अपना शहर चुनें

States

Rajasthan: 200 करोड़ की लागत से 158 सहकारी समितियों में बनाये जायेंगे बड़े गोदाम

योजना के मुताबिक 158 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में 100 मीट्रिक टन से 5 हजार मीट्रिक टन क्षमता के गोदाम बनेंगे.
योजना के मुताबिक 158 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में 100 मीट्रिक टन से 5 हजार मीट्रिक टन क्षमता के गोदाम बनेंगे.

प्रदेश में 158 ग्राम सेवा सहकारी समितियों (Co-operative societies) में 100 मीट्रिक टन से 5 हजार मीट्रिक टन क्षमता के गोदाम बनाये जायेंगे. वहीं 303 सहकारी समितियां मल्टी सर्विस सेन्टर (Multi Service Center) के रूप में विकसित होंगी.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की सहकारी समितियों (Co-operative societies) में 200 करोड़ रुपए खर्च कर मल्टी सर्विस सेन्टर और गोदामों (Godowns) का निर्माण कराया जायेगा. शुरुआत में 461 सहकारी समितियों में यह सेवा उपलब्ध होगी. सहकारिता रजिस्ट्रार मुक्तानंद अग्रवाल ने अधिकारियों को इस संबंध में चिन्हित समितियों के प्रस्ताव जल्दी भिजवाने के निर्देश दिए हैं.

रजिस्ट्रार ने निर्देश दिए हैं कि बजट घोषणा 2019-20 और आरकेवीवाई योजना 2019-20 के तहत स्वीकृत गोदाम निर्माण को 31 जनवरी तक पूरा किया जाए ताकि इनका उपयोग सुनिश्चित किया जा सके. इस संबंध में 30 नवंबर तक आवश्यक रूप से प्रस्ताव भिजवाने के निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने अतिरिक्त खण्डीय रजिस्ट्रारों और फंक्शनल अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे लगातार क्लोज मॉनिटंरिग कर इन कार्यों को पूरा करवाएं.

158 समितियों में बनेंगे गोदाम
योजना के मुताबिक 158 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में 100 मीट्रिक टन से 5 हजार मीट्रिक टन क्षमता के गोदाम बनेंगे. इन पर करीब 100 करोड़ की राशि खर्च होगी. इस संबंध में 49 सहकारी समितियों के गोदाम निर्माण के प्रस्ताव भी मिल चुके हैं. शेष 109 समितियों के प्रस्ताव 5 दिसंबर तक पोर्टल पर अपलोड करने के निर्देश दिए गए हैं.
Dungarpur: रात को प्रेमिका से मिलने आये युवक की पोल खुली तो भागा, बिना मुंडेर के कुंए में गिरा, मौत



303 समितियां होंगी मल्टी सर्विस सेंटर
वहीं प्रदेश की 303 सहकारी समितियां मल्टी सर्विस सेन्टर के रूप में विकसित होंगी. इस कार्य पर भी करीब 100 करोड़ रूपये खर्च होंगे. 10 दिसम्बर तक संबंधित समितियों की प्रोजेक्ट रिपोर्ट भिजवाने के निर्देश दिए गए हैं. रजिस्ट्रार ने कहा कि ग्राम सेवा सहकारी समितियों को कृषि सेवा केन्द्र के रूप में विकसित करने के लिए उन्हें मल्टी सेवा केन्द्र के रूप में परिवर्तित किया जाना है.

कस्टम हायरिंग सेंटर की स्थापना के लिए 8 करोड़ की राशि आवंटित
उधर 100 ग्राम सेवा और क्रय विक्रय सहकारी समितियों में कस्टम हायरिंग सेंटर की स्थापना के लिए 8 करोड़ की राशि आवंटित की जा चुकी है. रजिस्ट्रार ने निर्देश दिए हैं कि समितियों में कस्टम हायरिंग सेन्टर की सुविधा जल्द से जल्द उपलब्ध कराए ताकि इस फसली सीजन में किसानों को इसका लाभ मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज