हाथरस केस पर बोले गहलोत, BJP के बड़े नेता राजस्थान आएं, हम पुलिस प्रोटेक्शन देंगे

सीएम ने कहा कि जब खेरवाड़ा में घटना हुई तो मदन दिलावर सहित बीजेपी के 3 नेता गए तो हमने तो नहीं रोका.
सीएम ने कहा कि जब खेरवाड़ा में घटना हुई तो मदन दिलावर सहित बीजेपी के 3 नेता गए तो हमने तो नहीं रोका.

Hathras case: सीएम अशोक गहलोत ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को हाथरस जाने से रोकने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा है कि राष्ट्रीय स्तर का मुख्य विपक्षी दल का नेता (Leader of the opposition party) घटनास्थल जाना चाहता है उसे रोकना क्यों चाहिए ?

  • Share this:
जयपुर. सीएम अशोक गहलोत ने उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में जाने से राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को रोके जाने की घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है. इस मसले पर सीएम गहलोत ने बीजेपी (BJP) पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष का धर्म है कि राजस्थान में भी यदि कोई घटना होती है तो उनके बड़े नेता यहां आएं. हम उन्हें पुलिस प्रोटेक्शन (Police protection) के साथ घटनास्थल जाने के लिए अनुमति देंगे. शुक्रवार को यहां सचिवालय में मीडिया से बातचीत में गहलोत ने यूपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि डेमोक्रेसी के अंदर कोई राष्ट्रीय स्तर का मुख्य विपक्षी दल का नेता घटनास्थल जाना चाहता है उसे रोकना क्यों चाहिए ?

बीजेपी नेताओं को हमने नहीं रोका
सीएम ने कहा कि जब खेरवाड़ा में घटना हुई तो मदन दिलावर सहित बीजेपी के 3 नेता गए तो हमने तो नहीं रोका. उनको जाना चाहिए. वास्तव में घटना क्यों हुई यह देखना विपक्ष का काम है. उन्होंने कहा कि हाथरस जैसी घटना कभी नहीं देखी गई. उन्होंने राहुल और प्रियंका गांधी के हाथरस के बजाय राजस्थान में आने को लेकर किए गए कटाक्ष पर कहा कि यह बेहूदा तर्क है. हाथरस में वे दोनों नेता विपक्ष के प्रमुख नेता के रूप में जा रहे थे. आप विपक्ष के नेता के रूप में राजस्थान आओ हम पुलिस प्रोटेक्शन के साथ अनुमति देंगे.


सवाई माधोपुर नाबालिग रेप केस: BJP महिला नेत्री ने महज 2000 रुपयों की खातिर पीड़िता को इलेक्ट्रीशियन के हाथों सौंपा



कोरोना के प्रति लोग लापरवाह हो रहे हैं
सीएम ने कहा कि लोग कोरोना के प्रति लापरवाह होते जा रहे हैं. पहले जागरुकता अभियान 15 दिन का चला था. इसमें मीडिया ने भी साथ दिया था. उसके बाद 11 शहरों में धारा 144 लगाई गई, लेकिन अब अनलॉक होने के बाद लोग लापरवाह हो रहे हैं. सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं कर रहे हैं. भीड़ में जा रहे हैं और मास्क नहीं लगा रहे हैं. ऐसे में जब हमने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विशेषज्ञ डॉक्टर्स से बात की तो यही निकल कर सामने आया कि 1 महीने अगर लोग मास्क लगा लें और प्रोटोकॉल की पालना करें तो संक्रमण बढ़ने की दर काफी कम हो सकती है. इसलिए हमने से जन आंदोलन शुरू करने का निर्णय किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज