा कर वहां तम्बू तान रखे थे. लेकिन इस अवरोध के बावजूद इस मार्ग पर एक भी ट्रेन को रद्द नहीं किया गया था उनका केवल मार्ग बदला गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज