लाइव टीवी

जंगलों में इंसान का दखल होगा कम, धड़धड़ाते वाहनों की जगह चलेंगे सुपर साइलेंट व्हीकल
Jaipur News in Hindi

Arbaaz Ahmed | News18 Rajasthan
Updated: February 7, 2019, 6:03 PM IST
जंगलों में इंसान का दखल होगा कम, धड़धड़ाते वाहनों की जगह चलेंगे सुपर साइलेंट व्हीकल
सुपर साइलेंट वाहन

जंगल में इंसान की दखल को कम करने के लिए बैटरी के चलने वाले वाहनों का इस्तेमाल किया जाएगा. उन्होंने कहा कि वन विभाग झालाना के जंगल में बैटरी ऑपरेटेड सुपर साइलेंट व्हीकल की शुरूआत कर रहा है.

  • Share this:
राजस्थान के जंगल में इंसान के दखल पर शुरू से ही सवाल खड़े किए जाते हैं. राजस्थान की प्रगति और रोजगार के लिए पर्यटन भी जरूरी है. इस दखल से जंगल को इंसानों से होने वाले नुकसान को भी कम करना है. फिलहाल वन विभाग ने इसका हल एक सुपर साइलेंट व्हीकल के रूप में निकाला है. इसकी वजह के जंगल में इंसान की मौजूदगी बिल्कुल शांत हो जाएगी. ये सुपर साइलेंट व्हीकल जंगल में न सिर्फ शोर को कम करेगी, बल्कि प्रदूषण और वन्यजीवों को होने वाले डिस्टर्बेंस को भी कम करेगा.

जयपुर के वाइल्ड लाइफ के डीएसएफ सुरदर्शन शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि जंगल में इंसान की दखल को कम करने के लिए बैटरी के चलने वाले वाहनों का इस्तेमाल किया जाएगा. उन्होंने कहा कि वन विभाग झालाना के जंगल में बैटरी ऑपरेटेड सुपर साइलेंट व्हीकल की शुरूआत कर रहा है. ये वाहन जंगल के लिए काफी पावरफुल भी है और साइलेंट भी है. इन वाहनों से प्रदूषण भी नहीं होगा और वन्यजीवों की कदरती जिंदगी में दखल भी कम होता है. सुदर्शन शर्मा ने बताया कि 14 लाख रुपये की कीमत वाले ये वाहन एक बार चार्ज करने में 120 किलोमीटर तक दौड़ सकते हैं. फिलहाल वन विभाग झालाना के जंगल में ऐसे छह वाहनों से इसकी शुरूआत करेगा.

देश में पीएम नरेंद्र मोदी प्रदूषण के हालात को कम करने के लिए इस बात को लेकर पहले भी आह्वान कर चुके हैं कि जंगलों में बैटरी से संचालित वाहनों का इस्तेमाल कर उन्हें बढ़ावा देना चाहिए. इस मामले में कहीं काम हुआ या नहीं, लेकिन राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जरूर इस पर्यावरण फ्रेंडली कॉन्सेप्ट की शुरूआत राजस्थआन से कर रहे हैं. इस नए कॉन्सेप्ट से प्रदेश के जंगल में इंसाल की दखल तो कम नहीं होगा, लेकिन इंसानी दखल से होने वाले नुकसान को जरूर कम किया जा सकेगा.



यह भी पढ़ें-  राजस्थान: जंगलों में मचान पर बैठकर की गई जानवरों की गिनती



यह भी पढ़ें- आदिवासी समाज के 11 संगठनों ने जल, जंगल और जमीन पर मांगा हक

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2019, 4:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading