अपना शहर चुनें

States

गहलोत या पायलट: जोधपुर की यह सीट तय करेगी कौन होगा कांग्रेस का CM चेहरा

कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भी इस बात को लेकर असमंजस है कि चुनाव जीतने की स्थिति में मुख्‍यमंत्री कौन होगा अशोक गहलोत या सचिन पायलट.
कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भी इस बात को लेकर असमंजस है कि चुनाव जीतने की स्थिति में मुख्‍यमंत्री कौन होगा अशोक गहलोत या सचिन पायलट.

कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भी इस बात को लेकर असमंजस है कि चुनाव जीतने की स्थिति में मुख्‍यमंत्री कौन होगा अशोक गहलोत या सचिन पायलट.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2018, 10:19 PM IST
  • Share this:
राजस्‍थान विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस अपने उम्‍मीदवारों की पहली सूची को अंतिम रूप देने में जुटी हुई है. इसी बीच सबकी नजरें जोधपुर जिले की एक सीट पर टिकी हुई है. 1998 से इस सीट से अशोक गहलोत जीत रहे हैं. यह सीट है सरदारपुरा. इस सीट पर कांग्रेस उम्‍मीदवार की घोषणा से साफ हो जाएगा कि अशोक गहलोत की राजस्‍थान के चुनावों में क्‍या और कितनी भूमिका रहेगी. हाल के दिनों में गहलोत राहुल गांधी के भरोसेमंद बनकर उभरे हैं. वे राष्‍ट्रीय परिदृश्‍य में बड़े नेता के रूप में सक्रिय नजर आ रहे हैं.

राजस्‍थान कांग्रेस में अभी गहलोत के साथ ही प्रदेशाध्‍यक्ष सचिन पायलट भी मुख्‍यमंत्री पद की दावेदारी में हैं. पायलट ने अभी तक कभी भी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ा है. हालांकि वे लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं और केंद्र में मंत्री पद की जिम्‍मेदारी संभाल चुके हैं. कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भी इस बात को लेकर असमंजस है कि चुनाव जीतने की स्थिति में मुख्‍यमंत्री कौन होगा. यह मामला इसलिए भी बड़ा बन जाता है क्‍योंकि कांग्रेस में दो खेमे सक्रिय हैं. एक गहलोत समर्थक है जबकि दूसरा पायलट के साथ है.

कांग्रेस के साथ कुछ ऐसी ही स्थिति मध्‍य प्रदेश में भी है. यहां पर ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह मुख्‍यमंत्री पद के दावेदार हैं. लेकिन इनमें से किसी को भी विधानसभा चुनाव लड़ने का टिकट नहीं दिया गया है. सिंधिया और कमलनाथ वर्तमान में लोकसभा सांसद हैं तो दिग्विजय राज्‍य सभा के सदस्‍य हैं.



इधर, राजस्थान में गहलोत दो दशकों से विधानसभा के सदस्‍य हैं जबकि पायलट अभी किसी सदन के सदस्‍य नहीं है. वे 2014 में अजमेर लोकसभा सीट से चुनाव हार गए थे. इसके बाद उन्‍होंने विधानसभा या लोकसभा का उपचुनाव भी नहीं लड़ा. गहलोत पांच बार लोकसभा सांसद रहे हैं और इंदिरा गांधी, राजीव गांधी व नरसिम्‍हा राव की सरकारों में मंत्री रहे हैं. कांग्रेस राज्‍य में सीएम उम्‍मीदवार से जुड़े सवाल को भी टालती रही है.
सोमवार को जब वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा गया राजस्‍थान में कांग्रेस के जीतने पर मुख्‍यमंत्री कौन बनेगा तो उनका जवाब था, 'यदि कांग्रेस सत्‍ता में आती है तो गहलोत या पायलट में से कोई एक सीएम बनेगा.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज