अपना शहर चुनें

States

Rajasthan: किसानों के लिये खुशखबरी, मूंग और मूंगफली खरीद की पंजीयन सीमा को 10 फीसदी बढ़ाया

दलहन एवं तिलहन की खरीद क्रय केन्द्रों पर भारत सरकार द्वारा निर्धारित मापदण्डों के अनुरूप खरीद की जा रही है.
दलहन एवं तिलहन की खरीद क्रय केन्द्रों पर भारत सरकार द्वारा निर्धारित मापदण्डों के अनुरूप खरीद की जा रही है.

राज्य सरकार ने किसानों (Farmers) को बड़ा तोहफा देते हुये मूंग और मूंगफली (Moong and groundnut) के खरीद केन्द्रों पर पंजीयन की सीमा (Registration limit) में 10 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश के किसानों के लिये खुशखबरी (Good News) है. राज्य सरकार ने समर्थन मूल्य पर मूंग और मूंगफली (Moong and groundnut) खरीद की पंजीयन सीमा (Registration limit) को 10 प्रतिशत बढ़ा दिया है. इससे प्रदेश के हजारों किसानों को लाभ होगा. पंजीयन सीमा मूंग व मूंगफली के सभी खरीद केन्द्रों पर समान रूप से बढ़ाई गई है. राज्य सरकार के इस कदम से किसानों में उत्साह की लहर है.

सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना ने सोमवार को बताया कि राज्य में समर्थन मूल्य पर मूंग एवं मूंगफली की खरीद के लिए पंजीयन की सीमा को 10 प्रतिशत बढ़ाया गया है. मूंगफली के सभी 266 एवं मूंग के 365 खरीद केन्द्रों पर पंजीयन सीमा को समान रूप से बढ़ाया है. इस निर्णय से प्रदेश के 29 हजार 250 किसानों को लाभ मिलेगा. किसान लंबे समय से पंजीकरण सीमा बढ़ाने की मांग कर रहे थे.

राजस्थान में अब न्यू ईयर पर भी नहीं कर पायेंगे आतिशबाजी, गहलोत सरकार ने लगाई रोक

किसानों को 49.42 करोड़ रुपये का भुगतान किया


आंजना ने बताया कि पंजीयन सीमा बढ़ाने से मूंग के 14 हजार 300 किसान और मूंगफली के 14 हजार 950 किसान और लाभान्वित होंगे. समर्थन मूल्य पर चल रही खरीद से अब तक 17221 किसानों से 213.81 करोड़ रूपये की खरीद की जा चुकी है. किसानों को 49.42 करोड़ रुपये का भुगतान भी किया जा चुका है. मूंगफली की 30638 मीट्रिक टन और मूंग की 7253 मीट्रिक टन की खरीद की गई है.

भुगतान किसानों के खातों में ऑनलाइन किया जा रहा है
सहकारिता मंत्री ने बताया कि मूंग के लिए 53828 और मूंगफली के लिए 77274 किसानों ने समर्थन मूल्य पर उपज बेचान के लिए पंजीयन कराया है. दलहन एवं तिलहन की खरीद क्रय केन्द्रों पर भारत सरकार द्वारा निर्धारित मापदण्डों के अनुरूप खरीद की जा रही है. किसानों से क्रय किए गए जिंस का भुगतान उनके खातों में ऑनलाइन हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज