• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Inside story: दौसा के पूर्व SP मनीष अग्रवाल ने दलालों को सौंप दिया था पूरा सिस्टम, जमकर मचाई लूट- ACB

Inside story: दौसा के पूर्व SP मनीष अग्रवाल ने दलालों को सौंप दिया था पूरा सिस्टम, जमकर मचाई लूट- ACB

ACB की गिरफ्त में आये IPS मनीष अग्रवाल की भ्रष्टाचार की गाथा दिल्ली-वडोदरा 8 लेन एक्सप्रेस-वे से जुड़ी हुई है.

ACB की गिरफ्त में आये IPS मनीष अग्रवाल की भ्रष्टाचार की गाथा दिल्ली-वडोदरा 8 लेन एक्सप्रेस-वे से जुड़ी हुई है.

Anti-Corruption Bureau Investigation: भ्रष्टाचार के केस में एसीबी की गिरफ्त में आये दौसा के पूर्व पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल (IPS Manish Agarwal) पर बहुत ही गंभीर आरोप लग रहे हैं.

  • Share this:

जयपुर. घूसखोरी के मामले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti-Corruption Bureau) के शिकंजे में फंसे दौसा के पूर्व पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल (IPS Manish Agarwal) के भ्रष्टाचार का पूरा नेटवर्क दलालों के हाथ में था. दौसा जिले में पुलिस अधीक्षक रहते हुये अग्रवाल ने कानून व्यवस्था की पूरी कमान दलालों के हाथ में सौंप दी थी. उनके इसी भ्रष्टाचार ने जिले की कानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट कर दी. पूरे इलाके में विकास कार्य दलाली के कारण ठप हो गये. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की जांच में चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं.

भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी मनीष अग्रवाल को खाकी भले ही कानून व्यवस्था की पालना के लिए पहनी थी, लेकिन दौसा में पुलिस अधीक्षक के पद पर रहते हुये उन्होंने अपने सभी अधिकारों को पूरी तरह से दलालों के हाथों में सौंप दिया था. ये हम नहीं कह रहे, बल्कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा दर्ज एफआईआर उनके काले कारनामों का खुलासा कर रही है.

भ्रष्टाचार की लंबी फेहरिस्‍त
IPS मनीष अग्रवाल की भ्रष्टाचार की गाथा दिल्ली-वडोदरा 8 लेन एक्सप्रेस-वे से जुड़ी हुई है. इस राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण से जहां केन्द्र एवं राज्य सरकार विकास के सपने सजां रही थी, वहीं आईपीएस मनीष अग्रवाल ने 1800 करोड़ रुपये की इस एक्सप्रेस-वे निर्माण को काली कमाई का गोरखधंधा बना लिया था।. दिल्ली-वडोदरा एक्सप्रेस-वे का निर्माण हरियाणा की के.सी.सी. बिल्डकॉन कंपनी कर रही है. इस कंपनी के राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण में कुल 110 वाहन चल रहे हैं.

प्रति वाहन प्रति महीना मासिक बंधी लेते थे एसपी
कंपनी के प्रतिनिधि परिवादी इकबाल सिंह ने एसीबी को बताया कि दौसा के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल द्वारा कंपनी से मासिक बंधी ली जाती है. ये मासिक बंधी विकास कार्यों में लगे हुए पूरे 100 वाहनों पर ली जाती है. आईपीएस मनीष अग्रवाल 4000 रुपए प्रति वाहन प्रति महीना मासिक बंधी ले रहा है. यही नहीं इस कंपनी के खिलाफ 385/20 मुकदमे को रफा दफा करने की एवज में भी 10 लाख रुपए की घूस आईपीएस मनीष अग्रवाल ने मांगी है.

कंपनी को वर्दी का रौब दिखाने का आरोप
तत्कालीन दौसा पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल ने मासिक बंधी देने में आना-कानी करने पर कंपनी को वर्दी का रौब दिखाया. सड़क निर्माण कार्य में लगे उनके वाहनों के खिलाफ अचानक धरपकड़ अभियान शुरू कर दिया. के.सी.सी. कंपनी पर मंथली वसूली का दवाब बनाने के लिए एक्सप्रेस-वे निर्माण में लगे हुए वाहनों के भारी-भरकम चालान काटना शुरू करवा दिया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज