अपना शहर चुनें

States

Rajasthan: बीटीपी के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिये गहलोत सरकार ने बनाया ये मेगा प्लान

वन धन विकास केन्द्रों में न्यूनतम 60 प्रतिशत सदस्य जनजाति समुदाय से होंगे.
वन धन विकास केन्द्रों में न्यूनतम 60 प्रतिशत सदस्य जनजाति समुदाय से होंगे.

प्रदेश के आदिवासी अंचल में बढ़ रहे बीटीपी (BTP) के प्रभाव को थामने के लिये राज्य की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने मेगा प्लान तैयार किया है. इसके तहत आदिवासी बाहुल्य 8 जिलों में वन धन विकास योजना (Van Dhan Vikas Yojana) को लागू किया जा रहा है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने आदिवासी क्षेत्रों में बीटीपी (BTP) के बढ़ते प्रभाव पर अंकुश लगाने की कवायद के तहत आदिवासी जिलों के विकास पर फोकस तेज कर दिया है. इसके तहत राज्य के जनजाति उपयोजना, सहरिया तथा माडा क्षेत्र के 8 जिलों में ट्राईफेड के माध्यम से वन धन विकास योजना (Van Dhan Vikas Yojana) लागू होगी. प्रमुख शासन सचिव जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग शिखर अग्रवाल ने बताया कि यह योजना प्रारम्भ में राज्य के 8 जिलों उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़, सिरोही, कोटा, बारां तथा झालावाड़ में लागू की जा रही है.

योजना के तहत 300 सदस्यीय 555 वन धन विकास केन्द्र का गठन राजीविका तथा ग्राम वन सुरक्षा एवं प्रबन्धकीय समितियों के स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से किया जायेगा. शिखर अग्रवाल ने बताया कि वन धन विकास केन्द्रों में न्यूनतम 60 प्रतिशत सदस्य जनजाति समुदाय से होंगे. प्रत्येक वन धन विकास केन्द्र के सदस्यों को क्षेत्र में उपलब्ध लधु वन, कृषि, आयुर्वेदिक औषधीय उपजों इत्यादि के संग्रहण, मूल्य संवर्धन, पैंकिंग और विपणन इत्यादि का प्रशिक्षण दिया जायेगा. उन्हें आवश्यकता के अनुरूप टूल किट इत्यादि भी उपलब्ध कराये जायेंगे.

Rajasthan: लंबा हुआ राजनीतिक नियुक्तियों का इंतजार, अभी लगेगा और वक्त, यह है बड़ी वजह

बीटीपी का बढ़ रहा है प्रभाव


हाल ही में संपन्न हुए जिला परिषद एवं पंचायत समितियों के चुनाव में आदिवासी बाहुल्य जिलों में कांग्रेस को उम्मीद के अनुरूप सफलता नहीं मिली थी. आदिवासी इलाकों में बीटीपी ने अच्छा प्रदर्शन किया था. बीटीपी डूंगरपुर जिले में अपना जिला प्रमुख बनाने की स्थिति में भी आ गई थी. वहीं इस बार विधानसभा चुनाव में बीटीपी ने धमाकेदार उपस्थिति दर्ज कराते हुये दो विधानसभा सीटों पर कब्जा जमा लिया था. ग्रामीण इलाकों में बीटीपी अपनी पकड़ मजबूत करती जा रही है. आदिवासी जिलों में परंपरागत तौर पर कांग्रेस का वर्चस्व रहा है. लेकिन उसकी यह पकड़ इन इलाकों में कमजोर होती जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज