राजस्‍थान: Lockdown में फंसे मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाएगी गहलोत सरकार
Jaipur News in Hindi

राजस्‍थान: Lockdown में फंसे मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाएगी गहलोत सरकार
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रवासियों- श्रमिकों को पूरे प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने-अपने राज्यों में पहुंचाना बड़ी चुनौती है. (फाइल फोटो)

सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि प्रवासियों को घर आने के लिए हेल्पलाइन नंबर 18001806127, ई मित्र पोर्टल, ई-मित्र मोबाइल एप अथवा ई-मित्र कियोस्क पर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

  • Share this:
जयपुर. लॉकडाउन (Lockdown) में देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों की घर वापसी होगी. सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के प्रयासों के बाद अब सभी प्रवासियों की घर वापसी का रास्ता साफ हो गया है. उनको चरणबद्ध तरीके से लाया जाएगा, इसके लिए पहले संबंधित राज्य सरकार से अनुमति ली जाएगी, फिर रोडवेज की बसों से उन्हें अन्‍य राज्‍यों से राजस्‍थान लाकर उनके घर तक पहुंचाया जाएगा. सीएम अशोक गहलोत ने वरिष्ठ अफसरों और कलेक्टरों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करके प्रवासी राजस्थानियों को भी घर लाने का फैसला किया.

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि प्रवासियों को घर आने के लिए पहले हेल्पलाइन नंबर 18001806127, ई मित्र पोर्टल, ई-मित्र मोबाइल एप अथवा ई-मित्र कियोस्क पर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. श्रमिकों के रजिस्ट्रेशन के बाद राज्य सरकार संबंधित राज्य सरकार से सहमति प्राप्त करेगी. पंजीकृत प्रवासी और श्रमिकों की संख्या के अनुसार उन्हें तय तारीख पर अपने घर जाने की व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी. जो व्यक्ति अपने वाहन से आना चाहेगा उसे रजिस्ट्रेशन में इसका उल्लेख करना होगा. सीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए नियत स्थान पर पहुंचने के बाद प्रवासियों और श्रमिकों को क्वारेंटाइन किया जाएगा. जो प्रवासी या श्रमिक कर्फ्यू पास लेकर निजी वाहनों से आएंगे, उन्हें राज्य में एंट्री प्वाइंट पर रजिस्टेशन के बाद आने दिया जाएगा और नियत स्थान पर पहुंचने के बाद क्वारेंटाइन किया जाएगा. राजस्थान से निजी वाहनों से बाहर जाने वाले प्रवासियों को भी जिला कलेक्टर की ओर से चरणबद्ध रूप से पास जारी किए जाएंगे.

पर्याप्त बसों और स्क्रीनिंग की व्यवस्था के निर्देश
सीएम ने प्रवासियों को राज्य में लाने के लिए परिवहन विभाग को बसों की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्दश दिए हैं. साथ ही चिकित्सा विभाग को बाहर से आने वाले हर प्रवासी की कोरोना स्क्रीनिंग और जांच की व्यवस्था करने के निर्देश दिए. स्थानीय जिला प्रशासन को राज्य की सीमाओं पर अस्थायी आवास और भोजन आदि की व्यवस्था का प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने प्रवासी श्रमिकों से अपील की है कि कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए आवागमन में सहूलियत के लिए अनुशासन के साथ प्रशासन का पूरा सहयोग करें. उन्होंने कहा कि सभी लोग अपने साथ आवश्यक पहचान पत्र, अगर पूर्व में कोरोना जांच की गई है तो उसके दस्तावेज साथ रखें. साथ ही कोई जानकार न छुपाएं.
नियमों का उल्लंघन किया तो होगी कार्रवाई


सीएम गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार सभी प्रवासियों को सकुशल उनके घर पहुंचाना चाहती है, लेकिन संक्रमण से बचाव के लिए उनका सहयोग महत्वपूर्ण है. कोई भी व्यक्ति नियमों का उल्लंघन करेगा तो सख्त कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि सरकार ने क्वारेंटाइन में रहने वाले सभी लोगों की कोविड-19 क्वारेंटाइन अलर्ट सिस्टम, राज कोविड-19 इन्फो एप के माध्यम से ऑनलाइन ट्रैकिंग की व्यवस्था की है. यदि कोई व्यक्ति क्वारेंटाइन एरिया से बाहर जाता है तो उसके विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी. सीएम ने अपील की है कि ग्रामवासी किसी भी स्थान से आए व्यक्ति की सूचना स्थानीय प्रशासन को दें, ताकि क्वारेंटाइन के नियम की पालना करवाई जा सके. 

ये भी पढ़ें- 

रोहतास में हथियारबंद अपराधियों ने मुखिया पति को सरेआम मारी गोली

खुलासा: मटन पार्टी के दौरान बना प्लान और लूट लिए बैंक से 14 लाख रुपए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज